नियोजित शिक्षकों के लिए आने वाला है बड़ा फैसला

करीब एक साल से सरकार और कोर्ट के चक्कर में पड़े बिहार के लाखों नियोजित शिक्षकों के लिए एक बार फिर राहत भरी खबर है. सुप्रीम कोर्ट में जारी सुनवाई में इस महीने ही बड़ा फैसला आने की उम्मीद बढ़ गई है. नियोजित शिक्षकों के समान काम समान वेतन मामले की सुप्रीम कोर्ट में 25, 26 और 27 सितम्बर को सुनवाई होगी. शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने अगले सप्ताह का केस लिस्ट जारी कर दिया है. जस्टिस अभय मनोहर सप्रे और जस्टिस यू यू ललित की अदालत में 25 सितम्बर के यह केस पहले नम्बर पर सूचीबद्ध है. अब ये उम्मीद की जा रहा है कि अगले सप्ताह तक इस केस पर फैसला आ सकता है. तीनों दिन सुनवाई करेगी दो सदस्यीय खंडपीठ 25, 26 और 27 सितम्बर को न्यायमूर्ति अभय़ मनोहर सप्रे और न्यामूर्ति यूयू ललित की खंडपीठ इस मामले की सुनवाई करेगी. 25 और 26 सितम्बर को फुल डे कोर्ट है जबकि 27 सितम्बर को हाफ डे कोर्ट है. लगातार तीन दिनों तक सुनवाई होने से अब ये उम्मीद की जा रही है कि नियोजित शिक्षकों के मामले में अब फैसला आ सकता है. नियोजित शिक्षकों को है फैसले का इंतजार सुप्रीम कोर्ट में 19 सितम्बर को इस मामले की सुनवाई हुई थी लेकिन अटर्नी जनरल की बात पूरी ना होने के कारण कोर्ट ने अगला डेट दे दिया था. अब 25 सितम्बर से फिर इस मामले की सुनवाई होनी है. 3 लाख 70 हजार नियोजित शिक्षकों को कोर्ट के फैसले का इंतजार है. पिछली सुनावाई में टीइटी

Read more

विष्णु खरे की स्मृति में श्रद्धांजलि सभा

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर हिंदी एवं भोजपुरी विभागों के संयुक्त तत्वावधान में आज हिंदी के सुप्रसिद्ध कविआलोचक,फ़िल्म समीक्षक और दिल्ली हिंदी अकादमी के उपाध्यक्ष विष्णु खरे के निधन पर शोकसभा का आयोजन किया गया. शोकसभा में विभागाध्यक्ष डॉ नीरज सिंह ने स्व विष्णु खरे के व्यक्तित्व एवं कृतित्व का विस्तार से परिचय दिया और उनकी पिछले वर्ष प्रकाशित कविता ‘आलैन’ का पाठ किया. अंत मे शोकसभा में उपस्थित हिंदी भोजपुरी के कथाकार कृष्ण कुमार, शोधछात्र विकास कुमार,शोधछात्रा कुसुम कुमारी, रजनी प्रधान , सतीश पांडेय , दीप्ति कुमारी ,रुपाली त्रिपाठी,नागेंद्र सिंह,त्रिवेणी साह,पंकज कुमारआदि  ने स्व विष्णु खरे की स्मृति में दो मिनट का मौन धारण कर के उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की . पटना नाउ ब्यूरो

Read more

“स्वच्छता एक विचार , एक आन्दोलन” : सम्भावना विद्यालय में मनाया जा रहा स्वच्छता पखवाड़ा

आरा. “स्वच्छता ही सेवा” पखवाड़ा के तहत स्थानीय सम्भावना आवासीय उच्च विद्यालय, शुभ नारायण नगर, मझौवां में सफाई अभियान, नुक्कड़ नाटक, प्रभात फेरी आदि कई स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रमों का लगातार आयोजन प्रतिदिन किया जा रहा है. भाषण प्रतियोगिता और नुक्कड़ नाटक से दिया सन्देश   विद्यालय में आयोजित भाषण प्रतियोगिता में कक्षा नवम के छात्र-छात्रा तथा विद्यालय के एन सी सी कैडेटों मंगल कुमार, अभिषेक कुमार, आशीष कुमार, अंजलि रॉय, सलोनी कुमारी, मोनिका कुमारी, तथा कात्यायनी प्रिया ने अपने विचार प्रस्तुत किये. कल हुए कार्यक्रम के दुसरे सत्र में कक्षा नवम के छात्र-छात्रा, एन सी सी कैडेटों, विद्यालय की प्राचार्या तथा निदेशक ने सफाई अभियान चलाया. स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रम के तहत आज विद्यालय के छात्र-छात्रा तथा एन सी सी कैडेटों ने विद्यालय परिसर में नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत किया. हज़ारों छात्र-छात्राओं की मौजूदगी में नुक्कड़ नाटक के माध्यम से यह सन्देश दिया गया स्वच्छता से ही स्वस्थ भारत का निर्माण होगा. नाटक में मुख्य भूमिकाओं में सलोनी कुमारी, मंगल कुमार, कात्यायनी प्रिया, अंजलि रॉय, रिया रॉय तथा सिद्धेश्वर पाण्डेय ने जीवंत अभिनय किया.   स्वच्छता राष्ट्रपिता के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि : अर्चना सिंह इस अवसर पर विद्यालय के छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए प्राचार्या डॉ अर्चना सिंह ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान वर्तमान सरकार की अच्छी पहल है इससे पहले स्वतंत्रता आन्दोलन के समय राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने इसकी उपयोगिता समझी थी. गांधी जी की जयंती के अवसर पर जो स्वच्छता पखवाड़ा चलाया जा रहा है यह सिर्फ 2 अक्टूबर तक सीमित ना रहे, बल्कि हमारे दैनिक दिनचर्या में शामिल

Read more

बिहार इंटर लेवल परीक्षा को लेकर मुस्तैद हुआ बी एस एस सी

अगर आपने भी बिहार इंटर लेवल परीक्षा का फॉर्म भरा है, तो यह खबर आपके लिए है. प्रथम इंटर स्तरीय परीक्षा जो बिहार कर्मचारी चयन आयोग आयोजित करेगी उसके PT एग्जाम के लिए तैयारियां तेज कर दी गई है.  BSSC द्वारा जारी आधिकारिक पत्र के अनुसार 8, 9 तथा 10 दिसम्बर को दोनों पालियों में होगी. ज्ञात हो कि इस परीक्षा का इंतजार लाखों परीक्षार्थी कर रहे हैं जिन्होंने 2014 में ही प्रकाशित विज्ञापन के जरिये आवेदन किया थे. बाद में पेपर लीक के बाद आयोग के कई अधिकारी गिरफ्तार हुए और परीक्षा रद्द कर दी गई थी. बाद में परीक्षार्थियों की अत्यधिक संख्या और कई अन्य परीक्षाओं से तिथियों के टकराने की वजह से परीक्षा टलती रही है. बहरहाल, अब इस परीक्षा को लेकर आयोग मुस्तैद दिखता है और परीक्षार्थियों के चेहरे पर ख़ुशी की लहर है. पटना नाउ ब्यूरो

