इन मजदूरों की भी सुनिए सरकार

नीतीश सरकार द्वारा प्रवासी मजदूरों को लाने की व्यवस्था और लोगों को छिपकर ना जाने के लिए जो सरकार द्वारा अपील किया गया था इसका घोर उल्लंघन खुद सरकार के नुमाइंदे भी कर रहे हैं. जी हां यह नजारा पटना के जक्कनपुर थाने के पास का है जहां तकरीबन 50 की संख्या में यह सभी प्रवासी मजदूर बेंगलुरु से ट्रक के द्वारा आए हुए हैं. लेकिन इनको गंतव्य पर पहुंचाने के लिए पटना जिला प्रशासन द्वारा कोई ठोस पहल अभी तक नहीं किया है. यह सभी प्रवासी मजदूर अपने अपने गंतव्य स्थान पर जाने के लिए वाहनों का इंतजार कर रहे हैं. अब सवाल यह उठता है तो नीतीश कुमार ने जो कल समीक्षा बैठक की उसके बाद जो घोषणा किया गया कि किसी को भी घर जाने के लिए पैदल जाने की आवश्यकता नहीं है और ना ही छिपाकर जाने की जरूरत है क्या इसका घोर उल्लंघन पटना जिला प्रशासन द्वारा नहीं हो रहा है. राजेश तिवारी

Read more

सावधान, परदेसी अपने साथ लेकर आ रहे कोरोना

बिहार में 1 मई से ही हर दिन हजारों की संख्या में परदेसी अपने घर लौट रहे हैं. रेलवे की तरफ से बिहार के बाहर लॉक डाउन में फंसे मजदूरों छात्रों और अन्य लोगों के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है. हर दिन 15 से 20 स्पेशल ट्रेनें बिहार आ रही हैं. इन ट्रेनों से बड़ी संख्या में लोग अपने घर वापस लौट रहे हैं और अपने साथ ला रहे हैं वायरस. जी हां, वही जानलेवा वायरस जो सारे फसाद की जड़ बना हुआ है. शनिवार को 49 मामले बिहार में आए हैं कोरोनावायरस संक्रमण के. इनमें से 44 बिहार के बाहर से आए मजदूरों के हैं. यह आंकड़ा बिहार सरकार की तरफ से दिया गया है. इसकी पुष्टि की है स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने. पिछले 2 दिनों में जो नए आंकड़े सामने आए हैं उनसे साबित होता है कि बिहार के बाहर से लौट रहे मजदूर संक्रमण लेकर आ रहे हैं. हालांकि इनमें से ज्यादातर लोगों को कोरेंटाइन किया गया है और वही उनकी जांच की जा रही है. लेकिन ऐसे लोग भी बड़ी संख्या में हैं जो कोरेंटाइन सेंटर से निकल भागे हैं या चोरी-छिपे अपने घर पहुंच गए हैं. ऐसे में सावधानी बहुत जरूरी है. पीएनसी

Read more