प्रो.अनिल कुमार राय ने ग्रहण किया केविवि के कुलपति का प्रभार

कुलाध्यक्ष माननीय राम नाथ कोविंद ने स्वीकार किया प्रो.अरविन्द अग्रवाल का इस्तीफा निवर्तमान वीसी प्रो.अरविंद अग्रवाल ने दिल्ली स्थित असोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज (ए आई यू) में प्रो.राय को सौंपा कार्यभार उच्च शिक्षा विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने जारी किया आदेश अध्ययन-अध्यापन पर रहेगा ज़ोर, सबके सहयोग से आगे बढ़ेगा विवि – प्रो.राय पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) | महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति प्रो.अनिल कुमार राय ने गुरुवार 15 नवम्बर को विवि के कुलपति पद का प्रभार ग्रहण कर लिया। इससे पूर्व प्रो.अरविन्द अग्रवाल विवि के कुलपति पद का दायित्व संभाल रहे थे. उनके इस्तीफे को भारत के माननीय राष्ट्रपति और विश्वविद्यालय के कुलाध्यक्ष श्री राम नाथ कोविंद ने स्वीकार कर लिया है. कुलपति का कार्यभार निवर्तमान कुलपति प्रो अरविंद अग्रवाल ने दिल्ली स्थित असोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज (ए आई यू) में प्रोफेसर अनिल कुमार राय को सौंपा. इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने आदेश जारी कर अगले आदेश तक या विवि में स्थायी कुलपति की नियुक्ति होने तक प्रो.अनिल कुमार राय को कुलपति पद का दायित्व सौंपा है. प्रो.राय ने इस दायित्व को स्वीकार करने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि चम्पारण की धरती पर स्थित इस विवि.को आगे बढ़ाना गाँधी जी के सपने को साकार करने जैसा है. मेरा प्रयास रहेगा कि विवि में अध्ययन-अध्यापन का माहौल बना रहे. विद्यार्थियों व अध्यापकों को किसी तरह की कठिनाई का सामना न करना पड़े. आगे कहा कि सभी को यह बात मालूम है कि विवि बहुत ही सीमित संसाधनों के साथ आगे

Read more

होगा जमावड़ा ‘क्षत्रियंस’ का : स्कूल की यादें होगी ताज़ा

11 नवम्बर को होगा हित नारायण क्षत्रिय स्कूल का पहला एल्युमनी मीट भोजपुर के विख्यात हित नारायण क्षत्रिय उच्च विद्यालय का पहला एल्युमनी मीट(पूर्ववर्ती छात्र समारोह) 11 नवम्बर 2018 को होगा. आयोजन को लेकर स्कूल के पूर्ववर्ती छात्रों की एक बैठक हुई जिसमें कार्यक्रम को लेकर विचार विमर्श किया गया. बैठक में पहला एल्युमनी मीट 11 नवम्बर दिन रविवार को स्कूल प्रांगण में करने का निर्णय लिया गया जिसमें सन 2013 तक के पासआउट छात्र भाग ले सकेंगे .इस कार्यक्रम में स्कूल के पूर्ववर्ती छात्रों के साथ ही ख्यातिनाम शिक्षकों को भी बुलाने का निर्णय लिया गया जिन्हें उस दिन सम्मानित किया जाएगा. पहली बार हो रहे इस आयोजन में देश-विदेश के अलग-अलग हिस्सों मे कार्यरत पूर्ववर्ती छात्र भी भाग ले रहे हैं. ‘क्षत्रियन’ फेसबुक पेज और व्हाट्सएप्प ग्रुप की पहल  कार्यक्रम के दिन कई सत्रों के आयोजन के साथ-साथ रक्तदान शिविर और वृक्षारोपण का भी कार्यक्रम रखा गया है. रक्तदान शिविर और वृक्षारोपण दोनों कार्यक्रम स्कूल कैम्पस में ही आयोजित होगा. आयोजन की सफलता को लेकर छात्रों ने ‘क्षत्रियन’ नाम से फेसबुक पेज और व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया है जिसमें कार्यक्रम में भाग लेने वाले सभी छात्रों को रखा गया है. इस आयोजन में स्कूल के 200 से भी ज्यादा पूर्ववर्ती छात्र भाग ले रहे हैं. आयोजन समिति की बैठक में अमरेन्द्र कुमार, ब्रजभूषण सिंह, नीलेश कुमार, डॉक्टर रोहित कुमार, अभय विश्वास भट्ट, रितेश कुमार, अनिल सिंह, एडवोकेट सुनील कुमार, जितेंद्र पांडेय, विकास सिंह, प्रवीण गहलोत, सुधीर सिंह, मनीष सिंह, अभिमन्यु सिंह, कुमुद पटेल, विकु प्रधान, मयंक भूषण, शशिकांत,