Read more

नोट्रेडेम अकादमी, पटना में मुफ्त स्वास्थ्य जांच शिविर

पटना (अजित की रिपोर्ट) | नोट्रेडेम अकादमी, पटना के पूर्व स्टूडेंट्स ने स्कूल परिसर में गुरुवार २० सितम्बर को स्कूल के शिक्षकों, बहनों और कर्मचारियों के लिए एक दिवसीय स्वास्थ्य जांच शिविर आयोजित किया. शिविर में विभिन्न रोगों की मुफ्त स्वास्थ्य जांच जैसे ईसीजी, हड्डी रोग , स्तन स्कैन, आंखों की जांच, रक्त शर्करा परीक्षण, रक्तचाप की जांच, शरीर संरचना विश्लेषण आदि किया गया. स्वास्थ्य शिविर में मौजूद चिकित्सा विशेषज्ञों में हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ0 अतुल वर्मा, ऑर्थोपेडिक डॉ0 अमूल्या सिंह, स्त्री रोग विशेषज्ञ और आईवीएफ विशेषज्ञ डॉ0 ज्योति गुप्ता, त्वचा विशेषज्ञ डॉ0 विकास शंकर, ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ0 मनीषा सिंह, डॉ0 दीप्ति राज, डॉ0 अभिषेक कुमार, नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ0 जयश्री शेखर, मधुमेह रोग विशेषज्ञ डॉ0 सुक्रित प्रकाश, ऑर्थोपेडिक्स डॉ0 योग रंजन और डॉ0 अर्नब सिन्हा, आदि ने प्रमुख रूप से सेवायें दी. इसके अलावा, एक सामान्य चिकित्सक, फिजियोथेरेपिस्ट और पोषण विशेषज्ञ भी मौजूद थे. शिविर में श्री साई अस्पताल कंकड़बाग, पटना आस्था केयर क्लब, वीएलसीसी और थाइरोकेयर के परामर्शी भी साझेदार थे. एसोसिएशन की सचिव सना फहीम ने बताया कि शिविर में लगभग 100 शिक्षकों, बहनों और कर्मचारियों के सदस्यों को शिविर में मुफ्त स्वास्थ्य परीक्षण और परामर्श दिया गया. उन्होंने कहा कि कैम्पस में ऐसे कार्यक्रम आगे भी चलाए जाते रहेंगे। एनडीए की प्रिंसिपल सिस्टर मैरी जेसी ने ऐसी गतिविधियों की सराहना की. मोंटेसरी अनुभाग के प्रधान मंत्री सिस्टर मैरी ट्रेसा ने स्वास्थ्य के महत्व पर विशेष रूप से शिक्षकों के लिए जोर दिया, जो अक्सर व्यावसायिक बीमारियों से पीड़ित होते हैं.

Read more

तलाशना होगा शिक्षा का वैकल्पिक मॉडल : प्रो दिवाकर

पटना. बिहार समाज विज्ञान अकादमी द्वारा पटना ट्रेनिंग कॉलेज में ‘बिहार में शिक्षा की राजनीतिक आर्थिकी’ विषय पर व्याख्यान का आयोजन हुआ. इस समसामयिक विषय पर व्याख्यान चर्चित अर्थशास्त्री  प्रो डी एम दिवाकर, प्राध्यापक, ए एन सिन्हा समाज विज्ञान संस्थान, पटना ने दिया. व्याख्यान की शुरुआत करते हुए उन्होंने बताया की शिक्षा को राजनीति और अर्थशास्त्र से अलग करके नहीं देखा जा सकता. वस्तुतः जैसा समाज नीति निर्माता बनाना चाहते हैं वैसी ही शिक्षा भी प्रदान की जाती है. शिक्षा का विषय राजनीतिक एजेंडे में तो जरुर होता है पर राजनीतिक संस्थाओं नेआजादी के बाद भी मैकाले की ही शिक्षानीति को प्रोत्साहन दिया है जिसने हमारे सामाजिक संगठन को नुकसान पहुँचाया है. आज तक देश में कई शिक्षा नीतियां बनी और कई प्रयोग भी हुए पर शिक्षा के स्तर में कोई उत्थान नहीं हो पाया. आज तो स्थिति और भी विपरीत है जब शिक्षा को निजी हाथों में सौंपकर सरकार ने इस पर और भी कुठाराघात ही किया है. यहाँ तक कि विद्यालयों में शिक्षा सम्बन्धी आंकड़े जो सरकार ने ही जारी किये हैं वो भी इसी ओर इशारा करते हैं. प्रो दिवाकर ने कई रपटों के आधार पर उदाहरण भी प्रस्तुत किये. उन्होंने आगे कहा कि हो सकता है कल को ऐसे आंकड़े भी जारी ना हो जैसा कि बेरोजगारी सर्वेक्षण को बंद करके सरकार ने साबित किया है वैसी परिस्थिति में हम सभी को शिक्षा का एक वैकल्पिक मॉडल तलाशना होगा. आगे व्याख्यान में प्रो दिवाकर ने विद्यालयों की आधारभूत संरचना, शिक्षकों की उपलब्धता जैसे मुद्दों पर भी

