बीपीएससी ने आखिरकार दे ही दिया 56 वीं से 59 वीं मुख्य परीक्षा का रिजल्ट

लगभग 2 लाख उम्मीदवारों ने बीपीएससी आम संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा के लिए आवेदन किया था 1993 उम्मीदवारों ने साक्षात्कार के लिए उतीर्ण घोषित कुल रिक्तियां हैं 746 पटना (ब्यूरो रिपोर्ट) । 56 वीं से 59 वें आम संयुक्त लिखित परीक्षा के लिए बीपीएससी मेन परिणाम बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट- bpsc.bih.nic.in पर घोषित किया है. 746 रिक्तियों के लिए कुल 1933 उम्मीदवारों साक्षात्कार के लिए चुने गए हैं. लगभग 2 लाख उम्मीदवारों ने बीपीएससी आम संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा के लिए आवेदन किया था, जिसमें से 28308 उम्मीदवारों ने मुख्य परीक्षा के लिए उतीर्ण हुए थे. बीपीएससी कॉमन कम्बाइंड मेन (लिखित) परीक्षा 8 जुलाई से 30 जुलाई 2016 तक और 13 नवंबर 2016 को पटना में आयोजित की गई थी. जिन उम्मीदवारों ने भी इसके लिए आवेदन किया था और परिणाम का इंतजार कर रहे थे, वे नीचे दिए गए निर्देशों का पालन कर सकते हैं और उनके परिणाम की जांच कर सकते हैं: चरण 1 – आधिकारिक वेबसाइट http://bpsc.bih.nic.in पर जाएं चरण 2 – अधिसूचना पर क्लिक करें जहां लिखा है, “Results: 56th to 59th Common Combined Main (Written) Competitive Examination.” चरण 3 – अपने रोल नंबर के साथ CTRL + F और जांच लें कि क्या आप अगले दौर के लिए योग्य हैं. चरण 4 – परिणाम पीडीएफ डाउनलोड करें और आगे संदर्भ के लिए एक प्रिंटआउट लें. रिजल्ट इस लिंक से डायरेक्ट डाउनलोड करें  – http://www.bpsc.bih.nic.in/Advt/Results-56-59-Main-(Written).pdf

Read more

सच्चे गांधीवादी तथा जाने-माने शिक्षाविद प्रो विनय कंठ नहीं रहे

सच्चे गांधीवादी तथा देश के जाने-माने शिक्षाविद प्रो विनय कंठ का सोमवार को दिल्ली में निधन हो गया. वे 66 साल के थे तथा लीवर प्रॉब्लम के कारण बीमार थे. करीब एक सप्ताह पहले उन्हें मस्तिष्काघात भी हुआ था. उन्हें दिल्ली के एस आर आई हॉस्पिटल में भर्ती किया गया था जहां उन्होंने सोमवार दोपहर बाद अंतिम साँसें ली।दिल्ली के निगम बोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया. प्रो विनय कंठ पटना विश्वविद्यालय में गणित के प्रोफेसर थे. प्रो. कंठ ऐसे मनुष्य थे जिन्होंने अपना पूरा जीवन देश और समाज के लिए समर्पित कर दिया था. उन्होंने IRS (भारतीय रेलवे सेवा) में 5 वर्षों तक नौकरी करने के बाद इस्तीफा दे दिया था और फिर वह प्राध्यापक बन गए. उन्होंने 80 के दशक में UPSC, BPSC की तैयारी के लिए दिल्ली में एक संस्थान भी खोला था जिसमें पढ़कर देशभर के कई छात्र आईएएस और महत्वपूर्ण ऑफिसर पदों के लिए चुने गए. आज भी उनके पढाए छात्र देश भर में उच्च पदों पर आसीन है. 17 जुलाई 1951 को जन्मे प्रो० कंठ एक समाजसेवी तथा मानवाधिकार कार्यकर्त्ता भी थे. शिक्षा के क्षेत्र में योगदान के लिए पिछले साल बिहार सरकार ने राज्य के सबसे प्रतिष्ठित अबुल कलाम आजाद शिक्षा पुरस्कार से सम्मानित किया था. पटना नाउ टीम की ओर से उन्हें शत-शत नमन और अश्रुपूर्ण श्रद्धांजलि. (ब्यूरो रिपोर्ट)

Read more

63वीं BPSC में 355 पदों के लिए करें आवेदन

BPSC ने 63वीं लोक सेवा परीक्षा के लिए विज्ञापन जारी कर दिया है. जैसी की संभावना थी, इस बार महज 355 सीटें हैं और अभ्यर्थियों को आवेदन ऑनलाइन करना है. रजिस्ट्रेशन 13 नवंबर से शुरू होगा जो 4 दिसंबर तक होगा. फॉर्म भरने की आखिरी तारीख 11 दिसंबर है जबकि भरे हुए आवेदन और चालान की कॉपी BPSC को भेजने की आखिरी तारीख 18 दिसंबर रखी गई है. पूरी जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें- http://bpsc.bih.nic.in/Advt/63-CCE-(Pre)-Advt.pdf बता दें कि 56-59वीं BPSC मुख्य परीक्षा का परीक्षाफल इस महीने के आखिर तक आने की संभावना है.

Read more

BPSC के खिलाफ कोर्ट जाएंगे अभ्यर्थी

BPSC के एक्सपेरिमेंट से PT में छात्र हुए परेशान  एक तो बेरोजगारी, उसपर से सरकार के रुख़ से व्यथित हैं युवा सरकारी नौकरी के मौके लगातार कम हो रहे सरकार की बेरुखी से डिप्रेशन में हैं छात्र अब तो जागिए सरकार शराबबंदी और दहेजबंदी से ज्यादा जरुरी है रोजगार कैसा लगता है जब आप परीक्षा की तैयारी करें और वैकेंसी ही ना आए. कैसा लगता है जब हर बार नेता रोजगार के अवसर देने का वायदा करके चुनाव जीतें और कुर्सी मिलते ही रोजगार शब्द से ही नाता तोड़ लें. इसका दर्द तो उन्हें ही पता होगा जिनके पास उम्र सीमा का बंधन हो और वक्त पर वैकेंसी ना आने के कारण वे बेरोजगार रह जाएं. शायद इसका अहसास भी आज किसी राजनीतिक पार्टी को नहीं है. क्योंकि आज रोजगार से बड़े मुद्दे जीएसटी, नोटबंदी, शराबबंदी और दहेजबंदी हैं. बिहार की बात करें तो BSSC जैसा आयोग एक-एक परीक्षा लेने में वर्षों लगा देता है.. और रिजल्ट तो भूल ही जाइए. वहीं BPSC एक साथ तीन-तीन बैकलॉग की परीक्षा (56-59वीं परीक्षा और 60-62वीं परीक्षा) लेता है. जिनका रिजल्ट आने में भी वर्षों लग जाते हैं. जरा सोचिए… जब तीन साल की परीक्षा एक साथ ली जा रही हो तो जाहिर है इस दौरान कई उम्मीदवारों की उम्रसीमा खत्म हो चुकी होती है या फिर उनके लिए  आखिरी अटेम्ट होता है. फिर भी अगर बीपीएससी जैसा आयोग पीटी परीक्षा में  बिना बताए एक्सपेरिमेंट(परीक्षा में 4 की बजाय 5 ऑप्सन दे) करे और रिजल्ट देने में भी कंजूसी करे तो अभ्यर्थी क्या

Read more

BPSC ANSWER KEY के लिए क्लिक करें

बीपीएससी ने जो आंसर की जारी किया है उसके बाद एक बार फिर इसपर विवाद खड़ा हो सकता है. इसमें कुछ प्रश्नों के उत्तर और साथ ही सही जवाब देने और कट ऑफ हासिल करने के बाद भी पीटी परीक्षा में सिलेक्शन नहीं होने की शिकायत की भी खबर है. आंसर की से अपने उत्तरों का मिलान करने के लिए यहां क्लिक करें- BPSC (60-22) PT ANSWER KEY  रिजल्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें- BPSC (60-22) PT RESULT पूरी खबर यहां पढ़ें- https://goo.gl/Ro4z8D

Read more

BPSC PT का रिजल्ट जारी

60-62वीं पीटी का रिजल्ट आखिरकार करीब 7 महीने के बाद आज देर शाम जारी कर दिया गया. रिजल्ट से जुड़ी मुहत्वपूर्ण बातें- कुल रिजल्ट- 8282 कट ऑफ अनारक्षित श्रेणी – 97 अनारक्षित श्रेणी(महिला)- 86 SC – 83 SC(F)- 68 BC-93 BC(F)-81 EBC- 89 EBC(F)- 75 देखिए अपना रिजल्ट यहां-       बता दें कि पीटी की परीक्षा 12 फरवरी को हुई थी और काफी समय से छात्र इस रिजल्ट का इंतजार कर रहे थे. Click here for result http://bpsc.bih.nic.in/Default.htm