Read more

VC ने पूछा-“तो क्या जेल जाऊं? छात्रों ने कहा-“हाँ”

छः दिनों के बाद BEd छात्रों का टूटा अनशन, विवि ने मानी सभी शर्ते वार्तालाप में चला कहानियों का दौर, तीरों की तरह चुभते रहे छात्रों के सवाल छः दिनों तक डटे रहे 15 अनशनकारी छात्र, आधे से अधिक की बिगड़ी थी हालत 6ठे दिन जुटे 3 विधायक और 1 केंद्रीय मंत्री BEd में नामांकन को लेकर छात्र राजद और AISA द्वारा जारी आमरण अनशन,छठे दिन नाटकीय वार्तालाप के बाद समाप्त हुआ. बताते चलें B.ed में नामांकन शुल्क वृद्धि को लेकर छात्र संगठन ने आपति जताई थी और 15 छात्रों ने इस फीस वृद्धि वापस को ले आमरण अनशन किया था,जिसके समर्थन में एक के बाद एक सभी संगठन सामने आ गए और विश्वविद्यालय की खटिया खड़ी कर दी. छात्रों के घोर विरोध और आंदोलन के बाद भी विश्वविद्यालय प्रशासन की नींद नहीं खुली. विश्वविद्यालय प्रशासन छात्रों से वार्तालाप कर बेतहाशा बढ़ाए गये फीस वृद्धि को कम करने की बजाय अपने अड़ियल मिजाज पर कायम रहा. विश्वविद्यालय के इस रवैए पर छात्रों का गुस्सा बढ़ता गया और अनशन का कार्यक्रम एक के बाद दूसरे और तीसरे दिन तक लगातार चलता रहा. तीसरे दिन जब 5 छात्रों की हालत बिगड़ी तो छात्रों की नाराजगी और भी बढ़ गई. चौथे दिन छात्रों ने विश्वविद्यालय कैंपस के अंदर पुतला दहन के साथ-साथ प्रशासनिक भवन में ताला बंदी कर सबको अंदर ही बन्द कर दिया. चौथे दिन पुनः 8 छात्रों की हालत बिगड़ गई जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. इधर विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर डॉ अनवर इमाम ने यह कहा कि अगर रविवार तक

