जाम से त्राहिमाम है जिला के सभी हाइवे

कोइलवर/भोजपुर (आमोद कुमार की रिपोर्ट) | जाम के नाम आते ही बड़े व छोटे वाहनों में सवार यात्रियों व लोगो के जेहन में कोईलवर पुल याद आता था. लेकिन अब कोईलवर के चारो तरफ हर हाइवे व लिंक रोड पर जाम का आलम इस कदर है की 36 से 40 घंटे तक वाहन एक ही जगह पर खड़े रहते है. जिससे लगभग 5 हजार ट्रके रोजाना फंसती रहती है.  जिसमे फंसे यात्रियों का हाल बुरा हो जाता है. जाम के कारण निजी स्कूल के दर्जनों बस जहाँ तहाँ फंसी रहती है. जिसके कारण बच्चे सही समय से स्कूल नही पहुँच रहे है. तो दूसरी ओर चार बजते ही स्कूल प्रबंधन के फोन पर घण्टिया बजनी शुरू हो जाती है कि फला नंबर की बस कब चली है. उनका बच्चा अभी घर नही पहुँचा है. वही आरा से पटना जाने वाले एम्बुलेंस में सवार मरीजो के अटेंडेंट की सांस अटकी रहती है की कही वह धरहरा, कायमनगर, सकडडी, कोईलवर या पटना जिला के परेव व बिहटा में फंस ना जाये. क्योकि की आरा से पटना जाने में एम्बुलेंस को जहाँ डेढ़ घंटा लगता था. अब जाम के कारण तीन से चार घंटे से ज्यादा समय लग जाता है. लेकिन इससे किसी प्रशासनिक पदाधिकारियो को कोई फर्क नही पड़ता. क्योकि वीआईपी मूवमेंट में बड़े अधिकारी या नेता, मंत्री, विधायक या अन्य डेलिगेशन के आने की सूचना बिहटा, कोईलवर थाना को पहले ही दे दी जाती है.  जिससे पुलिस के जवानों को नेशनल हाइवे में पड़ने वाले हर चौक चौराहे व जाम वाले

Read more

मुखिया के बहिष्कार के चलते नहीं हो सकी पंचायत समिति की बैठक

भोजपुर के कोइलवर प्रखंड मुख्यालय परिसर स्थित प्रतिनिधि भवन में पंचायत समिति की बैठक प्रखंड के सभी जन प्रतिनिधियों और अधिकारियों के सानिध्य में मंगलवार की सुबह 11 बजे से शुरू होनी थी. परन्तु एक घण्टा विलम्ब से बैठक प्रारम्भ करने की प्रक्रिया शुरू हुई. शुरू होते ही मुखिया संघ के प्रखंड अध्यक्ष सह कुल्हड़िया पंचायत के मुखिया सुरेन्द्र कुमार ने सभी पंचायत के मुखिया संघ के साथ बैठक का बहिष्कार कर सभागार से बाहर निकल गए. मुखिया द्वारा बैठक का बहिष्कार किए जाने से कोरम का अभाव हो गया, लिहाजा बैठक नहीं हो सकी. मुखिया संघ द्वारा कहा गया कि बिहार सरकार द्वारा मुखिया के अधिकार और कार्यों में कटौती को वापस लेने की बात कही गई है. कहा कि बिहार सरकार के इस फैसले से सभी मुखिया दुखी हैं. बिहार सरकार इस आदेश को जल्द वापस ले नहीं तो अन्य माध्यमों से सरकार का विरोध किया जाएगा. मुखिया संघ में प्रमुख रूप से मुखिया संघ के अध्यक्ष सुरेन्द्र कुमार, अर्जुन सिंह, अखिलेश कुमार, मो. कसमुद्दीन , लालती देवी, फूलमती देवी, गीता देवी, उर्मिला देवी, अंजू देवी, स्वेता सिंह, निर्मला देवी, शत्रुध्न राम, दिल कुमारी उपस्थित थीं . प्रखंड प्रमुख अनिता देवी ने मुखिया को छोड़कर अन्य जनप्रतिनिधियों से बैठक में शामिल होने का आह्वान किया. लेकिन सदस्यों की उपस्थिति कम होने के कारण बैठक नहीं हो सकी. बाकी लोगों से अंचलाधिकारी मृत्युंजय कुमार ने पूरे प्रखंड को खुले में शौच से मुक्त करने में सहयोग की अपील की. इस मौके पर अंचलाधिकारी मृत्युंजय कुमार, कृषि पदाधिकारी राजेश चौधरी,

Read more