बड़ी खबर- अब NET, CAT और NEET जैसी परीक्षाओं का जिम्मा NTA के हवाले

‘सबसे पहले patnanow पर’ केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने दी राष्‍ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA) की स्‍थापना को मंजूरी  देश में नेशनल लेवल की परीक्षा आयोजित करने के लिए लंबे समय से एक राष्ट्रीय एजेंसी की जरुरत महसूस की जा रही थी. इसे देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने उच्‍चतर शिक्षा संस्‍थाओं के लिए प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करने के लिए सोसायटी अधिनियम, 1860 के अन्‍तर्गत सोसायटी के रूप में एक स्‍वायत्‍त और आत्‍मनिर्भर शीर्ष परीक्षा संगठन, राष्‍ट्रीय परीक्षा एजेंसी की स्‍थपना को मंजूरी प्रदान कर दी है. बता दें कि विश्‍व के अधिकांश उन्‍नत देशों की तरह भारत में इन प्रवेश परीक्षाओं को आयोजित करने के लिए कोई स्पेशल एजेंसी नहीं है. इस बात को ध्‍यान में रखकर केन्द्रीय वित्‍त मंत्री ने वर्ष 2017-18 के अपने बजट भाषण में उच्‍च शैक्षिक संस्‍थाओं में दाखिले के लिए सभी प्रवेश पीरक्षाओं को आयोजित करने हेतु एक स्‍वायत्‍त तथा आत्‍मनिर्भर शीर्ष परीक्षा संगठन के रूप में राष्‍ट्रीय परीक्षा एजेसी (एनटीए) की स्‍थापना की घोषणा की थी. NTA की मुख्‍य बातें: NTA आरंभ में उन प्रवेश परीक्षाओं को संचालित करेगा जो इस समय CBSE द्वारा संचालित किए जा रहे हैं. अन्‍य परीक्षाएं धीरे-धीरे तब शुरू की जाएंगी जब NTA पूर्णत: तैयार हो जाएगी. यह वर्ष में कम से कम दो बार ऑनलाइन पद्धति में परीक्षाएं संचालित करेगी और इस प्रकार विद्यार्थी को उसके सर्वोत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन के लिए पर्याप्‍त अवसर प्रदान करेगी. ग्रामीण छात्रों की आवश्‍यकताओं की पूर्ति के लिए यह उप-जिला/जिला स्‍तर पर केंद्रों को स्‍थापित करेगी और जहां तक संभव हो विद्यार्थियों को

Read more

किस मंत्री के जिम्मे कौन सा विभाग, आप भी जान लीजिए

मोदी सरकार ने आज अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया जिसमें 9 नए मंत्री शामिल किए गए. इसके साथ ही कई मंत्रियों को प्रमोट किया गया तो कई के मंत्रालय बदले गए. इससे पहले खराब प्रदर्शन करने वाले कई मंत्रियों को हटाया भी गया. राजीव प्रताप रूडी, फग्गन सिंह कुलस्ते, कलराज मिश्र इनमें शामिल हैं. आज जिन 9 मंत्रियों के शामिल किया गया है उनमें से 2 बिहार से हैं. आरा सांसद आरके सिंह और बक्सर सांसद अश्विनी चौबे शामिल हैं. भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अश्विनी कुमार चौबे  बक्सर से लोकसभा सांसद हैं. वे केंद्रीय सिल्क बोर्ड के सदस्य भी हैं. बिहार में 8 साल तक वे मंत्री रहे हैं.  उन्होंने 2013 में आई केदारनाथ त्रासदी पर एक किताब भी लिखी है. जबकि 1975 बैच के पूर्व IAS अधिकारी राज कुमार सिंह आरा से लोकसभा सांसद हैं. वे केन्द्रीय गृह सचिव भी रह चुके हैं. मोदी कैबिनेट में फेरबदल की कवायद में शिवसेना, जनता दल यूनाइटेड और AIADMK सरकार में शामिल नहीं हो सकी. माना जा रहा है कि NDA के मंत्री बाद में शामिल किए जाएंगे. अच्छा परफॉर्म करने वाले 4 मंत्रियों को आज राज्य मंत्री से कैबिनेट मंत्री में प्रमोट किया गया. आज प्रमोट होने वालों में निर्मला सीतारमण, धर्मेंद्र प्रधान, मुख्तार अब्बास नकवी और पीयूष गोयल शामिल हैं. किसे क्या मिला– निर्मला सीतारमण होंगी देश की रक्षा मंत्री पीयूष गोयल बने नए रेल मंत्री पीयूष गोयल के पास कोयला मंत्रालय का भी प्रभार सुरेश प्रभु को वाणिज्य मंत्रालय आर के सिंह बने ऊर्जा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सत्यपाल सिंह को शिक्षा

Read more