12 जनपथ से बेदखल या नए राजनीतिक संग्राम की तैयारी !

नई दिल्ली,1 अप्रैल. राजनीति भी अजीब होती है. सत्ता में रहते वक्त रसूख ऐसा कि परिंदे भी पांव न मार पाएं. लेकिन सत्ता से बेदखल होने के बाद परिंदे भी पहचानने से इंकार कर दें. दूर तो दूर अपने भी अपने होने से इंकार दें. राजनीति के शतरंज को अपनी चाल से मात देने वाले स्व. रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान के साथ ऐसा ही हुआ . देश की राजधानी दिल्ली में सत्ता में अपने दमखम के साथ काबिज 12 जनपथ से चिराग पासवान को इस तरह बेदखल किया गया कि किसी ने सोचा भी नही होगा. अभी कुछ ही दिन पूर्व हुए बिहार विधानसभा में अपनी धमक से जेडीयू का समीकरण बिगाड़ने वाले चिराग का चिराग इस तरह बुझ जाएगा किसी ने सोचा नहीं था. चिराग को 12 जनपथ से बेदखल करने की राजनीति पर लगभग 3 दशक से देश की राजनीति को देखने वाले वरिष्ठ पत्रकार रवि शेखर प्रकाश की रिपोर्ट – 12 जनपथ से चिराग पासवान के समान को उठाकर सड़क पर फेक उन्हे बंगले से बेदखल कर दिया गया. बिखरे समान देखकर रोने लगे पासवान. राम विलास पासवान कभी सियासत का किंग मेकर हुआ करते थे. राम विलास पासवान के मृत्यु के बाद वक्त बदला ,सियासत ने रंग बदले. राजनीति के मायने ही बदल गये. इनका पुरा कुन्बा बिखर गया. तारे ज़मीं पर. देश में उप राष्ट्रपति का चुनाव होने को है. हो सकता है नीतीश कुमार नोमिनेट हो. नीतीश के बाद जेडीयू का क्या हक्ष्र होगा, इसपर मंथन जारी है. जून तक बिहार मंतत्रिमंडल

Read more

साहब के खौफ का अंत!

आजीवन सजा काटने से पहले ही हत्यारे शहाबुद्दीन की सांसो ने साथ छोड़ा पटना/दिल्ली,1 मई. तिहाड़ जेल में हत्या का आजीवन सजा काट रहे बिहार के बाहुबली आरजेडी नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन उर्फ साहब की कोरोना से मौत हो गई है. मोहम्मद शहाबुद्दीन सीवान के पूर्व सांसद भी थे. दिल्ली के एक अस्पताल में कोरोना से संक्रमित होने के बाद उन्हें गम्भीर स्थिति में भर्ती कराया गया था. हालांकि शहाबुद्दीन की मौत की पुष्टि को लेकर काफी देर तक असमंजस का माहौल रहा. त‍िहाड़ जेल प्रशासन ने भी  पुष्टि करने से बचा रहा लेकिन आरजेडी नेता तेजस्वी यादव के ट्वीट के बाद यह पुख्ता हो गया.  बता दें कि आज सुबह से ही बिहार के चर्चित बाहुबली नेता की कोरोना की वजह से मौत की खबरें आ रही थीं, जिसके बाद तिहाड़ जेल प्रशासन की ओर से इन खबरों का खंडन किया. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 20 अप्रैल को जब मोहम्मद शहाबुदीन की हालत अचानक बिगड़ी तो शुरुआती लक्षण जो दिखे, उसे देखते हुए जेल प्रशासन ने सर्वप्रथम कोरोना संक्रमण की जांच कराया.  रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही शहाबुद्दीन को तुरंत तिहाड़ जेल के चिकित्सकों की निगरानी में दे दिया गया. जब इसके बाद भी शहाबुद्दीन की हालत नहीं सुधरी तो वेंटिलेटर पर शिफ्ट करना पड़ा. शुक्रवार से लगातार बिगड़ती तबीयत के बाद शनिवार को शहाबुद्दीन ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. शहाबुद्दीन का इतिहासशहाबुद्दीन के खिलाफ तीन दर्जन से अधिक आपराधिक मामले चल रहे हैं. तिहाड़ जेल जाने से पहले वे बिहार के भागलपुर और सीवान की

