पटना के इन 5 अस्पतालों को कारण बताओ नोटिस

पांच प्राइवेट अस्पतालों को जिलाधिकारी ने किया स्पष्टीकरण, 24 घंटे के अंदर जवाब देने का निर्देश कोविड-19 संक्रमितों के इलाज में सहयोग नहीं करने , अपने अस्पतालों में इलाज संबंधी तैयारी नहीं करने एवं अभिरुचि नहीं लेने का आरोप बिहार एपेडमिक डिजीज, कोविड-19 रेगुलेशन 2020 के तहत की जाएगी कानूनी कार्रवाई पटना में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सरकारी अस्पतालों के अतिरिक्त प्राइवेट अस्पतालों में भी कोरोना मरीजों के इलाज की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित कराने की कोशिश हो रही है. इसके लिए जिलाधिकारी कुमार रवि ने 17 जुलाई को प्राइवेट अस्पताल के प्रबंधकों के साथ बैठक आयोजित कर उन्हें अपने अस्पतालों में कोरोना संक्रमितों के इलाज हेतु आइसोलेशन वार्ड बनाने तथा बेड कर्णांकित करने का निर्देश दिया था. लेकिन 23 जुलाई को प्राइवेट अस्पतालों की समीक्षा बैठक में पाया गया कि इन अस्पतालों के द्वारा कोविड-19 संक्रमितों के इलाज हेतु कोई व्यवस्था नहीं किया गया है और ना ही इस संबंध में अभिरुचि दिखाई जा रही है. प्राइवेट अस्पतालों के इस गैर जिम्मेदाराना कृत्य को गंभीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने 5 प्राइवेट अस्पतालों के प्रबंधक से स्पष्टीकरण करते हुए 24 घंटे के अंदर जवाब तलब किया है. उन्होंने पूछा है कि उनके इस कृत्य के लिए क्यों नहीं बिहार एपेडमिक डिजीज , कोविड-19 रेगुलेशन 2020 के तहत कानूनी कार्रवाई प्रारंभ की जाए. जिन प्राइवेट अस्पतालों के मैनेजर से स्पष्टीकरण किया गया है वो हैं- मैनेजर, हाईटेक इमरजेंसी पटना। मैनेजर, राजेश्वर हॉस्पिटल पटना। मैनेजर ,जगदीश मेमोरियल हॉस्पिटल पटना। मैनेजर ,सहयोग हॉस्पिटल पटना। मैनेजर मिडवर्सल हॉस्पिटल पटना. PNCB

Read more

पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में बनेगा 100 बेड का अस्थाई अस्पताल

पटना से बड़ी खबर है. बिहार सरकार कोरोना के संक्रमण के रोकथाम और इलाज के लिए पटना के कंकड़बाग स्थित पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में 100 बेड का अस्‍थाई अस्‍पताल बनायेगी.  कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग बिहार सरकार ने सशर्त इसकी अनुमति दे दी है. इसको लेकर स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के प्रधान सचिव की ओर से कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग से पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स को हस्‍तगत करने का अनुरोध किया था. स्‍वास्‍थ्‍य विभाग, बिहार के प्रधान सचिव के अनुरोध के आलोक में मंगलवार को अस्‍थाई अस्‍पताल के लिए अनुमति दे दी गई है. पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स राज्‍य का एकमात्र आधुनिक खेल अवसंरचना है, जिसमें सामान्य दिनों में अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और राज्य स्तर के खेल प्रतियोगिता प्रतियोगिताओं का आयोजन एवं खेल प्रशिक्षण शिविर संचालित किया जाता है. स्टेडियम का उपयोग गैर खेल गतिविधियों के लिए नहीं किए जाने के संबंध में पूर्व से ही विभागीय निर्देश दिए गए हैं, लेकिन वैश्विक महामारी अधिसूचित होने के कारण अति विशेष परिस्थिति में लोकहित में पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स को इस शर्त के साथ जिला प्रशासन पटना को हस्तगत करने का निर्णय कला, संस्‍कृति एवं युवा विभाग की ओर से लिया गया है कि 100 बेड के अस्थाई अस्पताल के निर्माण से पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कंपलेक्स की स्थिति में या खेल अवसंरचना को किसी प्रकार की क्षति ना हो, ताकि भविष्य में स्थिति सामान्‍य होने पर पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में सुचारू रूप से खेल गतिविधियों के लिए संचालन हो सके. साथ ही जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करेगा कि जैसे ही स्थिति सामान्य हो जाती है वैसे ही स्पोर्ट्स कंपलेक्स वर्तमान जैसा विभाग को वापस किया

Read more

औचक निरीक्षण में खुल गई सरकारी अस्पतालों की पोल

मंगलवार को पटना जिले के सभी सरकारी प्राथमिक और अतिरिक्त प्राथमिक अस्पतालों का जिला प्रशासन ने औचक निरीक्षण किया. पटना डीएम संजय अग्रवाल के आदेश पर हुए इस निरीक्षण में  इन अस्पतालों की सही तस्वीर सामने आ गई.साथ ही सरकारी सेवा के नाम पर गरीबों के इलाज की अनदेखी कर रहे डॉक्टरों की पोल भी खुल गई. औचक निरीक्षण में जिले के 55 डाॅक्टर और 64 पारा मेडिकल स्टाफ ड्यूटी से  गायब मिले. इसके अलावा पटना जिले के 6 स्वास्थ्य संस्थानों पर ताला लगा था. दरअसल डीएम के आदेश पर जिलास्तरीय पदाधिकारियों, सभी अनुमंडल पदाधिकारी, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं सभी अंचलाधिकारी ने अपने-अपने क्षेत्र अंतर्गत PHC एवं APHC का औचक निरीक्षण किया जिसमें डाॅक्टर, पारा मेडिकल स्टाफ, कार्यालय कर्मियों, स्वास्थ्य प्रबंधक, आउट सोर्सिंग स्टाफ आदि की उपस्थिति की जांच की गई. डीएम संजय अग्रवाल अचानक राजधानी के न्यू गार्डिनर अस्पताल पहुंच गए. डीएम को अचानक सामने देख अस्पताल कर्मियों में हड़कंप मच गया. डीएम ने वहां की पूरी व्यवस्था का जायजा लिया और कुछ कमियों को दूर करने का निर्देश दिया. निरीक्षण के क्रम में स्वास्थ्य उप केन्द्र दरवेशपुर मनेर, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सकसोहरा, बेलछी, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द चंढोष पालीगंज, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द सिगरियामां, दनियांवा, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द दतियाना, विक्रम अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द करजान, अथमलगोला में ताला बंद पाया गया. डीएम ने ऐसे सभी सरकारी कर्मियों और डॉक्टरों का एक दिन का वेतन काटने का निर्देश दिया है जो ड्यूटी से नदारद थे. वहीं स्वास्थ्य प्रबंधक सहित सभी संविदा कर्मी के मानदेय में 10 प्रतिशत

Read more