Read more

भोजपुरी में पी जी में दाखिले का रास्ता खुला

भोजपुरी विभाग अब होगा छात्रों से गुलजार  वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय, आरा का स्नातकोत्तर भोजपुरी विभाग एक बार फिर छात्रों और छात्राओं से गुलजार होगा. बिहार सरकार के उच्च शिक्षा विभाग से इस आशय में एक पत्र जारी किया गया है जिसमें भोजपुरी विभाग में पी जी में एडमिशन के लिए रास्ता खुल गया है. यही नहीं सीटों की संख्या में भी वृद्धि की गयी है और पूर्व में उपलब्ध 52 सीटों के स्थान पर अब कुल 75 सीटों पर दाखिला होगा. रंग लाया ‘भोजपुरी बचाईं आन्दोलन’ ज्ञात हो कि विश्वविद्यालय में भोजपुरी विभाग में छात्रों के दाखिले पर रोक लगा दी गई थी जिसके विरोध में 5 सितम्बर, 2016 को छात्र, युवा और समस्त शाहाबाद की जनता इस फैसले के वरोध में सड़कों पर उतर गई थी और एक अभूतपूर्व आन्दोलन खड़ा हो गया था. भोजपुरी विभागाध्यक्ष प्रो नरेंद्र सिंह नीरज ने उच्च शिक्षा विभाग के फिर से पढाई शुरू करने के फैसले पर हर्ष व्यक्त करते हुए बताया कि ‘भोजपुरी बचाईं आन्दोलन’ रंग लाया है और पूर्व कुलपतियों डॉ सैयद मुमताज़ुद्दीन और वर्तमान कार्यकारी कुलपति डॉ नंदकिशोर साह ने इस दिशा में काफी प्रयास किया जिसका परिणाम आज सामने हैं. नैक ग्रेडिंग में होगा सकारात्मक असर  जल्द ही  नैक टीम का आगमन होने जा रहा है, उम्मीद है कि भोजपुरी में पढ़ाई शुरू होने का सकारात्मक असर टीम पर पड़ेगा और विश्वविद्यालय को अच्छी रैंकिंग में मदद मिलेगी. भोजपुरी भाषी ह्रदय क्षेत्र शाहाबाद में अवस्थित इस विश्विद्यालय के भोजपुरी विभाग को एक शोध केंद्र के रूप में भी

Read more

बिहार में शिक्षा के परिदृश्य पर होगी चर्चा : जुटेंगे देश भर के समाज विज्ञानी

पटना. ‘बिहार में शिक्षा : चुनौतियाँ एवं संभावनाएं’ विषय पर चर्चा के लिए  पटना में देश भर के कई चर्चित समाज विज्ञानी जुटेंगे. यह परिचर्चा बिहार समाज विज्ञान अकादमी के होने वाले वार्षिक अधिवेशन के दौरान आयोजित होगी. इस आशय का निर्णय अकादमी की ‘साइंस फॉर सोसाइटी’, साइंस कॉलेज, पटना यूनिवर्सिटी में हुई बैठक में लिया गया. बैठक की अध्यक्षता अकादमी के अध्यक्ष प्रो एस पी वर्मा ने की. शोधार्थी प्रस्तुत करेंगे अपना शोध-पत्र इस अधिवेशन में शोधार्थी अपना शोध-पत्र भी प्रस्तुत करेंगे, जिसके लिए अंतिम तिथि की घोषणा जल्द ही की जायेगी. शोध-पत्रों के चयन और अन्य अकादमिक कार्यों के लिए अकादमिक कमिटी का गठन किया गया.इस कमिटी के सदस्य हैं प्रो. एस पी वर्मा, प्रो. रघुनंदन शर्मा, डॉ. जी. शंकर, डॉ. हबीबुल्ला अंसारी और डॉ. विद्यार्थी विकास. इसके अलावा अधिवेशन  के सफल आयोजन के लिए सर्वसम्मति से कई निर्णय लिए गए और कई समितियों का भी गठन किया गया. सम्मेलन की विवरणिका डॉ जी शंकर और डॉ विद्यार्थी विकास तैयार करेंगे. आयोजन समिति का हुआ गठन इस सम्मेलन के लिए आयोजन समिति का गठन किया गया. सर्वसम्मति से तय किया गया कि सारे उपस्थित साथी इस समिति के सदस्य होंगे. बाद में अन्य संस्थाओं और उनके प्रतिनिधियों को मिलाकर इस समिति का विस्तार किया जाएगा. बजट तैयार करने की जिम्मेदारी डॉ विद्यार्थी विकास को दी गई वहीँ मीडिया संयोजन के लिए रवि प्रकाश सूरज को नामित किया गया. सम्मेलन में कार्यकारिणी का गठन करने और सदस्यता शुल्क के लिए अपील करने संबंधी भी निर्णय लिए गए. ओ पी पांडेय