Read more

गलियां-सड़क चकाचक पर ‘नल’ से नहीं टपक रहा ‘जल’

गड़हनी,22 अप्रैल. भोजपुर जिले का गड़हनी प्रखंड के लगभग 6 किलोमीटर पर स्थित बलिगांव पंचायत है.बलिगांव पंचायत की पहचान अंग्रेजों द्वारा स्थापित कोठी से जाना जाता हैं. बताया जाता है कि इस कोठी में अंग्रेजों ने इस क्षेत्र का अपना ऑफिस बनाया था. इस कोठी में छह रूम, कुआँ सहित कई चीजें हैं जो आज जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं. जब-तब लोग इसे देखने जाते हैं या बाहर से आये लोगो को दिखाने ले जाते हैं. यह कोठी इस पंचायत की खास पहचान है. वही दूसरी पहचान बाबू कुँवर सिंह 1857 के लड़ाई में बलिगांव रुक कर पोखरा में स्नान ध्यान किए थे, जो आज उसी पोखरा के किनारे बाबा बलीश्वर नाथ का शिव मंदिर बनाया गया हैं. पोखरा के सौन्दर्यीकरण नही होने से छठ पूजा के दौरान छठव्रतियों की भी परेशानी होती हैं. पंचायत सरकार भवन पिछले साल 2020 में बन कर तैयार है लेकिन अभी तक पंचायत के मुखिया सुनील कुमार को हैंड ओवर नही हुआ हैं. पंचायत के सात निश्चय योजना, पंचम वित्त आयोग चौदहवीं एवं पन्द्रहवीं योजना के अंतर्गत लगभग ढाई करोड रूपये का काम किया गया गया है.मुखिया ने बताया कि पंचायत में राशि भरपूर नही मिला हैं जिससे बलिगांव पंचायत का भरपूर विकास नही हुआ हैं, जिसका आरोप प्रशासनिक अधिकारी पर लगाया है. पंचायत में कुल गांव बलिगांव , श्रीनगर , अजनाप, रौशनटोला, ललित के बथान, खेलाड़ी टोला, लालगंज, छोटकी तेंदुनी, डिहरी, महथिनटोला, डीह पर , भगवान टोला शामिल हैं. पांच वर्षो में पंचायत में काफी कम फंड मिलने के बावजूद भी संभवत सभी 16

Read more

लालू की जमानत पर कोरोना का ग्रहण!

अभी एक हफ्ते तक नही होगी लालू की जमानत पटना,20अप्रैल. झारखण्ड हाई कोर्ट द्वारा राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को जमानत मिलने के बाद भी उनकी रिहाई पर ग्रहण लग गया है. महामारी कोरोना के कारण राजद समर्थकों को फिलहाल कुछ दिन इंतजार करना पड़ेगा. शनिवार को कोर्ट द्वारा जमानत मिल जाने के बाद उम्मीद थी कि सोमवार या मंगलवार को बेल बांड भरा जायेगा लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से झारखंड बार काउंसिल ने अगले 7 दिनों तक कोर्ट में वकीलों को किसी भी तरह के कार्य में करने की मनाही है. काउंसिल के इस निर्णय के बाद 25 अप्रैल तक कोई भी कार्य कोर्ट में संपादित नही होगा. ऐसी स्थिति में सोमवार यानी 26 अप्रैल को लालू प्रसाद यादव की रिहाई के लिए बेल बांड भरा जाएगा. उधर सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बेल की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद भी राजद सुप्रीमो फिलहाल दिल्ली में ही रहेंगे. कल देर शाम दिल्ली पहुंचने के बाद तेजस्वी यादव ने अपने परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत की. परिवार का यह मानना है कि लालू प्रसाद के स्वास्थ्य लिए दिल्ली एम्स ही सबसे परफेक्ट जगह है. लालू यादव का दिल्ली से पटना आना सिर्फ परिवार नहीं बल्कि दिल्ली एम्स में उनका इलाज करने वाले डॉक्टरों के सुझाव के बाद तय होगा.लालू यादव को जमानत दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में मिली है. लेकिन कोरोना की वजह से अभी उनके समर्थकों को लगता है हफ्ते भर ही नही बल्कि लम्बा इंतजार करना पड़ेगा. ब्यूरो रिपोर्ट

