हर रात आठ घंटे चलेंगी विदेशी मशीनें, काम होगा पटना की सफाई का

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | पटना दुनिया के सर्वाधिक प्रदूषित शहरों में से एक है और इसके प्रदूषण का मुख्य कारण धूलकण है. शहर की सफाई के लिए इटली एवं तुर्की से मंगाई गई स्वीपिंग मशीनें शुक्रवार रात से सड़कों पर उतरेंगी. हर रात 10:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक यह मशीनें काम करेंगी. तीन बड़ी मशीनें प्रतिदिन 150 किलोमीटर और चार छोटी मशीनें प्रतिदिन 140 किलोमीटर सफाई करेंगी. धूल-गंदगी की सफाई और कचरा उठाने के अलावा इन मशीनों से नियमित रुप से सड़कों की धुलाई भी की जाएगी.शहर के सभी प्रमुख सड़कों पर इन गाड़ीनुमा सफाई मशीनों से साफ-सफाई का काम किया जाएगा. हर अंचल से इस संबंध में प्रस्ताव मांगा गया था जिसके आधार पर रोस्टर तैयार किया गया है. हर अंचल में एक बड़ी मशीन उपलब्ध कराई जाएगी. वहीं चार छोटी मशीनों का आवश्यकतानुसार प्रयोग किया जाएगा. गंगा किनारे बने रिवर फ्रंट की सफाई के लिए एक छोटी स्वीपिंग मशीन को रिजर्व में रखा गया है. इटली और तुर्की से आयातित इन मशीनों के संचालन एवं रखरखाव का जिम्मा हैदराबाद की एजेंसी श्री राज राजेश्वरी इंटरप्राइजेज को सौंपा गया है. एजेंसी के साथ पटना नगर निगम ने एक साल का एग्रीमेंट किया है जिसकी अवधि 2 साल तक बढ़ाई जा सकती है. इस एकरारनामा के अंतर्गत एजेंसी को गाड़ियों के परिचालन एवं मेंटेनेंस का कार्य करना है. पटना नगर निगम का उद्देश्य है, संपूर्ण पटना शहर को धूल मुक्त किया जाए.

Read more