अब पटना होगा रोबोटिक तकनीक से नी-ट्रांसप्लांट करने वाला इंडिया का दूसरा केंद्र

पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | मेडिकल साइंस में लगातार हो रहे नए नए तकनीकी अविष्कारों के बीच बिहार की राजधानी पटना में भी इसका आगाज देखने को मिल रहां है. यहां अनुप इंस्टीट्यूट ऑफ ऑर्थोपेडिक्स एंड रिहैबिलिटेशन (AIOR) ने स्ट्राइकर्स मैको रोबोटिक आर्म असिस्टेड यानि आंशिक घुटना एवं सम्पूर्ण कूल्हा ट्रांसप्लांट प्रक्रिया को लेकर रविवार को पटना के लेमन ट्री होटल में एक कार्यशाला का आयोजन किया. इस कार्यशाला में रोबोटिक तकनीक से आंशिक घुटना एवं सम्पूर्ण कूल्हा प्रत्यारोपण के बारे में बताया गया. ज्ञातव्य है यह सुविधा जल्द ही AIOR के द्वारा पटना में शुरू की जा रही है जो इंडिया का दूसरा सेंटर होगा. क्या है यह रोबोटिक तकनीकरोबोटिक आर्म असिस्टेंट सर्जरी जोड़ों के प्रतिस्थापन का एक नया तरीका है जो मरीज के अनुसार इम्प्लांट अलाइनमेंट और पोजिशनिंग के उन्नत स्तर की संभावनाओं को पेश करता है. यह तकनीक सर्जनों को रोगी आधारित 3D प्लान बनाने का अवसर देता है और उन्हें नियंत्रित रोबोटिक आर्म प्रक्रिया का इस्तेमाल करते हुए जोड़ों के प्रतिस्थापन की सर्जरी का मौका देता है जो सर्जन को उच्च स्तर की सही प्रक्रिया के निष्पादन में मदद करता है. हॉस्पिटल के डॉक्टर ने कहा “मैको जोड़ों के प्रतिस्थापन की सर्जरी की प्रक्रिया में बदलाव ला रहा है. वर्चुअल 3D मॉडल का इस्तेमाल करते हुए, मैको पद्धति सर्जन को हर मरीज के अनुसार ऑपरेशन के पूर्व विशेष सर्जिकल योजना बनाने का मौका देती है ताकि ऑपरेशन रूम में प्रवेश करने के पूर्व सर्जन के पास प्रतिस्थापन की एक स्पष्ट योजना होगी. सर्जरी के दौरान सर्जन उस

Read more