भीषण आग में जलकर खाक हुए सपने

पटना के फुलवारी शरीफ में रेलवे लाइन किनारे झोपड़पट्टी में लगी भीषण आग में 29  से अधिक झोपड़ियाँ जलकर ख़ाक हो गयी .अगलगी में एक महिला और एक पुरुष मिथुन चौधरी समेत दो लोग झुलस गये जबकि दो गाय , बछड़ा , एक बकरी भी आग की भेंट चढ़ गये . इस भीषण आगलगी में पचास लाख से अधिक का नुक्सान हुआ है . आग लगते ही मची भगदड़ और लोगों के चीत्कार से पुरे इलाके में कोहराम मच गया . रह रह कर फटे पांच सिलेंडर के धमाके से हालत बेकाबू होता गया और देखते ही देखते दो दर्जन से अधिक परिवारों के अरमान आग में जलकर स्वाहा हो गये .




रेलवे लाइन किनारे झाड़ियो के बीच जहाँ झोपड़पट्टी में आग लगी वहां दमकल गाड़ियाँ को काफी मशक्कत के बाद किसी तरह पुलिस ने पहुंचाया तब जाकर आग पर पूरी तरह काबू पाया जा सका .आगलगी में किसी के सपने तो किसी के घर शादी की तैयारियों पर पानी फिर गया . प्रशासन के प्रति लोगों में भारी गुस्सा का आलम दिखा क्योंकि सुचना देने के काफी देर बाद दमकल की गाड़ियाँ पहुंची तबतक सबकुछ स्वाहा हो चुका था .

फुलवारी शरीफ पुलिस इन्स्पेक्टर धर्मेन्द्र कुमार ने किसी तरह झाड़ियो के बीच से पुलिस के जवानो की मदद से दमकल के आने का रास्ता बनाया तब जाकर दमकल की गाड़ियाँ घटनास्थल पर पहुँच सकी . क्विक मोबाइल के जवानो के साथ ही सभी पुलिस के जवानो दौड़ भागकर आग बुझाने का अथक प्रयास करते रहे, वहीँ आंसुओं के सैलाब के बीच चापाकल से पानी चलाकर आग बुझाने का भरसक प्रयास भी लोग करते रहे लेकिन कुछ भी बचा पाने में असफल रहे .

झोपड़पट्टी में करीब चार से पांच चापाकल थे जो आग की भेंट चढ़कर बीएस मुंह चिढा रहे थे . जो चापाकल काम लायक बचे थे उसके सहारे ही बच्चों ने जी जान लगाकर आग बुझाने में लगे रहे .  मिथुन चौधरी का आग के  बीच से सामान निकालने में दोनों हाथ बुरी तरह जल गया जिसे पुलिस इंस्पेक्टर धर्मेन्द्र कुमार ने तत्काल एम्बुलेंस से इलाज के लिए पीएमसीएच भेजवाया जबकि एक महिला समेत अन्य घायलों का इलाज स्थानीय स्तर पर कराया जा रहा है .  दानापुर सीओ महेंद्र प्रसाद गुप्ता ने बताया कि तत्काल 98 सौ रूपये नगद और पौलिथिन सीट का सरकारी सहायता पीड़ितों को दी गई है.

 

फुलवारीशरीफ से अजीत