बड़े बदलावों से होगा रेलवे का कायाकल्प!

पिछले सात दिनों में मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा, औरैया हादसा और फिर बिहार में जनशताब्दी की घटना ने रेलवे की सुरक्षा और संरक्षा व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए. नतीजा ये हुआ कि पहली बार जिम्मेदारी तय करते हुए रेलवे के कई अधिकारियों को सस्पेंड किया गया तो कुछ को छुट्टी पर भेज दिया गया. इसका व्यापक असर ये भी देखने को मिला कि रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ए के मित्तल ने इस्तीफा दे दिया और खुद रेल मंत्री ने भी अपने इस्तीफे की पेशकश कर दी. माना जा रहा है कि अगले हफ्ते तक नए रेल मंत्री की नियुक्ति हो जाएगी. AK मित्तल ने दिया इस्तीफा इस बीच अश्विनी लोहानी को रेल मंत्रालय में रेलवे बोर्ड का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया है. लोहानी ने 24 अगस्त 2017 को अपनी नई नियुक्ति का प्रभार ग्रहण किया. अश्विनी लोहानी( IRSME ) को ए. के. मित्तल के स्थान पर रेलवे बोर्ड (रेल मंत्रालय) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है और पदानुसार ये भारत सरकार के प्रधान सचिव के समतुल्य है. इससे पहले अश्विनी लोहानी एयर इंडिया के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक थे. पदभार ग्रहण करने के बाद लोहानी ने रेलवे बोर्ड के सदस्यों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की. बाद में, उन्होंने रेलवे बोर्ड के अधिकारियों और कर्मचारियों को संबोधित भी किया. लोहानी ने रेल मंत्रालय, केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय और मध्य प्रदेश सरकार में विभिन्न पदों पर कार्य किया है. रेलवे में उन्होंने दक्षिण मध्य, पूर्वी और उत्तरी रेलवे के साथ-साथ वाराणसी स्थित डीजल लोकोमोटिव वर्क्स और चेन्नई स्थित इंटीग्रल कोच

Read more