विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष बनीं राबड़ी देवी

पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी बिहार विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभाएंगी. विधान परिषद में राष्ट्रीय जनता दल के सदस्यों की संख्या बढ़ने के साथ ही अब राबड़ी देवी को विधान परिषद के कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह ने नेता प्रतिपक्ष का दर्जा दे दिया है. बिहार विधान परिषद के सचिव की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के अनुरोध पर कार्यकारी सभापति ने विधान परिषद में राजद के सदस्यों की संख्या के आधार पर राबड़ी देवी को नेता प्रतिपक्ष की मान्यता 11 अप्रैल 2022 के प्रभाव से दे दी है. आपको बता दें कि विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष के लिए विपक्ष के सदस्यों की संख्या कम से कम 8 होनी चाहिए . हाल में संपन्न विधान परिषद चुनाव से पहले विधान परिषद में राजद के सदस्यों की कुल संख्या 5 थी. अप्रैल महीने में 24 सीटों के लिए हुए चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल के छह सदस्यों ने जीत दर्ज की है जिसके बाद विधान परिषद में राजद के सदस्यों की संख्या बढ़कर 11 हो गई है. सदस्यों की संख्या बढ़ने के साथ ही विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष के रूप में राबड़ी देवी को भी मान्यता मिल गई है. इस तरह अब बिहार विधानमंडल के दोनों सदनों में राष्ट्रीय जनता दल को विपक्ष का नेता का दर्जा मिल गया है. बिहार विधानसभा में तेजस्वी यादव नेता प्रतिपक्ष है. pncb

Read more

सफल बजट सत्र के लिए सभी दलों से सहयोग की अपील

बिहार विधानमंडल का बजट सत्र 19 फरवरी से शुरू हो रहा है. बजट सत्र से पहले बिहार विधान परिषद के 197वें सत्र के सफल संचालन को लेकर कार्यकारी सभापति ने बुधवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई. इस बैठक में संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी, स्वास्थ्य विभाग के मंत्री मंगल पांडेय, भाााजपा सदस्य नवल किशोर यादव, केदार नाथ पांडेय, नीरज कुमार, प्रो गुलाम गौस, रामचन्द्र पूर्वे, आदित्य नारायण पांडेय, प्रेमचंद मिश्र और मो. गुलाम रसूल ने भाग लिया.बैठक में सभापति अवधेश नारायण सिंह ने कहा कि पिछले वर्ष के कोरोना आपदा के बाद यह मेेरा पहला सत्र होगा इस कारण मेरा सुझाव होगा कि प्रश्न काल एवं जनता से जुड़े विषयों पर सदन मेंं शान्ति पूर्वक विचार विमर्श में भाग लें. साथ ही सरकार को जनसरोकार के विषयों पर सहमति से किसी निष्कर्ष तक पहुँचेंं. लोकतंत्र में जनता अपनी समस्या और उसके समाधान हेतु सदन में होने वाले विमर्श पर भी नज़र रखती हैं तो उन्हे इस लोकतंत्रिक संस्थान में भरोसा रखने के लिए सार्थक प्रयास करना होगा. सभापति के सुझाव को स्वीकार करते हुए सभी दलों के नेताओं ने आगामी सत्र के कुशल, सफल एवं सौहार्दपूर्ण संचालन हेतु सार्थक सहयोग एवं समर्थन देने की बात कही. इस बैठक में बिहार विधान परिषद् सचिवालय के कार्यकारी सचिव बिनोद कुमार, उप सचिव शम्भु शरण तिवारी एवं अवर सचिव विश्वजीत कुमार सिन्हा ने भी भाग लिया. राजेश तिवारी

Read more