धूमधाम से मनाया गया भैया दूज

गड़हनी,29 अक्टूबर. जिला के गड़हनी में महिलाएं एवं युवतियों द्वारा भैया दूज धूम-धाम मनाया गया. भैया दूज को ले महिलाओ एवं युवतियों में खुशी देखी गईं. युवतियों एवं महिलाओ का कहना था कि हम अपने भाइयों के लंबी उम्र के लिए आज कामना करते हैं. भाई बहन के प्यार का पर्व भैया दूज प्रखंड में परम्परागत तरीके के साथ मनाया गया. बहनों ने भाई की लंबी उम्र के लिए उपवास रखा. बहनों ने इस अवसर पर पूजा अर्चना की. भैया दूज को लेकर प्रखंड के शहरी तथा ग्रामीण इलाकों में सुबह से ही काफी चहल-पहल देखी जा रहा था. बहने अपने भाई की पुजा करने हेतू तैयारी में मग्न नजर आ रही थी.

ग्रामीण इलाकों में पुजा की तैयारी को लेकर घर-आंगन केा गोवर से लिपा गया था वही शहरी इलाकों में भी गोधन के लिए किसी खास जगह पर साफ-सफाई कर लिपा गया.शुभ मुर्हूत में मुहल्ले की सभी बहने एक जगह इक्ठा होकर अपने अपने भाइयों के लम्बी उम्र के लिए पूजा अर्चना किया. गोधन पूजा के दौरान अक्षत, रोरी, सिंदूर व हल्दी चढ़ाकर पूजा की. फिर रेंगनी के कांटे से भैया को शापित करने के साथ ही पुन: उसी कांटे से उन्हें जिंदा भी की. फिर घर के आंगन या अहाते में जुटी सभी महिलाएं व लड़कियां गोधन का पारंपरिक गीत गाते हुए मुसल से गोबर से बने गोधन-गोधनी के आकृति को कूट कर अपना व्रत समाप्त किया. इस मौके पर गोधन की पारंपरिक कहानी भी सुनी व सुनाई गयी. इसके बाद बहनों ने गोधन कुटा तथा बाजरा के साथ प्रसाद अपने भाई को खिलाया.




भैया दुज को लेकर कई भाई अपनी बहन के घर आये हुए थे. इस दिन से ही शुभ मुहूर्त की शुरूआत होती है. भाई दूज के मौके पर बहन अपने भाई की आरती उतार भाई-बहन के प्रेम को और प्रगाढ करती है. वही भाई भी अपनी बहन के प्रति उतरदायित्व को पुरा करने का संकल्प दोहराता है. पौराणिक कथा के अनुसार भगवान यमराज आज ही के दिन अपनी बहन यमुना से मिलने रवाना होते हैं. उ?.न्हीं का अनुसरण करते हुए भाई परंपरागत रूप से अपने बहनों से मिलते हैं और उनका यथेष्ठ सम्मान कर पूजा के पश्चात आशीर्वाद के रूप में बहनों से तिलक लेते हैं.भाई दूज के मौके पर बहनों ने रूली और अक्षत से अपने भाई को तिलक लगाकर उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की. मौके पर भाईयों ने भी बहनों को उपहार प्रदान किया. भाई बहन के पर्व के रूप में रक्षा बंधन की ही तरह भाईदूज का बड़ा महत्व है. यह त्योहार दीपावली के दो दिन बाद मनाया जाता है. भाईदूज के साथ दीपोत्सव का समापन हो जाता है. शस्त्रों के मुताबिक भाईदूज या भैया दूज को यम द्वितीया भी कहते हैं और इस दिन मृत्यु के देवता यमराज का पूजन होता है. बहनें भाई को तिलक लगाकर लंबी उम्र का आशीष देती हैं.

गड़हनी से मुरली मनोहर जोशी की रिपोर्ट