उद्घाटन के दिन ही इस्कॉन मंदिर में पुलिस पर भारी पड़े चोर

8 महिलाओं की चोरी हो गई गले की चेन

पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के बीच हो गई चोरी




एक महिला पकड़ी गई, पूछताछ जारी

पटना. बिहार की राजधानी पटना में 100 करोड़ की लागत से बने इस्‍कॉन मंदिर का अक्षय तृतिया के शुभ मौके पर मंगलवार को उद्घाटन हुआ. इस दौरान बड़ी तादाद में श्रद्धालु मंदिर में जुटे थे. इस्‍कॉन मंदिर के उद्घाटन के मौके पर चोरों का गिरोह भी सक्रिय था, जिसने आधा दर्जन से ज्‍यादा महिलाओं के गले की चेन उड़ा ली. इससे मंदिर में हंगामा मच गया.  महिलाओं ने चेन उड़ाने की एक आरोपी महिला को धर दबोचा और उन्‍हें पुलिस के हवाले कर दिया. मंदिर खुलने के पहले ही दिन चोरी की घटना से पुलिस भी सकते में आ गई.

इस्कॉन मंदिर के उद्घाटन के मौके पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. इस कार्यक्रम में राज्यपाल फागू चौहान के अलावा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत कई वीआईपी और समाज के प्रबुद्ध लोग मौजूद थे. इस दौरान इस्कॉन मंदिर में बदमाशों का एक गैंग भी सक्रिय था. इस गैंग ने भीड़ का फायदा उठाते हुए कई महिलाओं के गले से सोने की चेन उड़ा लिए. इन शातिरों ने भीड़-भाड़ का फायदा उठाकर इस वारदात को अंजाम दिया.

मंदिर का उद्घाटन समारोह खत्म होने के बाद आम लोगों के लिए मेन गेट खोला गया था. इसी दौरान बाहर खड़ी भीड़ मंदिर में प्रवेश करने लगी. इसका फायदा गैंग के सदस्यों ने उठाया और महिलाओं के गले से सोने की चेन धड़ाधड़ काट डाले. कुछ देर के बाद ही महिलाओं को इस बात का एहसास हो गया मौके पर एक दो नहीं बल्कि आधा दर्जन से अधिक लोगों के सोने की चेन गायब हो गई है. इसके बाद हंगामा शुरू हो गया. पीड़ित महिलाओं में कामकाजी महिलाओं से लेकर हाउसवाइफ तक शामिल हैं. शास्त्रीनगर की रहने वाली एक महिला अंशु बरनवाल के गले से सोने की चेन काटकर जब एक महिला भाग रही थी, तभी लोगों ने आरोपी महिला को दबोच कर उन्‍हें पुलिस के हवाले कर दिया.

पूछताछ में पकड़ी गई महिला ने खुद को पश्चिम बंगाल के हुगली की निवासी बताया है. उनका नाम शिवानी राव है. मंगलवार की देर रात तक कोतवाली थाने तक यह मामला पहुंच गया, जहां 8 महिलाओं ने अपने सोने की चेन गायब होने को लेकर शिकायत दर्ज कराई. पीड़ित महिलाओं में दानापुर की अनिता कुमारी, एसके पूरी की सोनू, बहादुरपुर कॉलोनी की सारथी त्रिपाठी और गर्दनीबाग की सिंधु कुमारी, सुधा देवी और कोतवाली थाना क्षेत्र की रहने वाली माया चरण का नाम शामिल है. कोतवाली पुलिस ने घटनास्थल का सीसीटीवी फुटेज खंगालने के अलावा संदिग्ध महिला से इस पूरे मामले में पूछताछ की है. देर रात तक पुलिस होटलों को खंगाल रही थी. पुलिस को शक है कि पश्चिम बंगाल से आया एक गिरोह ने इस घटना को अंजाम दिया है.

राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने किया इस्कॉन मंदिर का लोकार्पण

राज्यपाल फागू चौहान एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस्कॉन मंदिर के लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल हुए. मंदिर में विधिवत पूजा अर्चना एवं राधा कृष्ण की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा के बाद इसे आमलोगों के दर्शनार्थ खोल दिया गया. मंदिर के पट खुलने के पश्चात् मुख्यमंत्री ने आरती पूजन कर राज्य की सुख-शांति एवं समृद्धि की कामना की. मुख्यमंत्री का स्वागत इस्कॉन मंदिर प्रबंधन द्वारा फूल माला एवं अंगवस्त्र पहनाकर तथा प्रतीक चिंह भेंटकर किया गया.

लोकार्पण कार्यक्रम के पश्चात् पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2007 में इस मंदिर का शिलान्यास किया गया था और वर्ष 2010 में इसका निर्माण कार्य शुरू किया गया. इतने दिनों में मंदिर बनकर अब तैयार हुआ है तो मुझे आज काफी संतुष्टि हो रही है. आप सबों ने इस कार्यक्रम में मुझे बुलाया इसके लिये मैं आप सब को धन्यवाद देता हूं और आभार व्यक्त करता हूं. मुझे यहां आकर काफी खुशी हो रही है. यह मंदिर बहुत अच्छा बनकर तैयार हुआ है. मंदिर का लोकार्पण हो गया है तो अब बड़ी संख्या में लोग यहां दर्शन और पूजा अर्चना करने आयेंगे. उन्होंने कहा कि समाज में नई पीढ़ी के लोगों को यहां कई प्रकार की जानकारियां और शिक्षा मिलेंगी. समाज में एकता और भाईचारे का संदेश जायेगा. आपस में किसी प्रकार का कोई विवाद न हो, ये आप सब उपदेश देते हैं यह बड़ी बात है. आज के इस अवसर पर मैं आप सबों को बधाई देता हूं और नमन करता हूं.

कार्यक्रम में केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिंहा, शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी, विधायक नंदकिशोर यादव, विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री आर०एन० सिंह, इस्कॉन के जय पताका स्वामी गुरू महाराज, लोकनाथ स्वामी महाराज, गोपाल कृष्ण गोस्वामी महाराज, महाविष्णु स्वामी महाराज, भक्त पुरुषोत्तम स्वामी महाराज, पटना इस्कॉन के अध्यक्ष कृष्ण कृपा दास सहित अन्य संतगण, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त परामर्शी मनीष कुमार वर्मा, बिहार राज्य नागरिक परिषद् के पूर्व महासचिव अरविंद कुमार सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति एवं श्रद्धालु उपस्थित थे.

PNCDESK