Read more

आप भी देखिए BPSC PT का अपना रिजल्ट

BPSC ने 63वीं पीटी का रिजल्ट शनिवार को देर शाम घोषित कर दिया. इस परीक्षा में 90 हजार से ज्यादा छात्र शामिल हुए थे. जिनमें से कुल 4257 परीक्षार्थियों को सफलता मिली है. प्रारंभिक परीक्षा(PT)  का रिजल्ट देखने के लिए क्लिक करें- http://bpsc.bih.nic.in/Advt/Results-63rd-CCE(Pre).pdf बिहार लोक सेवा आयोग की 63वीं BPSC संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा 1 जुलाई 2018 को हुई थी. 355 पदों के लिए हुई परीक्षा में 4257 अभ्यर्थियों ने मुख्य परीक्षा के लिए क्वालीफाई किया है. जानकारी के मुताबिक मुख्य परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू होगी. हालांकि मुख्य परीक्षा की तिथि अभी घोषित नहीं की गई है. इसके साथ ही बीपीएससी ने आंसर की भी जारी कर दिया है. आंसर की देखने के लिए क्लिक करें- http://bpsc.bih.nic.in/Advt/Final-Answer-Key-General-Studies-63CCE(pre).pdf 63वीं पीटी परीक्षा में जनरल कैटेगरी के लिए इस बार कट ऑफ 96 रहा है जबकि ओबीसी के लिए 84 रहा है. अन्य के लिए कट ऑफ कुछ इस तरह रहा है. पिछड़ा वर्ग- 93 अत्यंत पिछड़ा वर्ग- 88 SC- 84 ST-89 महिला(अनारक्षित)- 86 महिला (ओबीसी)- 73 महिला(अत्यंत पिछड़ा वर्ग)- 77 महिला(पिछड़ा वर्ग)- 84 महिला(अनुसूचित जनजाति)- 78 महिला(अनुसूचित जाति)- 73 पिछड़े वर्गों की महिला- 80 भूतपूर्व स्वतंत्रता सेनानियों के पोता-पोती, नाती-नतिनी- 81

Read more

नियोजित शिक्षकों को झटका!

नियोजित शिक्षकों को समान काम समान वेतन मामले की बहुचर्चित सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है.  सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी साप्ताहिक केस लिस्ट में कोर्ट नंबर 11 में बिहार के नियोजित शिक्षकों को समान काम के बदले समान वेतन मामले पर चल रही सुनवाई 11 सितंबर (मंगलवार) को सूचीबद्ध नहीं की गई है जबकि इस मामले की सुनवाई कर रहे न्यायमूर्ति द्वय अभय मनोहर सप्रे एवं उदय उमेश ललित की खंडपीठ ने पिछली सुनवाई छह सितंबर को मौखिक व लिखित आदेश में सुनवाई की अगली तारीख 11 सितंबर को निर्धारित करते हुए निदेश दिया था कि अटॉर्नी जनरल अपनी बात पूरी करेंगे और शिक्षक संगठनों के शेष वकीलों को भी समय दिया जायेगा जिसके बाद ये सुनवाई समाप्त की जायेगी. लेकिन अगले सप्ताह (11, 12 व 13 सितंबर) में नियोजित शिक्षकों को समान काम के बदले समान वेतन मामले की सुनवाई कोर्ट नंबर-11 में लिस्टेड नहीं है तथा सुनवाई कर रहे दोनों न्यायमूर्ति को अलग-अलग बेंचों में दूसरे न्यायधीशों के साथ बिठा दिया गया है. इसके बाद नियोजित शिक्षकों में आशंका गहरा गई है कि कहीं उनकी सुनवाई ठंडे बस्ते में ना चली जाए. सुनवाई जारी रखने की अपील बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ ने मुख्य न्यायधीश से पूर्ववत सुनवाई जारी रखने की अपील की है. बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ के मीडिया प्रभारी सह प्रवक्ता अभिषेक कुमार ने कहा कि राज्य के करीब चार लाख नियोजित शिक्षक और उनपर आश्रित 20 लाख लोग आस और टकटकी लगाए हुए थे कि अब सुनवाई का पटाक्षेप होगा और उनको न्याय मिलेगा. उन्होंने कहा

Read more