फुलवारी में एनआइए की छापेमारी से हड़कंप

गजवा ए हिंद मामले में गिरफ्तार मरगूब दानिश के घर पहुंची NIA टीम

फुलवारी शरीफ,अजीत ।। राजधानी पटना के फुलवारी शरीफ में कुछ माह पूर्व एसडीपीआई और पीएफआई कनेक्शन से जुड़े कथित आतंकी नेटवर्क और देश विरोधी गतिविधियां संचालित करने के मामलों में चल रही छापेमारी के दौरान फुलवारी शरीफ के मुनीर कॉलोनी में एक शख्स के मोबाइल में व्हाट्सएप ग्रुप गजवा ए हिंद नाम से संचालित किए जाने के बाद उसकी गिरफ्तारी हुई थी. देश विरोधी गतिविधियों के आरोप में एसडीपीआई पीएफआई से जुड़े कई लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. वही देश विरोधी गतिविधियों के आरोप में गिरफ्तार मरगूब दानिश के मामले को भी एनआईए की टीम खंगाल रही है.




एनआईए फुलवारी थाने में दर्ज मामले को अपने हाथ में काफी पहले ले चुकी है और कई बार इस मामले में पुलिस ने छापेमारी हुई है. देश विरोधी आपत्तिजनक दस्तावेजों को बरामदगी के बाद टीम जांच पड़ताल करने में जुटी हुई है. मंगलवार को एक बार फिर सुबह 5:00 बजे से ही गजवा ए हिंद व्हाट्सएप ग्रुप चलाने वाले मरगूब अहमद दानिश के घर एनआईए की भारी संख्या में पुलिस फोर्स के साथ टीम छापेमारी करने पहुंची. छापेमारी से शहर में हड़कंप मच गया.

फुलवारीशरीफ में छापेमारी

पूरे शहर में लोग सुबह-सुबह छापेमारी के बाद तरह-तरह की चर्चा करते नजर आए. फुलवारी शरीफ के शहीद भगत सिंह चौक थाना गोलंबर से पैदल ही एनआईए की टीम सैकड़ों की संख्या में पुलिसकर्मियों के साथ खानकाह मोहल्ला होते हुए मुनीर कॉलोनी पहुंची जहां मोहम्मद दानिश का मकान है. इसी मकान ने उसका परिवार रहता है. इस मामले से जुड़े कई टीमों ने इसमें पहले भी छापे मारे हैं. मंगलवार को एक बड़े पुलिस वैन व आधा दर्जन से अधिक छोटे लग्जरी वाहनों में सवार पुलिस टीम छापेमारी करने पहुंची. पहली बार इस छापेमारी में महिला पुलिसकर्मी को भी शामिल किया गया है. करीब एक सौ से अधिक की संख्या में पुलिस की टीम छापेमारी टीम के साथ मौजूद है. फुलवारी शरीफ थाना का नंबर शहीद भगत सिंह चौक चुनौती कुआं खानकाह मोड़ मिल्कीआना से लेकर मुनीर कॉलोनी मरगूब अहमद दानिश के घर तक कई जगहों पर भारी संख्या में पुलिस टीम को जगह-जगह तैनात किया गया है. छापेमारी के दौरान किसी को भी बातचीत करने पर पुलिस टीम कुछ भी बताने से इंकार कर रही है.
दरअसल पी एफ आई आर एस डी पी आई के नाम पर फुलवारी शरीफ के नया टोला के अहमद पैलेस में शारीरिक प्रशिक्षण के नाम पर देश विरोधी आतंकी नेटवर्क तैयार करने एवं देश को इस्लामिक राष्ट्र बनाने के मामले का खुलासा हुआ था. इस मामले में फुलवारी शरीफ थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी और इस मामले में अहमद पैलेस के मालिक रिटायर्ड पुलिस अधिकारी मोहम्मद जलालुद्दीन खान सिमी के सक्रिय सदस्यों में शामिल गुलिस्तान मोहल्ला के रहने वाले मंजर इमाम के भाई अतहर इमाम की गिरफ्तारी हुई थी. इसके बाद अल्वा कॉलोनी से इन लोगों से जुड़े हुए एक शख्स अरमान मलिक की गिरफ्तारी हुई. इसी दौरान व्हाट्सएप ग्रुप गजवा ए हिंद का पता चला. पुलिस टीम ने जब ग्रुप को खंगाला तो पता चला कि इस व्हाट्सएप ग्रुप से पाकिस्तान समेत कई इस्लामिक कंट्री से जुड़े लोग देश विरोधी गतिविधियां संचालित करने में जुड़े हुए हैं. इसके बाद गजवा ए हिंद व्हाट्सएप ग्रुप के संचालक मरगूब अहमद दानिश के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर उसकी गिरफ्तारी हुई थी। दानिश के परिवार वालों का कहना है उनका बेटा मानसिक रूप से बीमार है जिसका इलाज दिल्ली के हॉस्पिटल में भी चल चुका है. इसके बावजूद अभी तक इस मामले में गिरफ्तार किसी भी शख्स की जमानत नहीं हो पाई है. वही पीएफआई एसडीपीआई मामले में देशभर में कई राज्यों में छापेमारी हो चुकी है। अब तक सैकड़ों लोगों को जेल भेजा जा चुका है. इतना ही नहीं एसडीपीआई एवम पीएफआई को देशभर में बैन कर दिया गया है. बता दें कि इस नाम में फुलवारी से थाने में दर्ज प्राथमिकी में 26 लोगों के खिलाफ नामजद प्राप्त मामला दर्ज कराया गया था जिसमें अब तक 4 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है बाकी अन्य फरार चल रहे हैं.

Ajeet