गुजरातियों के लिए डीलक्स बस और बिहारियों के लिए साधारण ट्रेन भी क्यों नही!

पटना, 15 अप्रैल. बिहार से बाहर फंसे मजदूरों को लेकर विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव बहुत दुखी हैं और उन्होंने उन्हें उनके घरों तक भेजने के लिए सरकार से गुहार लगाई है. उन्होंने कहा कि प्रवासी मज़दूर भाईयों के Video देखकर दुःखी हो गया। कमजोर, मज़दूर और मज़लूम वर्ग का सूरत और मुंबई में अपने घर लौटने के लिये सड़क पर उतरना सरकार की असंवेदनशीलता को दर्शाता है. सरकार ग़रीब मज़दूर बंधुओं को उनके घर तक सकुशल पहुँचाने की व्यवस्था क्यों नहीं कर पा रही है? जैसे विदेशों से जो लोग आए उनकी स्क्रीनिंग कर उन्हें अपने घर तक पहुँचाया गया उसी तरह देश के सभी ग़रीब प्रवासी लोगों की स्क्रीनिंग कर उन्हें भी अपने घर भेजा जाइए. एक छोटे से रूम में 20 से अधिक ग़रीब मज़दूर रहते है। क्या सरकार नहीं जानती वहाँ कैसी Physical Distancing है? 100 मज़दूर एक शौचालय का प्रयोग करते है। अगर उन्हें देश भर में खड़ी रेलगाड़ियों में Physical Distancing का ख़्याल रखकर वापस घर भेज दिया जाए तो क्या दिक्कत है? हमारे कार्यालय से दिनभर में हज़ारों मज़दूरों से बात कर उनकी मदद की जा रही है। अब उनके पास पैसा, राशन-पानी कुछ नहीं है। जिनके पास है वो भी अपने घर जाना चाहते है। इस देश में अमीर और ग़रीब के लिए अलग-अलग क़ानून नहीं हो सकता? बिहार सरकार तुरंत गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली और पंजाब सरकारों से बात कर सभी बिहारियों को वापस लाएँ। संकट की घड़ी में हम उन्हें ऐसे नहीं छोड़ सकते। यह सरकार की नैतिक ज़िम्मेवारी है। दिल्ली

Read more

हे सरकार, सुनो तेजस्वी की पुकार

वक़्त की दरकार, जनहित में हमारी पुकार:- अधिक से अधिक जाँच केंद्र स्थापित करे बिहार सरकार. पहले कम से कम हर प्रमंडल और फिर ज़िला में जाँच केंद्र हो. हॉट स्पॉट्स पर अधिक से अधिक लोगों का टेस्ट किया जाए. रैंडम टेस्ट किए जाए. स्वास्थ्यकर्मियों को पर्याप्त जाँच व सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए सरकार जांच केंद्रों में तत्काल सारी सुविधा पहुँचे. पर्याप्त वेंटीलेटर की व्यवस्था हो. किसानों को क्षतिग्रस्त फ़सल का मुआवज़ा यथाशीघ्र मिले तीन माह के बिजली बिल माफ़ हो छात्रों की तीन माह की फ़ीस माफ़ हो ग़ैर-राशन कार्डधारियों को भी आर्थिक सहायता मिले प्रवासी कामगारों तक राशन-भोजन की व्यवस्था हो बेरोज़गारों को विशेष आर्थिक सहायता भत्ता मिले जनप्रतिनिधियों के अलावा उच्च अधिकारियों के वेतन में भी कटौती हो ग़रीबों और प्रवासी मज़दूरों के राशन एवं राशि भुगतान में किसी प्रकार की अनियमितता नहीं हो प्राथमिकता पर इसमें पारदर्शिता सुनिश्चित की जाए.

Read more

क्या स्थापना दिवस समारोह में शामिल होंगे तेजप्रताप!

