पटना में गंगा-सोन के बाद उफनाई पुनपुन-दरधा ने दर्जनों गांवों को डुबोया

गौरीचक के बाढ़ प्रभावित गांव में जिला परिषद अध्यक्ष और एसडीओ का दौरा

लखना में समुदाय किचन चालू कराने की मांग




फुलवारी / पुनपुन (अजीत) ।। पुनपुन और गौरीचक में पुनपुन नदी के जलस्तर में हुई वृद्धि की वजह से प्रखंड के कुछ गांव में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है. इससे उन गांवों का दूसरे जगहों से संपर्क भंग हो गया है.
पटना के गौरीचक थाना क्षेत्र अंतर्गत लखना पूर्वी पंचायत और आसपास के दर्जनों बाढ़ प्रभावित गांव में गुरुवार को जिला परिषद अध्यक्ष अंजू देवी और मसौढ़ी एसडीओ दल बल के साथ दौरा कर ग्रामीणों का हालचाल लिया. इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों से बाढ़ प्रभावित गांवों में सामुदायिक किचन शुरू कराने की मांग की गई है. द्वारिक पासवान ने बताया कि बेलदारी चक, मुस्तफापुर, सोना चक , मुसना पर , छठु चक , अलावलपुर , बलुआ चक , उड़ान टोला , सपहुआ , रामगंज , लहलाद पुर, चँडासी ,पलांकि मुरीद चक, आहिया चक , मोहनपुर, फहीम चक मिरहाजी चक सर्राफाबाद आदि बाढ़ प्रभावित गांवों का दौरा किया गया.

जानकारी के अनुसार पुनपुन प्रखंड की लखनपार पंचायत स्थित फहीमचक गांव के पास पुनपुन नदी के रिंग बांध से उपर रोड पर पानी बह रहा था. इसकी वजह से फहीमचक गांव पानी में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है. वही बरावां पंचायत के छोटकी सपहुआं व बडकी संपहुंआ गांव में भी पानी प्रवेश कर गया है. इधर लखनपार गांव के ठीक सामने समकुरा के पास रिंग बांध की मिट्टी गुरूवार को गिर गई जिसे बाद में जलसंसाधन विभाग ने एसडीओ अनिल कुमार सिन्हा के शिकायत पर तुरंत दुरूस्‍त करा दिया. इधर लखना पूर्वी पंचायत का बेल्‍दारीचक, महमदा व मुस्‍तफापुर गांव पानी से घिर गये हैं. लखनापूर्वी पंचायत की मुखिया प्रमिला देवी ने प्रभावित गांवों में सामुदायिक किचेन व नाव की व्‍यवस्‍था करने की मांग की है.
एसडीओ ने किया निरीक्षण
अनुमंडल पदाधिकारी अनिल कुमार सिन्हा ने गुरूवार को बाढ प्रभावित पुनपुन प्रखंड के विभिन्‍न गांवों का दौरा किया और और स्थिति की जानकारी ली. साथ ही कई गांव में राहत कार्य चलाने का आदेश दिया.

अजीत