Read more

नोट्रेडेम अकादमी, पटना में मुफ्त स्वास्थ्य जांच शिविर

पटना (अजित की रिपोर्ट) | नोट्रेडेम अकादमी, पटना के पूर्व स्टूडेंट्स ने स्कूल परिसर में गुरुवार २० सितम्बर को स्कूल के शिक्षकों, बहनों और कर्मचारियों के लिए एक दिवसीय स्वास्थ्य जांच शिविर आयोजित किया. शिविर में विभिन्न रोगों की मुफ्त स्वास्थ्य जांच जैसे ईसीजी, हड्डी रोग , स्तन स्कैन, आंखों की जांच, रक्त शर्करा परीक्षण, रक्तचाप की जांच, शरीर संरचना विश्लेषण आदि किया गया. स्वास्थ्य शिविर में मौजूद चिकित्सा विशेषज्ञों में हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ0 अतुल वर्मा, ऑर्थोपेडिक डॉ0 अमूल्या सिंह, स्त्री रोग विशेषज्ञ और आईवीएफ विशेषज्ञ डॉ0 ज्योति गुप्ता, त्वचा विशेषज्ञ डॉ0 विकास शंकर, ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ0 मनीषा सिंह, डॉ0 दीप्ति राज, डॉ0 अभिषेक कुमार, नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ0 जयश्री शेखर, मधुमेह रोग विशेषज्ञ डॉ0 सुक्रित प्रकाश, ऑर्थोपेडिक्स डॉ0 योग रंजन और डॉ0 अर्नब सिन्हा, आदि ने प्रमुख रूप से सेवायें दी. इसके अलावा, एक सामान्य चिकित्सक, फिजियोथेरेपिस्ट और पोषण विशेषज्ञ भी मौजूद थे. शिविर में श्री साई अस्पताल कंकड़बाग, पटना आस्था केयर क्लब, वीएलसीसी और थाइरोकेयर के परामर्शी भी साझेदार थे. एसोसिएशन की सचिव सना फहीम ने बताया कि शिविर में लगभग 100 शिक्षकों, बहनों और कर्मचारियों के सदस्यों को शिविर में मुफ्त स्वास्थ्य परीक्षण और परामर्श दिया गया. उन्होंने कहा कि कैम्पस में ऐसे कार्यक्रम आगे भी चलाए जाते रहेंगे। एनडीए की प्रिंसिपल सिस्टर मैरी जेसी ने ऐसी गतिविधियों की सराहना की. मोंटेसरी अनुभाग के प्रधान मंत्री सिस्टर मैरी ट्रेसा ने स्वास्थ्य के महत्व पर विशेष रूप से शिक्षकों के लिए जोर दिया, जो अक्सर व्यावसायिक बीमारियों से पीड़ित होते हैं.

Read more

तलाशना होगा शिक्षा का वैकल्पिक मॉडल : प्रो दिवाकर

पटना. बिहार समाज विज्ञान अकादमी द्वारा पटना ट्रेनिंग कॉलेज में ‘बिहार में शिक्षा की राजनीतिक आर्थिकी’ विषय पर व्याख्यान का आयोजन हुआ. इस समसामयिक विषय पर व्याख्यान चर्चित अर्थशास्त्री  प्रो डी एम दिवाकर, प्राध्यापक, ए एन सिन्हा समाज विज्ञान संस्थान, पटना ने दिया. व्याख्यान की शुरुआत करते हुए उन्होंने बताया की शिक्षा को राजनीति और अर्थशास्त्र से अलग करके नहीं देखा जा सकता. वस्तुतः जैसा समाज नीति निर्माता बनाना चाहते हैं वैसी ही शिक्षा भी प्रदान की जाती है. शिक्षा का विषय राजनीतिक एजेंडे में तो जरुर होता है पर राजनीतिक संस्थाओं नेआजादी के बाद भी मैकाले की ही शिक्षानीति को प्रोत्साहन दिया है जिसने हमारे सामाजिक संगठन को नुकसान पहुँचाया है. आज तक देश में कई शिक्षा नीतियां बनी और कई प्रयोग भी हुए पर शिक्षा के स्तर में कोई उत्थान नहीं हो पाया. आज तो स्थिति और भी विपरीत है जब शिक्षा को निजी हाथों में सौंपकर सरकार ने इस पर और भी कुठाराघात ही किया है. यहाँ तक कि विद्यालयों में शिक्षा सम्बन्धी आंकड़े जो सरकार ने ही जारी किये हैं वो भी इसी ओर इशारा करते हैं. प्रो दिवाकर ने कई रपटों के आधार पर उदाहरण भी प्रस्तुत किये. उन्होंने आगे कहा कि हो सकता है कल को ऐसे आंकड़े भी जारी ना हो जैसा कि बेरोजगारी सर्वेक्षण को बंद करके सरकार ने साबित किया है वैसी परिस्थिति में हम सभी को शिक्षा का एक वैकल्पिक मॉडल तलाशना होगा. आगे व्याख्यान में प्रो दिवाकर ने विद्यालयों की आधारभूत संरचना, शिक्षकों की उपलब्धता जैसे मुद्दों पर भी