राजद आज अपना 22वां स्थापना दिवस मना रहा है. इस मौके पर पार्टी के पटना स्थित ऑफिस में समारोह का आयोजन किया गया है. ये पहली बार है जब लालू यादव अपनी पार्टी के स्थापना दिवस समारोह में शामिल नहीं होंगे. लालू फिलहाल मुंबई में अपना इलाज करा रहे हैं. इस बीच राजद परिवार में एका रखने की कवायद जारी है. आज सभी नजरें इस ओर होंगी कि तेजप्रताप इस समारोह में शामिल होंगे या नहीं. दो दिन पहले पार्टी की ओर से जारी मीडिया के आमंत्रण में तेजप्रताप का नाम नहीं होने को लेकर काफी बवेला मचा था. इसके बाद पार्टी के नेताओं को सफाई देनी पड़ी थी कि ऐसा भूल वश हुआ था. पार्टी प्रवक्ता चितरंजन गगन ने कहा कि तेजप्रताप पार्टी के बड़े नेता हैं और वे जरुर शामिल होंगे और समारोह को संबोधित भी करेंगे. इस बीच राजद दफ्तर और 10 सर्कुलर रोड के बाहर लगे पोस्टरों ने भी लोगों का ध्यान खींचा है. इन पोस्टर्स में पहली बार लालू की बहू ऐश्वर्य का फोटो भी नजर आया. राजद तमाम बड़े नेताओं के साथ बहू ऐश्वर्य की फोटो देखकर ऐसी चर्चा है कि जल्द ही ऐश्वर्य भी राजनीति में एंट्री ले सकती हैं. राजेश तिवारी

Read more

“मेवा के लिए नहीं, सेवा के लिए है सत्ता”

बिहार विधानसभा में आज विश्वासमत प्रस्ताव के दौरान पक्ष और विपक्ष के बीच जबरदस्त नोक-झोंक देखने को मिली. हंगामे की आशंका के कारण इसका लाइव प्रसारण नहीं किया गया. सदन शुरू होते ही राजद के सदस्यों ने वेल में पहुंचकर नीतीश कुमार के खिलाफ खूब नारेबाजी की. स्पीकर विजय चौधरी के हस्तक्षेप के बाद राजद सदस्यों ने अपनी जगह पकड़ी लेकिन कमेंट जारी रहा. पूरे हंगामे के दौरान ही नीतीश कुमार ने अपना विश्वासमत हासिल किया. NDA के पक्ष में 131 वोट मिले तो वहीं 108 वोट विपक्ष को मिले. नीतीश के विश्वास मत हासिल करते ही राजद ने सदन से वॉकआउट किया और सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई. सदन के बाहर भी राजद विधायक लगातार प्रदर्शन करते नजर आए. इससे पहले कार्यवाही शुरू होते ही राजद की तरफ से तेजस्वी यादव को विरोधी दल का नेता मनोनीत किया गया. विधानसभा अध्यक्ष को प्रस्ताव दिया गया, जिसे उन्होंने मंजूर कर लिया. नेता प्रतिपक्ष के रुप में तेजस्वी यादव ने आज अपने पहले संबोधन में नीतीश के खिलाफ हमला बोला. उन्होंने कहा कि जनता ने महागठबंधन को पांच साल के लिए चुना था लेकिन हमारे साथ, बिहार की जनता के साथ धोखा देकर नीतीश कुमार ने महागठबंधन तोड़ दिया. नीतीश जी का इस्तीफा और भाजपा का तुरंत समर्थन सब पूरी प्लानिंग के तहत हुआ. नीतीश जी नैतिकता की बात करते हैं, ये कौन सी नैतिकता है आपकी? क्या कहा तेजस्वी यादव ने सुनिए- तेजस्वी यादव ने सुशील मोदी पर भी जमकर हमला बोला. तेजस्वी ने उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी से कहा

Read more

आपको शर्म नहीं आती क्या?

बिहार विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के दौरान आज जबरदस्त हंगामा हो रहा है. सदन शुरू होते ही राजद के सदस्य वेल में पहुंचे और नारेबाजी करने लगे. विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर विश्वासघात का आरोप लगाया. तेजस्वी यादव ने कहा कि सुशील मोदी को शर्म नहीं आती क्या. इसके बाद बीजेपी और राजद सदस्यों के बीच जमकर नोक-झोंक शुरू हो गई. तेजस्वी ने आरोप लगाया कि सुशील मोदी ने उनके परिवार पर कई आरोप लगाए और कहा कि नीतीश के साथ मिलकर सुशील मोदी ने उन्हें फंसाया है. सूत्रों के मुताबिक तेजस्वी आज सदन में काफी हमलावर दिखे और कहा कि मैंने अपने करीब 2 साल के कार्यकाल में अपना काम पूरी इमानदारी से किया. लेकिन CM और बीजेपी ने बिहार में सत्ता की बोली लगा दी.

Read more