Read more

कोर्ट ने दे दी जमानत, रिहा होंगे लालू

झारखंड हाईकोर्ट का फैसला, सशर्त मिली बेल रांची,17 अप्रैल. बहुचर्चित चारा घोटाले में सजा काट रहे आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव को झारखंड हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है. यह जमानत उन्हें दुमका कोषागार मामले में मिली है. शनिवार को सुनवाई के दौरान झारखण्ड कोर्ट ने यह फैसला सुनाया. कोर्ट ने उन्हें एक लाख के निजी बॉन्ड और 10 लाख के जुर्माने की राशि पर यह जमानत मुकर्रर की है. निजी बांड भरने के बाद वे बाहर आ सकते हैं. ऐसे में ऐसी उम्मीद की जा रही है कि 2 से 3 दिनों के बाद दुमका कोषागार मामले में आधी सजा काट चुके लालू प्रसाद जेल से बाहर आ जाएंगे. कोर्ट ने यह जमानत उन्हें सशर्त दी है. इसके अनुसार वे न तो देश से बाहर जाएंगे और न ही अपना पुराना दिया हुआ पता और मोबाइल नम्बर ही बदलेंगे. इसके पूर्व उन्हें चाइबासा कोषागार मामले के निकासी में भी जमानत मिल चुकी है और डोरंडा कोषागार का मामला फिलहाल कोर्ट के विचाराधीन है लेकिन फ़िलहाल CBI कोर्ट ने कोविड की वजह सुनवाई टाल दिया है. बताते चलें कि लालू प्रसाद इस वर्ष जनवरी से अपने इलाज के लिए दिल्ली एम्स में भर्ती हैं. Pncb

Read more

महिला दिवस पर महिला शक्ति का मिला साथ

अनशन की बागडोर छठे दिन महिला शक्ति के हाथमहिला दिवस पर विवि को बचाने आगे आईं शाहाबाद की बेटियाँकल होगी कुलपति और जिलाधिकारी के साथ समन्वय समिति की वार्ता आरा, 8 मार्च(रवि प्रकाश सूरज). लीड संगठन के सदस्य अनिरूद्ध सिंह के आमरण अनशन के छठवें दिन विवि को बचाने की लड़ाई में शाहाबाद की 4 बेटियाँ और विवि की छात्राएं संध्या सिंह, सोनाली कुमारी, सुरभि लता और रूपाली कुमारी भूख हड़ताल पर बैठी. इनके अलावा आज छात्राओं स्नेहा कुमारी, अंकिता सिंह, प्रिया कुमारी ने भी अनशनस्थल पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराई. आज छठे दिन अनिरुद्ध का रक्तचाप अब तेजी से गिर रहा है और इसको देखते हुए लीडरशिप फ़ॉर एजुकेशन एंड डेमोक्रेसी की कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से यह प्रस्ताव पारित किया कि अनिरुद्ध सिंह के साथ अप्रिय घटना हुई तो लीड सदस्य अमित सिंह गौतम इस आन्दोलन के नेतृत्व को निर्णायक बिंदु तक ले जाएंगे. इसी बीच अब इस आमरण अनशन को छात्र राजद का समर्थन मिल जाने से प्रशासन पर दबाव बढ़ गया है. विवि प्रशासन ने अनशन तोड़ने की गुजारिश की एक महत्त्वपूर्ण घटनाक्रम में कुलपति देवी प्रसाद तिवारी के साथ विवि के रजिस्ट्रार कैप्टेन श्रीकृष्ण सिंह, सीसीडीसी हीरा प्रसाद, छात्रकल्याण डीन के के सिंह और पूर्व परीक्षा नियंत्रक रामतवाक्या सिंह आज शाम अनशनस्थल पर आए और छात्रों से आमरण अनशन तोड़ने की गुजारिश की. लीड कार्यकारिणी सदस्यों ने इस मुद्दे पर समन्वय समिति बनाकर कुलपति के साथ कल वार्ता करने का प्रस्ताव रखा जिसे विवि ने मंजूर कर लिया। कुलपति ने छात्रों के साथ जिलाधिकारी को भी

Read more