Read more

भोजपुरी में पी जी में दाखिले का रास्ता खुला

भोजपुरी विभाग अब होगा छात्रों से गुलजार  वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय, आरा का स्नातकोत्तर भोजपुरी विभाग एक बार फिर छात्रों और छात्राओं से गुलजार होगा. बिहार सरकार के उच्च शिक्षा विभाग से इस आशय में एक पत्र जारी किया गया है जिसमें भोजपुरी विभाग में पी जी में एडमिशन के लिए रास्ता खुल गया है. यही नहीं सीटों की संख्या में भी वृद्धि की गयी है और पूर्व में उपलब्ध 52 सीटों के स्थान पर अब कुल 75 सीटों पर दाखिला होगा. रंग लाया ‘भोजपुरी बचाईं आन्दोलन’ ज्ञात हो कि विश्वविद्यालय में भोजपुरी विभाग में छात्रों के दाखिले पर रोक लगा दी गई थी जिसके विरोध में 5 सितम्बर, 2016 को छात्र, युवा और समस्त शाहाबाद की जनता इस फैसले के वरोध में सड़कों पर उतर गई थी और एक अभूतपूर्व आन्दोलन खड़ा हो गया था. भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो नरेंद्र सिंह नीरज ने उच्च शिक्षा विभाग के फिर से पढाई शुरू करने के फैसले पर हर्ष व्यक्त करते हुए बताया कि ‘भोजपुरी बचाईं आन्दोलन’ रंग लाया है और पूर्व कुलपतियों डॉ सैयद मुमताज़ुद्दीन और वर्तमान कार्यकारी कुलपति डॉ नंदकिशोर साह ने इस दिशा में काफी प्रयास किया जिसका परिणाम आज सामने हैं. नैक ग्रेडिंग में होगा सकारात्मक असर  जल्द ही  नैक टीम का आगमन होने जा रहा है, उम्मीद है कि भोजपुरी में पढ़ाई शुरू होने का सकारात्मक असर टीम पर पड़ेगा और विश्वविद्यालय को अच्छी रैंकिंग में मदद मिलेगी. भोजपुरी भाषी ह्रदय क्षेत्र शाहाबाद में अवस्थित इस विश्विद्यालय के भोजपुरी विभाग को एक शोध केंद्र के रूप में भी

