क्या आपने देखा “वॉल ऑफ वरियर्स”

दीवार पर अनोखी पेंटिंग, जिसमें सम्मानित है हर एक कोरोना से लड़ने वाले

कोरोना काल की त्रासदी से जीतने वालों की याद दिलाता पेंटिंग




आरा 11जुलाई. दुनिया मे कुछ दीवार ऐसे हैं जिसे देखने के लिए खास तरह से सैलानी वहाँ जाते हैं और उसकी खासियत लोगों को लुभाती भी है. इन दीवारों में वॉल ऑफ ट्रॉय,बर्लिन वॉल,वॉल ऑफ स्टोन और वॉल ऑफ चाइना जैसे कई नाम दुनिया मे प्रचलित है.
ऐसे ही एक वॉल का निर्माण भोजपुर मुख्यालय आरा में भी हुआ है जिसका नाम है वॉल ऑफ “वरियर्स.”

चौंकने की कोई जरूरत नही क्योंकि यह कोई कोरी खबर नही बल्कि सच्चाई है लेकिन इस वाल पर आप घूम नही सकते क्योंकि यह वाल तो जरूर है लेकिन यह अपने पर खूबसूरत पेंटिंग को संजोए बीते पल से सबको रुबरु करा रहा है. जिसका उद्घाटन शनिवार को किया गया. आइये जानते हैं कैसा बना है वॉल(दीवार) है.

आरा में यह लोगो को आकर्षित करने वाला दीवार मंगलम दि वेन्यु,दक्षिणी रमना रोड आरा में स्थित है. जिसके ऑनर हैं भोजपुर के मशहूर चिकित्सक डॉ विजय गुप्ता एवं संगीता गुप्ता. कला के प्रति समर्पित डॉक्टर विजय की मुलाकात जब राष्ट्रीय स्तर के चित्रकार कौशलेश के युवा चित्रकारों की टीम से हुई तो उन्होंने मंगलम जिसे उन्होंने उत्सव प्लेस के रूप मे बनाया था,जहाँ कोविड काल आते ही उन्होंने उसे मरीजों के इलाज के लिए समर्पित कर दिया. कोविड का खतरा तलने के बाद डॉ विजय ने दीवार को यादगार बनाने के लिए पेंटिंग को चुना और चित्रकार कौशलेश से अपनी सोच को साझा किया. फिर बनकर ऐसा वाल जो कोरोना काल मे सभी योद्धाओं के सम्मान के लिए खड़ा हुआ. यह महज इत्तफाक कहा जाए या फिर संयोग कि इस पेंटिंग के उद्घाटन के एक दिन पहले रेलवे ने भी भोजपुरी पेंटिंग को आरा रेलवे स्टेशन पर जगह देने के लिए लिखित घोषणा किया. यानि चित्रकला का जलवा अब शहर में दिखने वाला है.

कोरोना महामारी से बचाव के लिए पहली पंक्ति में खड़े फ्रंट लाइन वर्कर-कोरोना वारियर्स सम्मान के अंतर्गत आरा शहर में विशाल “वाल ऑफ वारियर्स” (Wall of Warriors) के तहत बनाए गए मोहक एवं आकर्षक पब्लिक आर्ट पेंटिंग का उद्घाटन किया गया. वाल ऑफ वरियर्स पेंटिंग का उद्धघाटन डॉ विकास कुमार, मेजर राणा प्रताप सिंह,डॉ दिनेश प्रसाद सिन्हा, रेडक्रॉस की सचिव विभा सिन्हा, एडवोकेट सन्दीप कुमार व चंद्रभानु गुप्ता ने संयुक्त रूप से किया.इस अवसर पर क्षत्रिय स्कूल के पूर्ववर्त्ती छात्र संघ के संयोजक अमरेंद्र कुमार, निखिल कुमार सिंह व अभय कुमार भट्ट भी मौजूद थे. वही प्रतिष्ठित लोगों में वरिष्ठ रंगकर्मी व पत्रकार रवीन्द्र भारती, कृष्णेन्दू,चित्रकार कमलेश कुंदन, भास्कर मिश्रा, राजेन्द्र शर्मा, शंकर शर्मा, अमन राज,आनन्द कुमार,सुनील सिंह,आशुतोष पांडेय मौजूद थे.

यह वाल पेंटिंग भोजपुर के चित्रकारों द्वारा मिलकर निर्माण किया गया है. इस वाल पर फ्रंट वारियर्स डॉक्टर्स , पुलिस, नर्स, सफाईकर्मी, मीडियाकर्मी समाजसेवी एवं लैब टेक्नीशियन का जीवंत चित्रण किया गया है. मंगलम दि वेन्यु के ऑनर डॉ विजय गुप्ता ने अपने दीवार पर पेंटिंग के जरिये कोरोना काल के विजेताओं की स्मृति में यह पेंटिंग बनवाया है.

उन्होंने बताया कि कोरोना काल में केवल डॉक्टर और प्रशासन ही कोरोना वारियर्स नही थे बल्कि हर एक नागरिक वारियर था क्योंकि नियम और कोरोना गाइड को पालन करना उसकी अपनी प्रतिबद्धता थी. उन्होंने कहा कि अपने शहर में कोरोना काल की इस विजय की स्मृति में कुछ करना चाहता था इसी बीच चित्रकार कौशलेश कुमार से मुलाकात हुई और उन्होंने भी जागरूकता हेतु पेंटिंग का जब प्लान बनाया तो इस वाल ऑफ वारियर्स का विचार आया और फिर कौशलेश के साथ उनके टीम से जुड़े आरा के चित्रकार मुकेश चौधरी, विवेक कुमार और श्रवण कुमार ने मॉर्डन आर्ट फॉर्म में शानदार पेंटिंग बनाया है. पेंटिंग में एक आम इन्सान से लेकर डॉक्टर,प्रशासन और सफाईकर्मी तक को बड़ी खूबसूरती से वाल ऑफ वारियर्स पर जगह दिया गया है. इस पेंटिंग में खतरनाक कोरोना को भी बड़ी कलात्मकता से दर्शाया गया है. वाल ऑफ वरियर्स राह चलते राहगीरों को वहां से गुजरते आकर्षित कर रहा है. लोग थोड़ा देर रुकते हैं और फिर उसे ध्यान से देखते हैं तो कोरोना काल के हर विजेताओं की कल्पना मस्तिष्क में चलने लगती है. यही नही बिना स्लोगन के इस पेंटिंग में चित्र हर वो बात करती नजर आती है जो हर लोग से कोरोना काल में पालन करने के लिए आग्रह जैसे मास्क जरूरी,टिका जरुए लगवाएं, सामाजिक दूरी का ख्याल, सफाई का रखें ध्यान जैसे तमाम अपील इस पेंटिंग में साफ और स्पष्ट देखा जा सकता है.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट