इंटरनेट कंटेंट को लेकर स्कूली बच्चों को सही राह दिखाएंगे टीचर

बिहार के सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों में इंटरनेट को लेकर जागरूकता बढ़ाने की कोशिश शुरू हो गई है. माध्यमिक शिक्षा निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने राज्य के सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों और परियोजना पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि उच्च माध्यमिक विद्यालयों के छात्रों के बीच पम्पलेट, पर्चा, ऑडियो-वीडियो के जरिये इंटरनेट दुरुपयोग रोकने के लिए जागरूकता पैदा करें. जानकारों के मुताबिक क्लास रूम में भी निगराने रखने की सरकार की योजना है. एक अप्रैल से शुरू हो रहे शैक्षणिक सत्र 2021-22 से शिक्षा विभाग हायर सेकेंडरी कक्षाओं के सिलेबस में इंटरनेट के दुरुपयोग रोकने से जुड़ी अध्ययन सामग्री पढ़ायेगा. इसके लिए कंटेंट तैयार भी कर लिया गया है. अगले शैक्षणिक सत्र से स्कूली बच्चों को इंटरनेट के दुरुपयोग राेकने के लिए एक विशेष विषय सामग्री को सिलेबस में शामिल किया जा रहा है. इसके लिए जरूरी कदम उठाये जा रहे हैं. एक वृत्त चित्र भी स्कूलों में भेजा जा रहा है. बता दें कि कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों के लिए ये पूरी कोशिश हो रही है. शिक्षा विभाग की आधिकारिक जानकारी के मुताबिक इंटरनेट दुरुपयोग रोकने से जुड़े इस पाठ में पोर्न, खतरनाक गेम्स, सामाजिक विद्वेष फैलाने वाले कंटेंट और दूसरी आपत्तिजनक ऑनलाइन सामग्री से सचेत करने से जुड़ी बातें होंंगी. दरअसल इंटरनेट के दुरुपयोग रोकने के संदर्भ में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी जरूरी कदम उठाने की घोषणा दिसंबर 2019 में की थी. मुख्यमंत्री ने यह घोषणा जल-जीवन हरियाली कार्यक्रम के सिलसिले में गोपालगंज जिले में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान की थी. मुख्यमंत्री की

Read more