प्रखण्ड कार्यालय मे बढते भ्रष्टाचार से जन जीवन अस्तव्यस्त

गडहनी. गडहनी प्रखण्ड क्षेत्र के ग्रामीण जनता बहुत से सरकारी योजना के लाभ से वंचित रह जा रहे हैं. इसके पीछे बहुत बडी राज छिपी हुई है।इसके कई कारण भी हो सकते हैं।ग्रामीण जनता की शिकायत लिखित और मौखिक रूप से प्रखण्ड विकास पदाधिकारी तेज बहादुर सुमन को आये दिन मिलती रहती है लेकिन किसी भी प्रकार का पहल प्रखण्ड विकास अधिकारी की ओर से नही किया जाता जिसका नतीजा यह होता है कि प्रखण्ड के कर्मचारी इसका फायदा उठाकर मनमाने ढंग से काम करने मे अपनी बहादुरी दिखा रहे है।अब सवाल यह उठता है कि ऐसा क्यों क्यों रहा है ?

क्या यहाँ की बिधि ब्यवस्था मे कोई कमी है या फिर —— ? नल जल योजना शौचालय आवास सहित ऐसी कई योजनाएं है जिससे लाभूक वंचित है।आवास योजना शौचालय योजना मे खुलेयाम आवास सहायक एवं उत्प्रेरक द्वारा राशि लेकर योजनाओं को पास किया जा रहा है जिसकी शिकायत बीडियो को आये दिन मिलती है फिर भी बिडियो द्वारा कोई कारवाई नही की जाती।अब सवाल यह उठता है कि पदाधिकारी कारवाई करने से क्यों भागते हैं।क्या इस भ्रष्टाचार मे इनकी भी संलिप्तता है ? अगर ऐसा है तो सरकार को भ्रष्टाचार के खिलाफ लडाई अभियान को बन्द कर देनी चाहिए क्योंकि नीचे से उपर तक भ्रष्टाचारी ही बैठे है और ए जब तक हैं भ्रष्टाचार को मिटाया नही जा सकता।एक प्रखण्डस्तरीय कर्मचारी पदाधिकारी अपने जिला स्तरीय पदाधिकारी से नही डरता।प्रखण्ड स्तरीय कर्मचारी कहते हैं खबर निकालने से क्या होगा सब जानते हैं कि कहाँ क्या हो रहा है।




गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट