ढाई महीने बाद खुल रहे हैं मंदिर के द्वार, अरण्य देवी मंदिर में कुछ ऐसी होगी व्यवस्था

8 जून से धार्मिक स्थल, होटल और शॉपिंग मॉल खुलेंगे केन्द्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार, सोमवार आठ जून से सभी धार्मिक स्थल, होटल, रेस्टोरेंट और शॉपिंग मॉल खुल जाएंगे. आरा स्थित माँ आरण्य देवी मंदिर के महंत मनोज बाबा ने बताया किदेवी का दरबार आठ जून से सभी भक्तों के लिए खोलने का निर्णय हो गया है. आम व खास सभी भक्तों को कुछ दिशा निर्देश का पालन करना होगा.जैसे-भक्त के मंदिर प्रवेश के समय मास्क पहनना अनिवार्य होगा.मन्दिर परिसर में सेनेटाइजर से अपने आप को सेनेटाइज करना होगा.घण्टी बजाना और आरती दिखाना वर्जित रहेगा.सभी भक्त सिर्फ दर्शन और प्रसाद चढ़ा पाएंगे.मन्दिर परिसर में सुरक्षा घेरा बना दिया गया है, जिसमे बारी बारी से भक्त माँ का दर्शन करते हुवे प्रसाद चढ़ाते हुवे भैरव जी के रास्ते बाहर निकल जाएंगे. ऐसे तो हमारे शास्त्र में मूर्ति स्पर्श वर्जित है लेकिन इस महामारी को ध्यान में रखते हुवे जब तक इस महामारी से छुटकारा नहींं मिल जाता किसी भी मूर्ति को स्पर्श करना वर्जित रहेगा.राज्य सरकार एवं स्थानीय प्रशासन के सहयोग से भक्तों के दर्शन की व्यवस्था की गई है.मन्दिर महन्त – मनोज बाबा, संजय बाबा OP Pandey

Read more

अब हवाई यात्रा के लिए भी हो जाइए तैयार

रेल यात्रा के बाद अब हवाई यात्रा शुरू करने की तैयारी केंद्रीय नागरिक नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट करके यह जानकारी दी है कि 25 मई से घरेलू हवाई सेवा शुरू की जा रही है. इस बाबत सभी एयरलाइन कंपनियों को जानकारी दे दी गई है और गाइडलाइंस जारी किया जा रहा है. घरेलू विमान सेवा नियंत्रित तरीके से शुरू होगी और इसमें कोरोना संक्रमण के खतरे को लेकर तमाम सावधानियां बरती जाएगी. घरेलू विमान सेवा शुरू करने के लिए लॉक डाउन के नियमों में संशोधन भी केंद्र सरकार की ओर से कर दिया गया है. आपको बता दें कि 12 मई से देश में चुनिंदा ट्रेनों की शुरुआत की गई है जबकि 1 जून से 200 ट्रेनें शुरू करने की घोषणा की गई है. इस बीच, स्टेशनों पर अवस्थित सभी कैटरिंग/वेंडिंग यूनिट तत्काल प्रभाव से खुलेंगे. पूर्व मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि रेलवे बोर्ड द्वारा स्टेशनों पर जितने भी कैटनिंग यूनिट, बहुउद्देशीय स्टॉल आदि हैं, इन सभी को तत्काल प्रभाव से खोले जाने का निर्णय लिया गया है. इसी कड़ी में पूर्व मध्य रेल के स्टेशनों पर अवस्थित कैटरिंग यूनिट,/वेंडिंग स्टॉल, बहुउद्देशीय स्टॉल, दवा की दुकानें आदि तत्काल प्रभाव से खोले जा रहे हैैं. PNC

