योगासन एक श्रेष्ठ मनोशारीरिक क्रिया : मंजुला गुप्ता

बी.एस.डीएवी.में योग-शिविर का आयोजन
भीषण गर्मी के बावजूद योगाभ्यास के लिए जुटे बच्चे

आरा, 22 जून. विश्व योग दिवस के अवसर पर स्थानीय मील रोड स्थित बी.एस.डीएवी.स्कूल में सामूहिक योग शिविर का आयोजन किया गया. हालांकि भीषण गर्मी व लू की वजह से बच्चों की कक्षाएँ स्थगित हैं फिर भी ‘योग-दिवस’ के विशेष आयोजन पर कई बच्चे उपस्थित हुए. इन बच्चों ने उपस्थित सभी शिक्षक -शिक्षकेत्तर कर्मियों के साथ मिलकर कई महत्वपूर्ण आसनों का प्रदर्शन किया.




इस अवसर पर सबने मिलकर योग के महत्व व उद्देश्य को जन-मन तक पहुँचाने के संकल्प को दुहराया. प्रवास पर गई प्रधानाचार्या मंजुला गुप्ता ने इस कार्यक्रम की सफलता हेतु शुभकामनाए्ँ व्यक्त की.

प्रधानाचार्या ने दूरभाष पर संदेश देते हुए कहा कि आज के व्यस्ततम समय में अपने स्वास्थ्य को लेकर सजग रहने की जरूरत है. ‘योगासन’ एक श्रेष्ठ मनोशारीरिक क्रिया है जिससे शरीर व मन दोनों सबल होता है. योगासन एक वैदिक कर्म है जो विश्व को भारत की देन के रूप में रेखांकित हुआ है.”इस दौरान निर्धारित योग अभ्यास क्रम (प्रोटोकॉल) के तहत विविध आसनों को सामूहिक रूप से किया गया. इसमें मुख्यत: ताड़ासन,वृक्षासन, त्रिकोणासन,उष्ट्रासन, शशकासन, भुजंगासन व पवन मुक्तासन के अलावे अनुलोम -विलोम, भ्रामरी, शीतली और ध्यान जैसे प्राणायाम कराए गए.

अंतत: संकल्प व शांति पाठ के साथ यह विशेष आयोजन सम्पन्न हुआ.

आसनों का सफल प्रदर्शन करनेवाले बच्चों में आद्या, प्रतिभा, अनन्या , तेजस्वी,अमन,अतुल व अर्जुन की भूमिका महत्वपूर्ण रही. इस योग शिविर का कुशल संचालन विज्ञान व योग शिक्षक नीरज कुमार सिंह ने किया तथा सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं ने अपनी सार्थक भूमिका अदा की. वर्तमान प्रभारी शिक्षक सुशील कुमार ने इस कार्यक्रम की सफलता हेतु सबको बधाई दी.

आरा से सत्य प्रकाश सिंह की रिपोर्ट