मुंगेर में कोरोना का शतक

दो हफ्ते में पांच गुना बढ़ा बिहार में संक्रमण मुंगेर में कोरोनावायरस ने शतक पूरा कर लिया है. रविवार को मुंगेर में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 102 तक पहुंच गई. वहीं बिहार में अब 516 कोरोनावायरस मरीज हो गए हैं. हालांकि इनमें से 119 लोग स्वस्थ हो चुके हैं. ताजा अपडेट के मुताबिक मुंगेर में 7 नए मामले सामने आए हैं. इनके अलावा औरंगाबाद में भी 5 मरीज मिले हैं. वही अरवल में एक और मरीज के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है. पिछले 2 हफ्ते का बिहार का आंकड़ा 20 अप्रैल को बिहार में करीब सौ मरीज थे 24 अप्रैल को 200 से ज्यादा मरीज 27 अप्रैल को तीन सौ से ज्यादा मरीज 29 अप्रैल को 400 से ज्यादा मरीज 03 मई को 500 से ज्यादा मरीज हो गए. आंकड़े बताते हैं कि पिछले 2 हफ्ते में ही बिहार में कोरोनावायरस मरीजों का आंकड़ा 100 से 500 के पार हो गया. यानि 5 गुना संक्रमण बढ़ा है पिछले 2 हफ्ते में. इसलिए बेहतर यही हो कि लॉक डाउन का लोग कड़ाई से पालन करें. बिहार में बढ़ते आंकड़ों के कारण ही बिहार सरकार ने तीसरा लॉक डाउन और सख्ती से लागू करने का निर्णय लिया है. राजेश तिवारी

Read more

बिहार के एक और जिले में कोरोना का खुल गया खाता

बिहार कोरोना अपडेट: पॉजीटिव केस 366, स्वस्थ- 64आज सामने आए 19 मामले जिनमें गोपालगंज में 6 पॉजिटिव मिले हैं. वहीं मुंगेर में एक और मरीज मिला हैै जिसके बाद मुंगेर मेंं अब कुल 92 मरीज हो गए हैं.अररिया,सीतामढ़ी और शेखपुरा में भी आज कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने की पुुष्टि हुई. कैमूूूर में आज चार और पेशेंट मिले हैं. जबकि जहानाबाद के घोषी में तीन और कोरोना पॉजिटिव मिले. बिहार में अब 28 जिलों में कोरोना की पहुंच हो गई है. सीतामढ़ी में 26 साल के जिस युवक को पॉजिटिव पाया गया है, वह गाजियाबाद से आया था. स्वास्थ्य सचिव संजय कुमार ने बताया कि उसके बारे में और जानकारी जुटाई जा रही है. बिहार में अब कुल मरीजों की संख्या 366 हो गई है. अच्छी बात यह है कि आज सात और मरीज स्वस्थ होकर अपने घर लौट गए. इसके बाद अब स्वस्थ होने वालों की कुल संख्या 64 हो गई है. इस बीच मंगलवार को केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सभी राज्यों के आईटी मिनिस्टर के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में यह साफ कर दिया है कि अब सभी आईटी कंपनीज का काम 31 जुलाई तक वर्क फ्रॉम होम होगा. पहले यह लिमिट 30 अप्रैल तक थी जिसे अब बढ़ाकर 31 जुलाई कर दिया गया है. पूरी खबर के लिए क्लिक करें https://bit.ly/3aPtoBj पीएनसी

Read more

अब तक कुछ ऐसी है बिहार में कोरोना की तस्वीर

बिहार के लिए 90 मरीजों के साथ मुंगेर चिंता का सबब बना हुआ है. वहीं राजधानी पटना में अचानक सामने आए 5 मरीजों के साथ यह बिहार में दूसरे नंबर पर पहुंच गया है. इसके बाद 34 मरीजों के साथ नालंदा और 32 मरीजों के साथ सासाराम भी जैसे एक दूसरे को पछाड़ने में लगे हैं. बिहार के 25 जिले अब कोरोना की जद में आ चुके हैं. बिहार में लगातार बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दुकानें खोलने का फैसला फिलहाल स्थगित कर दिया है. इस बात की उम्मीद ज्यादा है कि बिहार के ज्यादातर शहरों में लॉक डाउन 3 मई के बाद भी जारी रह सकता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सोमवार को मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में इस बात के संकेत दिए हैं कि सभी राज्यों को अपने यहां रेड जोन चिन्हित कर लेने चाहिए, जहां लॉक डाउन अगले कुछ दिनों तक जारी रहेगा, जब तक की वह इलाका ग्रीन जोन में परिवर्तित ना हो जाए और वहां जाहिर तौर पर लोगों को कोई छूट नहीं मिलने वाली. पीएनसी

Read more

कोरोना से जीती जंग: स्वस्थ होकर लौटी घर

शरणम की महिला नर्स ने कोरोना को हरायासंपत चक के मानपुर बैरिया निवासी पिंकी ठीक होकर लौटी घर कोरोना से डरने की नही सावधानी बरतने की जरूरत है – पिंकी पटना ( अजीत ): पटना के खेमनीचक स्थित शरणम अस्पताल की 19 वर्षीय नर्स पिंकी कुमारी जानलेवा कोरोना को हराकर अब बिलकुल स्वस्थ होकर अपने घर लौट आई है. पिछले 9 दिनों से एनएमसीएच में भर्ती पिंकी का फाइनल टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आने की खबर उसके परिवार और गाँव मानपुर बैरिया सहित आस पास के इलाके के लोगों के लिए बड़ी राहत और सुकून देने वाली है . पिंकी ने 20 मार्च को मुंगेर के युवक का बीपी नापा था जो एम्स जाने से पहले यहां 20 मार्च को शरणम हॉस्पिटल में इलाज के लिए पहुंचा था. 19 साल की बैरिया की रहने वाली पिंकी एनएमसीएच में भर्ती थी. बता दें कि मुंगेर निवासी कतर से लौटे युवक से जुड़े कोरोना चेन की यह पहली मरीज है, जिसने जानलेवा वायरस से जंग जीत ली है. खतरनाक वायरस कोरोना को हराने वाली पिंकी की माँ आशमा देवी और भाई रोहित व रितेश को उसके घर लौटने पर बड़ी राहत मिली है . पिंकी ने बताया कि उसे जब पता चला कि उसने जिसका बीपी नापा था, उसकी कोरोना से एम्स में मौत हो गई तो उसे विश्वास नहींं हुआ. जब प्रशासन अस्पताल को सील करते हुए उसे और अन्य दो स्टाफ को कोरोना के संदेह में एनएमसीएच ले गयी तो वह डर गयी थी. उसे कोरोना के मरीजोंं के इलाज के

Read more