गंभीर मरीजों को पटना एम्स नहीं उपलब्ध करा पा रहा आईसीयू बेड

एम्स में 85 बेड वेंटिलेटर युक्त हैं जो सभी मरीजों से फूल हैं
कई दिनों से एम्स पटना में ईलाज कराने आ रहे गंभीर रूप से बीमार मरीजों को अस्प्ताल दर अस्प्ताल भटकना पड़ रहा है

एम्स निदेशक ने खड़े किए हाथ




एम्स की फ़ाइल फोटो

फुलवारी शरीफ ,अजीत। कोरोना के मामले में कमी आने के बाद इमरजेंसी और गंभीर रूप से बीमार मरीजों के इलाज के लिए शुरू हुए एम्स पटना का इमरजेंसी एंड ट्रामा विभाग की सारी बेड फूल हो चुकी है ऐसे में बिहार में मरीज़ो को समुचित स्वास्थ्य सुविधाओं को पूर्ण रूप से उपलब्ध कराने का सरकार का दावा पूरी तरह खोखला साबित हो रहा है। सरकार चाहे लाख दावे करे लेकिन हकीकत यह है कि बिहार स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह चरमराई हुई हैं । लोग अपने बीमार परिजन को लेकर अस्पतालों के चक्कर लागते फिर रहे हैं लेकिन उन्हें अस्पतालों में भर्ती करने से यह कहकर इनकार कर दिया जा है कि गंभीर मरीजों के लिए जरूरी आईसीयू और वेंटिलेटर सुविधाओं वाली बेड खाली नही है। हालत बद से बदतर होते जा रहे है लेकिन कोई जिम्मेवार अधिकारी इस ओर ध्यान नही दे रहे हैं । गौरतलब हो कि दिल्ली के बड़े-बड़े अस्पतालों में गंभीर रुप से ग्रस्त मरीजों को भर्ती व ईलाज कराने पहुंचने वालों में सबसे अधिक बिहार और आसपास के राज्यों के भीड़ को कम करने के इरादे से सरकार ने बिहार में पटना एम्स की स्थापना की थी। बिहार के गरीब परिवार के मरीजों को सस्ते दर पर बेहतर इलाज और अत्याधुनिक चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराने के इरादे से स्थापित एम्स पटना गंभीर रुप से बीमार मरीज़ो को आईसीयू व वेंटिलेटर की सुविधाओं से सुसज्जित एक अदद बेड मुहैया नही करा पा रहा है । एम्स पटना में आईसीयू व वेंटिलेटर की सुविधाओं वाले कूल 85 बेड कई दिनों से फूल हो चूके हैं जिससे गंभीर मरीजों को एम्स पटना अस्पताल में भर्ती कराने बिहार व समीपवर्ती राज्यों के विभीन्न जिलों से आने वालो को बैरंग लौट जाना पड़ रहा है।

गंभीर रुप से बीमार मरीजो को बेहतर इलाज की आस में दूर दराज के जिलों से लेकर आने वाले परिवार को राजधानी पटना में एक अस्प्ताल से दूसरे अस्प्ताल में बीमार मरीजों को भर्ती कराने के लिए भटकना पड़ रहा है। मुंगेर के मनियारचक से मां को एम्स में भर्ती कराने दो दिन पहले आधी रात पटना पहुंचे मनीष कुमार को एम्स पटना से यह कहकर लौटा दिया गया की आपके मरीज को ब्रेन हेम्ब्रेज हुआ है जिनकी हालत नाजुक है। गंभीर रूप से बीमार मरीजो के लिए एम्स में वेंटिलेटर वाली बेड खाली नही है । मुंगेर से अपनी बीमार मां पुतुल देवी को बेहतर इलाज कराने की आस लगाए आधी रात एम्स पटना पहुंचे मनीष कुमार को ब्रेन हेम्ब्रेज से ग्रस्त मां को भर्ती कराने एक अस्पताल से दुसरे अस्प्ताल में भटकना पड़ा। इस दौरान उनकी बीमार मां एम्बुलेंस में ही अपनी सांसे गिनती रही।

मनीष बताते हैं कि काफी मशक्कत के बाद पीएमसीएच में किसी तरह अपनी मां को भर्ती कराये। जहां पीएमसीएच में जनरल वार्ड में ऑक्सीजन कि सुविधा वाली एक अदद बेड उपलब्ध हो पाई । हालांकि पीएमसीएच में मरीजों की भीड़ में गंभीर मरीजों का बेहतर तरिके से इलाज नही हो या रहा है। जिसके बाद मनीष कुमार एम्स पटना में ही अपनी बीमार मां को भर्ती कराने की कोशिश में जुटे है लेकिन अभीतक कोई आश्वासन तक नही मिला।गंभीर रूप से बीमार मरीजो को भर्ती कराने एम्स पटना से बैरंग लौटने वाले मनीष कुमार ऐसे अकेले नही हैं बल्कि ऐसी परेशानी से गुजर रहे रोजाना दर्जनों लोग पटना में एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल का चक्कर लगाते फिर रहे हैं।


गंभीर रूप से बीमार मरीजो को एम्स पटना वेंटिलेटर युक्त बेड उपलब्ध नही कराये जाने को लेकर एम्स पटना के निदेशक डॉ प्रभात कुमार सिंह ने हाथ खड़े कर दिए। एम्स निदेशक ने कहा कि एम्स में 85 बेड वेंटिलेटर युक्त हैं जो सभी मरीजों से फूल हैं ऐसे में वो क्या कर सकते हैं । एम्स इमरजेंसी एंड ट्रामा सेंटर हेड डॉ अनिल कुमार ने बताया कि गंभीर रुप से बीमार मरीजो को एम्स में भर्ती नही किया जा सकता है जिन्हें वेंटिलेटर की जरूरत है । इमरजेंसी विभाग में ऐसे मरीजों के परिजन का कॉन्टैक्ट नम्बर लिख लिया जाता है और जब वेंटिलेटर युक्त बेड खाली होता है तो उन्हें कॉल किया जाता है।