इस पुल के लिए अभी 2 साल और करना होगा इंतजार

बिहार में गंगा नदी पर बन रहे सबसे बड़े और सिक्स लेन कच्ची दरगाह बिदुपुर पुल की लेटेस्ट जानकारी पटना नाउ आप तक पहुंचा रहा है. वर्ष 2023 तक इस 20 किलोमीटर लंबे पुल को शुरू करने का लक्ष्य है. इस पुल के बनने से गांधी सेतु पर दबाव कम हो जाएगा. उत्तर बिहार और दक्षिण बिहार को जोड़ने में यह पुल एक नई राह उपलब्ध कराएगा. पटना में यह पुल NH-30 को जोड़ेगा जबकि वैशाली के बिदुपुर में आगे जाकर ये हाजीपुर मुजफ्फरपुर सड़क में मिल जाएगा. वैशाली में एनएच 103 पर चक सिकंदर में यह पुल खत्म होगा. पश्चिम में पटना बक्सर फोर लेन से खेमनीचक होते हुए लोग इस पुल से उत्तर बिहार आ जा सकेंगे. बिहार राज्य पथ विकास निगम इस पुल का निर्माण करा रहा है. इस पुल की सबसे बड़ी खासियत यह है कि केबल पर टिका हुआ (Cable Stayed) यह देश का सबसे लंबा पुल है.

आपको याद दिला दें कि वर्तमान महात्मा गांधी सेतु से करीब 10 किलोमीटर पूरब की तरफ इस पुल का निर्माण हो रहा है. जनवरी 2017 में स्कूल का निर्माण कार्य शुरू हुआ था और इसे जून 2023 तक पूरा करने का लक्ष्य है. इस पुल पर करीब 5000 करोड रुपए खर्च हो रहे हैं जिसमें से 3000 करोड़ पर एशियन डेवलपमेंट बैंक से कर्ज के रूप में उपलब्ध होगा. इस पुल का डिजाइन कोरिया की कंपनी की एसडीएम ने तैयार किया है. देबू और एलएनटी कंपनी का संयुक्त उपक्रम स्कूल को बना रहा है.




कच्ची दरगाह से बिदुपुर के बीच बन रहे सिक्स लेन पुल की लंबाई 9.76 किलोमीटर है जबकि पुल के अप्रोच रोड की लंबाई करीब 10 किलोमीटर होगी. यह पुल हाई फ्लड लेवल से 10 मीटर ऊंचा होगा.