Read more

बिहार में शिक्षा के परिदृश्य पर होगी चर्चा : जुटेंगे देश भर के समाज विज्ञानी

पटना. ‘बिहार में शिक्षा : चुनौतियाँ एवं संभावनाएं’ विषय पर चर्चा के लिए  पटना में देश भर के कई चर्चित समाज विज्ञानी जुटेंगे. यह परिचर्चा बिहार समाज विज्ञान अकादमी के होने वाले वार्षिक अधिवेशन के दौरान आयोजित होगी. इस आशय का निर्णय अकादमी की ‘साइंस फॉर सोसाइटी’, साइंस कॉलेज, पटना यूनिवर्सिटी में हुई बैठक में लिया गया. बैठक की अध्यक्षता अकादमी के अध्यक्ष प्रो एस पी वर्मा ने की. शोधार्थी प्रस्तुत करेंगे अपना शोध-पत्र इस अधिवेशन में शोधार्थी अपना शोध-पत्र भी प्रस्तुत करेंगे, जिसके लिए अंतिम तिथि की घोषणा जल्द ही की जायेगी. शोध-पत्रों के चयन और अन्य अकादमिक कार्यों के लिए अकादमिक कमिटी का गठन किया गया.इस कमिटी के सदस्य हैं प्रो. एस पी वर्मा, प्रो. रघुनंदन शर्मा, डॉ. जी. शंकर, डॉ. हबीबुल्ला अंसारी और डॉ. विद्यार्थी विकास. इसके अलावा अधिवेशन  के सफल आयोजन के लिए सर्वसम्मति से कई निर्णय लिए गए और कई समितियों का भी गठन किया गया. सम्मेलन की विवरणिका डॉ जी शंकर और डॉ विद्यार्थी विकास तैयार करेंगे. आयोजन समिति का हुआ गठन इस सम्मेलन के लिए आयोजन समिति का गठन किया गया. सर्वसम्मति से तय किया गया कि सारे उपस्थित साथी इस समिति के सदस्य होंगे. बाद में अन्य संस्थाओं और उनके प्रतिनिधियों को मिलाकर इस समिति का विस्तार किया जाएगा. बजट तैयार करने की जिम्मेदारी डॉ विद्यार्थी विकास को दी गई वहीँ मीडिया संयोजन के लिए रवि प्रकाश सूरज को नामित किया गया. सम्मेलन में कार्यकारिणी का गठन करने और सदस्यता शुल्क के लिए अपील करने संबंधी भी निर्णय लिए गए. ओ पी पांडेय

Read more

बीएड के छात्र-छात्राओं का अंक प्रमाण-पत्र जला कर विरोध प्रदर्शन

आरा (ओ पी पांडेय की रिपोर्ट) | बुधवार 29 अगस्त को आइसा और छात्र राजद के संयुक्त तत्वाधान में बीएड शुल्क वृद्धि को लेकर वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय आरा के प्रशासनिक भवन के समक्ष बीएड के छात्र-छात्राओं ने बीएड भाग-1 का अंक प्रमाण-पत्र जला कर विरोध प्रदर्शन किया. विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व आइसा जिला अध्यक्ष पप्पू कुमार और छात्र राजद विश्वविद्यालय अध्यक्ष भीम यादव ने किया. विरोध प्रदर्शन के बाद सभा आयोजित की गई. सभा का संचालन आइसा के राकेश कुमार ने किया. सभा को संबोधित करते हुए आइसा जिला सचिव सबीर ने कहा कि बीएड सत्र 2016-18,2017- 19 के छात्र-छात्राओं के शुल्क में बेतहाशा वृद्धि कर सरकार बीएड शिक्षा से वंचित करना चाहती है. वही छात्र राजद के विश्वविद्यालय अध्यक्ष भीम यादव ने कहा कि बीएड के छात्र-छात्राओं ने शुल्क वृद्धि के खिलाफ अंक प्रमाण पत्र जलाकर साबित कर दिया है कि वह किसी भी हद तक जा सकते हैं. यदि राज्य सरकार और राजभवन शुल्क वृद्धि के फैसले को वापस नहीं लेती है तो हम सभी छात्र आत्मदाह करने का भी कार्य करेंगे. वहीं आइसा जिला अध्यक्ष पप्पू कुमार ने कहा कि बीएड के छात्र-छात्राएं शुल्क वृद्धि की भरपाई नहीं कर सकते हैं, क्योंकि हम सभी गरीब किसान के बेटे हैं इस परिस्थिति में हमारी मांग है कि बीएड की डिग्री नहीं चाहिए हमारा पैसा वापस करो नहीं तो आंदोलन जारी रहेगा. सभा स्थल पर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर नंदकिशोर साह भी पहुंचे. मौके पर छात्र नेताओं ने चार सूत्री मांगों से संबंधित ज्ञापन सौंपा. उन्होंने मांगों पर

