दो दिनों में 11 मेयर प्रत्याशियों ने किया नामांकन, आज नामांकन का आखिरी दिन

प्रेम पंकज ने पत्नी के लिए जनता से मांगा वोट, कहा खरा न उतरूँ तो दुबारा मत दीजिएगा वोट

आरा, 24 सितंबर. भोजपुर मुख्यालय आरा इन दिनों नगर निगम चुनाव में पूरी तरह डूबा हुआ है. शहर में आने वाली हर तरफ की सड़कें गाड़ियों के काफिले के साथ गाजे-बाजे तो ऊंट-घोड़े और तरह-तरह के गाड़ियों पर सजावट के साथ अपने प्रत्याशियों को लेकर फूलों का हार पहना गर्मजोशी के साथ खचाखच भरा दिखाई पड़ रहा है. हर दिन ऐसा लग रहा जैसे शहर में शादियों का जलसा हो रहा हो. हो भी क्यों न आरा नगर निगम में इस बार मेयर,उपमेयर का चुनाव जो आम जनता के राहमो-करम पर टिका हुआ है. यह पहली बार है जब नगर निगम चुनाव में मेयर और उपमेयर प्रत्याशियों के लिए प्रत्याशी चुनावी रण में ताल ठोक रहे हैं. नामांकन की अंतिम तिथि 24 सितंबर तक है.




ऐसे में एक दिन पूर्व भी प्रत्याशियों का हुजूम दिनभर चुनावी रंग में रंगा दिखा, जिसमें पिछले कई सालों से मैदान में रहे दिगज्जो के साथ पहली बार किस्मत आजमा रहे नए उम्मीदवार भी शामिल दिखे. गुरुवार को जहां मेयर के लिए पांच उम्मीदवारों ने पर्चा भरा वही शुक्रवार को नामांकन में 6 लोग शामिल हुए, जिसमें पूर्व मेयर प्रियम, पल्लवी प्रियदर्शी, रेणु देवी,दुर्गावती देवी, दमवंती देवी और शहर के चर्चित व्यापारी व समाजसेवी प्रेम पंकज उर्फ ललन की पत्नी इंदु देवी दिखी. इसतरह दो दिनों में कुल 11 लोगों ने मेयर के लिए नामांकन किया. वही डिप्टी मेयर के लिए दो दिनों में 5 उम्मीदवारों ने शबीना खातून,राजामुनि देवी, कुंती देवी और शारदा देवी ने नामांकन भरा. वही 73 वार्ड पार्षदों के लिए प्रत्याशियों ने नामांकन किया.

पल्लवी ने कहा मैं बाकियों से बेहतर

चुनावी रण में पहली बार अपना भाग्य आजमा रही युवति पल्लवी छात्र राजनीति के बाद पहली बार वे चुनावी मैदान में किसी पद के लिए लड़ रही हैं . वे ABVP से जुड़ी रही हैं. पल्लवी ने बताया कि पहले लोगों ने उनसे चुनाव लड़ने को कहा था लेकिन उनका कोई विचार नही था, जब निगम ने महिला सीट घोषित किया तो उन्होनें इसमे अपना भाग्य अजमाना चाहा और मैदान में उतरी. पल्लवी एक कलाकार भी हैं और उन्होंने कहा कि चुनावी मैदान में जितने भी लोग हैं वे अपने पतियों के बल पर हैं कोई बाहुबली है तो कोई धनबली. बिना किसी का नाम लिए पल्लवी ने कहा कि महिला उम्मीदवारों में वैसे लोग अधिकतर हैं जो अपने पतियों के बदौलत मेयर का काम करेंगी. अधिकारी से बात नही कर सकती तो मेयर बनने के बाद काम कैसे होगा? पल्लवी ने कहा कि मैं युवा हूँ मैंने छात्र राजनीति में छात्रों की आवाज के लिए सड़क तक संघर्ष किया है. शिक्षित हूँ और अपनी बात खुद कहीं रख सकती हूँ इसलिए सबसे बेहतर और मजबूत उम्मीदवार हूँ.