Read more

लॉकडाउन 4.0 में बिहार

लॉकडाउन 4.0 में नया क्या है! आखिरकार देश में लॉक डाउन का चौथा चरण लागू हो गया है. 18 मई से 31 मई तक के लिए लॉकडाउन 4.0 लागू किया गया है. 12 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन में इतना तो साफ कर दिया था कि लॉक डाउन फोर होगा. उन्होंने यह भी कहा था कि लॉक डाउन 4.0 नए रंग रूप में होगा. इसके बाद लोग अंदाजा लगा रहे थे कि लॉक डाउन 4.0 में छूट मिलेगी. कई दुकानें खुलेंंगी और लोग घर से बाहर निकल पाएंगे. लेकिन फिलहाल ऐसा कुछ भी होता हुआ नहीं दिख रहा है. एक नजर बिहार में लागू प्रमुख बातों पर– √ भीड़ भाड़ संभावित किसी भी जगह या एक्टिविटी पर रोक जारी रहेगी. स्कूल-कॉलेज, सिनेमा हॉल, मॉल, मंदिर मस्जिद, गुरुद्वारा,चर्च, होटल, रेस्टोरेंट, हवाई यात्रा कोई भी सार्वजनिक आयोजन, सभा, समारोह,कोचिंग आदि पर रोक जारी √ रेलसेवा पर रोक नहीं है, सिर्फ मेट्रो रेल पर रोक है. √ अब आप परमिशन लेकर अपनी गाड़ी से एक राज्य से दूसरे राज्य जा सकते हैं √ रेड जोन,बफर जोन या ऑरेंज जोन घोषित करने का निर्णय राज्य खुद करेंगे √ राज्य आपसी सहमति से बस या अन्य परिवहन सेवा का परिचालन दिशानिर्देशों के मुताबिक कर सकते हैं √ मेडिकल स्टाफ, डॉक्टर, नर्स, एंबुलेंस, पारामेडिकल स्टाफ, सैनिटरी पर्सनल, खाली या भरे गुड्स/कार्गो ट्रक को राज्य के अंदर या बाहर आने-जाने पर कोई रोक नहीं होगी. नई गाइडलाइन्स पर नजर डालने से साफ हो जाता है कि इसमें पिछले लॉक डाउन की तुलना

Read more

अब हर दिन घर पर मंगाइये गरमागरम खाना

लॉक डाउन के दौरान आपके काम की खबर लॉक टाउन में बाहर के लजीज खानों के लिए तरस रहे पटना वासियों के लिए अच्छी खबर है. गुरुवार से अब हर दिन रेस्टोरेंट्स खुलेंगे . जी हां रेस्टोरेंट हर दिन खुलेंगे और शर्तों के साथ आपके मनपसंद खाने की होम डिलीवरी भी करेंगे. आप खुद रेस्टोरेंट नहीं जा सकते. फोन करके खाना ऑर्डर कीजिए और शाम 6:00 बजे से पहले आप के खाने की होम डिलीवरी हो जानी चाहिए. पटना डीएम कुमार रवि ने रेस्टोरेंट्स के साथ-साथ किताबों की दुकानें खोलने के लिए आदेश जारी किए हैं. किताबों की दुकान सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को ही खुलेगी. किताबों की दुकानों के लिए वही नियम लागू होंगे जो इलेक्ट्रॉनिक, इलेक्ट्रिकल और ऑटो स्पेयर्स की दुकानों के लिए हैंं. राजेश तिवारी

Read more

’31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की मांग’

पीएम के साथ वीसी में हुई डिमांड कोरोना वायरस से सुरक्षा एवं बचाव पर आयोजित आज प्रधानमंत्री की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार शामिल हुए. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम सेअपने संबोधन में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने में केंद्र, राज्य सरकार के सामूहिक प्रयास की सराहना की. उन्होंने कहा कि इस संकट के समय राज्यों नेे भी अपनी जिम्मेवारी का बेहतर ढंग से निवर्हन किया है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए किए जा रहे कार्यो, लॉकडाउन के दौरान छट में किये जा रहे रोजगार सजन के कार्यों एवं कोरोना संक्रमण की अद्यतन स्थितिके साथ-साथ तथा भविष्य की रणनीति पर विस्तृत चर्चा की गई. मुख्यमंत्री नीतीश कमार ने अपने संबोधन में सभी लोगों का स्वागत करते हुये कहा कि आज की इस चर्चा में बहुत सारी बातें सामने आयी हैं. उन्होंने कहा कि बिहार के संबंध में हमआप सभी को जानकारी देना चाहते हैं कि देश के अन्य हिस्सों से एवं विदेशों से आने वाले लोगों के कारण बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 700 से ज्यादा हो गयी है. अभी भी लोग बाहर से आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि 4 मई से 10 मई के बीच 1 लाख से ज्यादा लोग आये हैं. उनमें 1,900 लोगों की रैडम टेस्टिंग करायी गयी है, जिसमें 148 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के बाहर दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों, छात्रों जरूरतमंदों को ट्रेनों से लाने की अनुमति देने