Read more

किस सेमिनार में उठी पॉलिथीन के खिलाफ आवाज

पर्यावरण संरक्षण सेमिनार में उठी पॉलीथिन के खिलाफ आवाज आरा. VKSU के लोक प्रशासन विभाग द्वारा शनिवार को सेमिनार का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो0 डॉ. उमेश कुमार ने किया. उदघाटन छात्र कल्याण अध्यक्ष डॉ कुंदन कुमार सिंह के द्वारा किया गया. मुख्य अतिथि के रूप में अध्यक्ष (समाज विज्ञान संकाय)थे. सेमिनार का विषय पर्यावरण सुरक्षा, समस्या एवं समाधान रहा. छात्र कल्याण अध्यक्ष ने कहा कि हमलोगों को समय-समय पर ऐसे सेमिनार का आयोजन करना चाहिए. सेमिनार में आये अतिथियों ने पर्यावरण सुरक्षा, समस्या एवं समाधान पर अपने विचारों को रखा. छात्र-छात्राओं ने भी अपने विचारों को साझा किया. विश्वविद्यालय अध्यक्ष अमित कुमार सिंह ने कहा कि ऐसे सेमिनार का आयोजन सभी विभागों द्वारा समय-समय पर करना चाहिए जिसके माध्यम से छात्रों को कुछ सीखने को मिले. साथ ही साथ उन्होंने कहा कि हमें प्लास्टिक के थैले का इस्तेमाल न करके कपड़े या कागज के बने थैले का इस्तेमाल करना चाहिए. सेमिनार में छात्रों के लिए भाषण तथा पेंटिंग प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया. जिसमें जागृति प्रिया ने प्रथम स्थान प्राप्त किया. कार्यक्रम की रूप रेखा तैयार करने में वैभव कुमार पाठक, संता पांडेय, भूषण का योगदान रहा. इस सेमिनार में लोक प्रशासन विभाग के छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. आरा से अपूर्वा की रिपोर्ट

Read more

आपने भी किया है आवेदन तो क्लिक करें और देखें स्टेटस

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने 9 अगस्त को 10 विश्वविद्यालयों यथा- भूपेन्द्र नारायण मंडल विश्वविद्यालय,  मधेपुरा, बी आर अम्बेडकर बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर, जय प्रकाश विश्वविद्यालय, छपरा, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा, मगध विश्वविद्यालय, गया, तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय,  भागलपुर, वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय, आरा, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय, पटना, पूर्णिया विश्वविद्यालय, पूर्णिया एवं मुंगेर विश्वविद्यालय, मुंगेर के मान्यता प्राप्त सभी अंगीभूत डिग्री महाविद्यालय तथा सम्बद्धता प्राप्त डिग्री महाविद्यालयों में Online Facilitation System for Students (OFSS) सॉफ्टवेयर के माध्यम से नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन किये हुए विद्यार्थियों का प्रथम संशोधित चयन सूची First revised selection list जारी कर दिया है. इस बारे में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि समिति द्वारा जारी प्रथम संशोधित चयन सूची (First revised selection list) के आधार पर इन 10 विश्वविद्यालयों के सभी अंगीभूत डिग्री महाविद्यालय तथा संबद्धता प्राप्त डिग्री महाविद्यालयों में नामांकन की प्रक्रिया दिनांक 10 अगस्त, 2018 से 16 अगस्त, 2018 के बीच की जाएगी. समिति द्वारा जारी प्रथम संशोधित चयन सूची (First revised selection list) को संबंधित महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालयों को उनके Login ID पर भेज दिया गया है.  इसके साथ ही विभिन्न विश्वविद्यालयों के अलग-अलग महाविद्यालयों के अलग-अलग संकायों के विषयों का Cutoff Percentage (आरक्षण श्रेणीवार) भी समिति के वेबसाइट पर जारी कर दिया गया है, जिसे आवेदक समिति के Website www.ofssbihar.in पर जाकर देख सकते हैं. निखिल केडी वर्मा

Read more