प्रेम-पंकज उर्फ ललन ने कहा एक बार मौका दीजिये

आरा के चर्चित चेहरे, हंसमुख व्यक्तित्व और रामलीला को कई दशक से जिंदा रखने वाले व्यापारियों के बीच बेहद ही सम्मान पाने वाले प्रेम पंकज उर्फ ललन ने मीडिया के सामने पत्नी इंदु देवी का पक्ष रखते हुए कहा कि मैं आज से नही पिछले 20 सालों से जनता के बीच समाजसेवा में रत हूँ.

प्रेम पंकज और इंदु देवी प्रेस वार्ता के समय

चाहे वह व्यापारी के हित की बात हो गरीबों की बात हो या फिर धार्मिक या सांस्कृतिक कार्यक्रम जहाँ भी जिसने सहयोग मांगा मैंने अपनी पहुंच तक वह सहयोग किया. उन्होंने कोरोना काल का जिक्र करते हुए कहा कि कोरोना काल मे व्यापारियों के सहयोग से 32 लाख रुपये का अनाज भोजपुर प्रशासन को सुपुर्द किया जो उनलोगों तक पहुँचाया गया जो दिहाड़ी मजदूर थे .

मेयर प्रत्याशी इंदु देवी ( समाजसेवी प्रेम पंकज उर्फ ललन की पत्नी)

उन्होंने कहा कि मेयर बनने के बाद उनके अधिकार क्षेत्र में जो होगा उसे वो पूरा करेंगे. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वे कोई चुनावी घोषणा नही कर रहे, आरा की जनता जानती है कि अबतक उन्होंने क्या किया है. बस वे एक बार मौका मांग रहे हैं अगर वे जनता के उम्मीदों पर खरे नही उतरे तो दुबारा जनता के बीच नही आएंगे और अगर दुबारा आते हैं तो आप मुझे वोट मत दीजिएगा.

इस बीच वार्ड नंबर 13 से शुक्रवार को मोनू यादव ने भी नामांकन पत्र दाखिल किया. मोनू यादव वार्ड नंबर 13 से पार्षद पद के लिए चुनावी मैदान में उतरे हैं. इनके भी समर्थन का कारवां भारी समर्थकों के साथ भोजपुरिया शान में पीले गमछे और पगड़ी के साथ रोड पर नामांकन के वक्त नजर आया. मोनू यादव ने कहा कि अभिभावक रूपी जनता,भाई, और बहनो के आशीर्वाद के साथ मैं इस हुजूम के बीच हूँ यही मेरा सौभाग्य है. जीत हार किसने देखा है. सबसे पहले मोनू यादव ने अपने निवास स्थान से निकल सभी जनता का आशीर्वाद लिया और फिर मां दुर्गा के समक्ष माथा टेक नामांकन के लिए समाहरणालय पहुंचे.

नामांकन दाखिल करने के बाद मोनू यादव ने कहा कि हमारी वार्ड की जनता जानती है कि पिछले 15 साल वार्ड नंबर 13 में कितना विकास हुआ है. वार्ड की जनता खास कर महिलाओं के लिए कुछ नहीं किया है. इसके साथ ही वार्ड की साफ – सफाई भी किसी दिन हुई तो किसी दिन नहीं हुई. ऐसी स्थिति में यदि अब मैं वार्ड नंबर 13 से पार्षद पद के लिए जनता का आशीर्वाद रहा तो जो काम पिछले पार्षद ने नहीं किया है उसे मैं पूरा करूँगा.

इन्ही सब वादे और दावे के साथ प्रत्याशियों के आना जारी है जो आज शाम तक थम जाएगा. सभी अपने वादे के साथ डटे हैं होने वाले चुनाव के लिए. अब देखना होगा कि इन वादे और दृढ़ता के बीच खड़े विभिन्न प्रत्याशियों में से किसको जनता का प्यार मिलता है.

आरा से ओ पी पांडेय की रिपोर्ट