आधा दर्जन हत्या व रंगदारी के कई मामलों का फरार कुख्यात जटा सिंह गिरफ्तार, एसटीएफ ने दो पिस्टल के साथ पकड़ा

फुलवारी शरीफ / नौबतपुर (अजीत की रिपोर्ट)। पटना पुलिस की एसटीएफ टीम ने नौबतपुर समेत पटना के ग्रामीण इलाकों का आतंक कुख्यात अपराधी जटा सिंह एवं उसके बड़े भाई भरत सिंह को गिरफ्तार कर लिया. पटना से औरंगाबाद तक बहने वाली पुनपुन नदी सुरक्षा बांध स्थित नौबतपुर के डीहरा शेखपुरा गांव निवासी जटा सिंह के खिलाफ आधा दर्जन से अधिक हत्या समेत उत्तर बिहार के एक ठीकेदार से 5 लाख की रंगदारी मांगने समेत कई संगीन मामले दर्ज हैं. हाल ही में नौबतपुर लख पर एक कोचिंग संस्थान के पास गोलीबारी करके दहशत फैलाने में भी जटा सिंह का नाम सामने आया था. कोचिंग संचालक से जटा ने रंगदारी की मांग की थी. जटा सिंह और उसके भाई के पास से पुलिस को दो पिस्टल भी मिला है. पुलिस अधिकारी अभी यह साफ नही बता पा रहे हैं कि कुख्यात जटा सिंह कों उसके भाई भरत सिंह के साथ कहाँ से पकड़ा गया है. कुछ लोग उसे पटना के खगौल से तो कुछ लोग उसे आरा से उठाए जाने की चर्चा कर रहें हैं. गिरफ्तारी कहीं से भी हुई हो इतना तो तय हो गया कि जटा के आतंक से नौबतपुर समेत पटना के ग्रामीण इलाके के लोगों को थोड़ी राहत जरूर मिली है. गिरफ्तारी के बाद जटा और उसके बड़े भाई भरत से पटना पुलिस के आला अधिकारियों की टीम पूछताछ करने में जुटी है. कुख्यात जटा सिंह की गिरफ्तारी से कई हत्या के मामले सुलझने की उम्मीद की जा रही है.

Read more

कुख्यात अपराधी दिवाकर यादव गिरफ्तार | एसटीएफ ने दबोचा

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने बृहस्पतिवार को एक बड़ी कामयाबी हासिल की. एसटीएफ के पुलिस अधीक्षक रंजीत मिश्रा ने आज यहां बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर एसटीएफ ने देर शाम जहानाबाद जिले में एक ठिकाने पर मोकामा के कुख्यात अपराधी दिवाकर यादव को गिरफ्तार कर लिया है. एसटीएफ ने दिवाकर के साथ उसके तीन अन्य गुर्गों, पप्पू कुमार कश्यप, उमेश यादव और चंदन कुमार को भी पकड़ा है. कार्रवाई के दौरान एसटीएफ ने दिवाकर यादव के पास से 315 के 50 कारतूस, 30500 रुपये नगद और छह मोबाइल फोन के अलावा एक वाहन बरामद किया है. एसटीएफ के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अपराधियों से पूछताछ की जा रही है. एसटीएफ से मिली जानकारी के मुताबिक, दिवाकर पर पिता पुत्र के दोहरे हत्याकांड के साथ साथ डेढ़ दर्जन से अधिक संगीन मामलें दर्ज हैं और इसकी तलाश लंबे वक्त से बिहार पुलिस को थी.

Read more