Read more

पटना में ये तीन दिन ही खुलेंगे निजी ऑफिस और चुनिंदा दुकान

कंटेनमेंट जोन में कोई रिलीफ नहीं बिहार के गृह विभाग द्वारा निर्गत आदेश के बाद लोगों को इस बात का बेसब्री से इंतजार था कि रेड जोन में जिलाधिकारी दुकानों को खोलने के बारे में क्या फैसला करते हैं. पटना भी रेड जोन में शामिल है. बिहार सरकार के आदेश के बाद पटना डीएम ने यह स्पष्ट कर दिया है कि कौन सी दुकान खुलेगी और कौन से दफ्तर खुलेंगे और कब कब खुलेंगे. पटना जिलाधिकारी कुमार रवि ने लॉकडाउन की अवधि में निम्न बिंदुओं पर निर्णय लेते हुए कार्यान्वयन का निर्देश दिया है–गृह विभाग के पत्रांक 303 दिनांक 6/5/2020 में कंडिका (i) से (vii) में अंकित दुकानें मात्र सोमवार, बुधवार एवं शुक्रवार को ही खुलेगी.-शॉपिंग कंपलेक्स ,मार्केट कंपलेक्स और शॉपिंग मॉल में अवस्थित कोई भी दुकान नहीं खुलेगी.-सोशल डिस्टेंस का अनुपालन दुकानदार द्वारा किया जाना आवश्यक होगा. दुकान के आगे वृत्त आकार में ‘दो गज की दूरी’ पर निशान लगाया जाएगा.-सोशल डिस्टेंस का अनुपालन सुनिश्चित नहीं करने पर दुकानदार के विरुद्ध कार्यवाई करते हुए दुकान को तुरत बंद करने की कार्रवाई की जाएगी.-दुकान के लोगों का तथा ग्राहक का मास्क लगाना अनिवार्य होगा.-पटना के 14 कंटेनमेंट जोन में इन दुकानों के खुलने की अनुमति नहीं होगी.-अब प्राइवट ऑफिस 33% उपस्थिति के साथ सोमवार, बुधवार एवं शुक्रवार को चलेंंगेे. कौन-कौन सी दुकानें खुलेगी तो विशेष रूप से जानना जरूरी है. यहां क्लिक करें और जानें किन किन दुकानों के लिए बिहार सरकार ने दी है हरी झंडी https://bit.ly/2YLAuEy यहां यह बता देना आवश्यक है कि ना तो कोई होटल ना

Read more

तो क्या राज्यों को मिलेंगे विशेष अधिकार!

कोरोना संक्रमण की चेन कितने दिन में लॉक डाउन तोड़ पाएगा ये अभी कोई भी बताने की स्थिति में नहीं है. 14 अप्रैल को प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी सुबह दस बजे कोरोना श्रृंखला का अपना चौथा राष्ट्रीय संबोधन देंगे. चर्चा है कि इस संबोधन में प्रधान मंत्री राज्यों को यह अधिकार देने जा रहे हैं कि राज्य अपनी सुविधा और जरूरत के मुताबिक मौजूदा लॉक डाउन का विस्तार कर सकते हैं. बिहार में लॉकडाउन एक्सटेंशन लगभग तय है. इस बार ‘जान भी के साथ जहान भी’ की तर्ज पर लॉकडाउन आगे बढ़ेगा. केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार पिछले तीन सप्ताह से ठप पड़ी गतिविधियां पटरी पर लाने की कोशिश की जाएगी.लॉक डाउन से जान तो बच जाएगी, आगे जीवन कैसे चलेगा ये भी सोचना होगा. केंद्र और राज्य सरकार इसपर विचार कर रहे हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि लॉक डाउन अगर ज्यादा दिन तक चला तो मजदूर, श्रमिक वर्ग, गरीबों की स्थिति खराब होगी. भूख से मरने से बेहतर है कोरोना से मरना. कोरोना से बच भी सकते हैं लेकिन भूख से मरना तय होगा. इस पर केंद्र और राज्य सरकार गंभीरता से विचार कर रही है. एक ओर आजीविका जरूरी है वहीं अगर सामाजिक दूरी का पालन नहीं होगा तो कोरोना संक्रमण को रोकना असंभव हो जाएगा.कोरोना की कोई दवा अभी तक नहीं बन पाई है. ऐसे में सामाजिक दूरी ही इससे बचने का एकमात्र उपाय है. सरकार के पास भी सीमित उत्पाद है. लोगों की जरूरत को पूरा करने के लिए उत्पाद इकाइयों का शुरू होना

Read more