Read more

सिर्फ 11 रू में शिक्षा के साथ जिंदगी की दिशा भी तय होती है यहां

ऐसा कोई सोच भी कैसे सकता है. मार-काट की प्रतिस्पर्धा, कंपिटीटिव मार्केट और एक-दूसरे को हर पल मात देने वाले शिक्षा के बाजार में ऐसी सोंच रखना आर्थिक रुप से काफी नुकसानदायक साबित हो सकता है. लेकिन ऐसा हो रहा है. वो भी राजधानी पटना में जहां ना सिर्फ पूरे बिहार बल्कि यूपी, झारखंड और पड़ोसी देशों के भी विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए आते हैं. एक तरफ पैसा है तो दूसरी तरफ वो सामाजिक दायित्व जिसका निर्वहण कर रहे हैं गुरुजी. बात हो रही है डॉ एम रहमान की. छात्रों के बीच गुरू रहमान के नाम से मशहूर रहमान सर ने छात्रों के बीच अपनी एक अलग पहचान बनाई है. उनके यहां UPSC, BPSC से लेकर रेलवे, दारोगा और SSC की तैयारी के लिए भी बड़ी संख्या में छात्र आते हैं. गुरु रहमान ना सिर्फ अनाथ और गरीब,दिव्यांग छात्रों को मुफ्त में तैयारी कराते हैं बल्कि हर सुख-दुख में उनके साथ खड़े नजर आते हैं. डॉ़ रहमान का ये प्रयास रंग भी ला रहा है. उनके संस्थान अदम्य अदिति गुरुकुल से हर साल बड़ी संख्या में छात्र पास होते हैं और नौकरी पाकर अपनी जिंदगी संवारते हैं. डॉ रहमान का दावा है कि वे कलम से क्रांति लाकर रहेंगे. इसके अलावा सामाजिक सरोकारों से जुड़े मुद्दों पर भी डॉ रहमान बुलंदी से खड़े नजर आते हैं. यही वजह है कि पटना आने वाले छात्रों के लिए वन स्टॉप कोचिंग संस्थान बन गया है अदम्य अदिति गुरुकुल. अपनी विशेष शैली में जेनरल स्टडीज की तैयारी कराने वाले डॉ

Read more

बड़े बदलावों से होगा रेलवे का कायाकल्प!

पिछले सात दिनों में मुजफ्फरनगर ट्रेन हादसा, औरैया हादसा और फिर बिहार में जनशताब्दी की घटना ने रेलवे की सुरक्षा और संरक्षा व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए. नतीजा ये हुआ कि पहली बार जिम्मेदारी तय करते हुए रेलवे के कई अधिकारियों को सस्पेंड किया गया तो कुछ को छुट्टी पर भेज दिया गया. इसका व्यापक असर ये भी देखने को मिला कि रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष ए के मित्तल ने इस्तीफा दे दिया और खुद रेल मंत्री ने भी अपने इस्तीफे की पेशकश कर दी. माना जा रहा है कि अगले हफ्ते तक नए रेल मंत्री की नियुक्ति हो जाएगी. AK मित्तल ने दिया इस्तीफा इस बीच अश्विनी लोहानी को रेल मंत्रालय में रेलवे बोर्ड का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया है. लोहानी ने 24 अगस्त 2017 को अपनी नई नियुक्ति का प्रभार ग्रहण किया. अश्विनी लोहानी( IRSME ) को ए. के. मित्तल के स्थान पर रेलवे बोर्ड (रेल मंत्रालय) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है और पदानुसार ये भारत सरकार के प्रधान सचिव के समतुल्य है. इससे पहले अश्विनी लोहानी एयर इंडिया के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक थे. पदभार ग्रहण करने के बाद लोहानी ने रेलवे बोर्ड के सदस्यों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की. बाद में, उन्होंने रेलवे बोर्ड के अधिकारियों और कर्मचारियों को संबोधित भी किया. लोहानी ने रेल मंत्रालय, केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय और मध्य प्रदेश सरकार में विभिन्न पदों पर कार्य किया है. रेलवे में उन्होंने दक्षिण मध्य, पूर्वी और उत्तरी रेलवे के साथ-साथ वाराणसी स्थित डीजल लोकोमोटिव वर्क्स और चेन्नई स्थित इंटीग्रल कोच

Read more

जवाब दे रहा परीक्षार्थियों का सब्र

इसी साल मई महीने में हुए सहायक वन संरक्षक परीक्षा का रिजल्ट बीपीएससी ने आज जारी कर दिया. इसके अलावा असिस्टेंट प्रोफेसर के विभिन्न विषयों के लिए भी रिजल्ट लगातार जारी हो रहा है. लेकिन एक साल पहले हुए BPSC मेन्स और 6 महीने पहले हुए पीटी परीक्षा का रिजल्ट देना भूल गया आयोग. जी हां, BPSC PT के रिजल्ट को लेकर अभी भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है. सूत्रों की मानें तो 60-62वीं पीटी का रिजल्ट इसी महीने घोषित हो सकता है. लेकिन बिहार लोक सेवा आयोग की कार्यप्रणाली से वाकिफ छात्र मानते हैं कि फिलहाल कुछ भी कहना मुश्किल है. वहीं, पिछले साल हुए मेन्स का रिजल्ट नवंबर के बाद ही आने की संभावना है. सिविल सेवा परीक्षा विशेषज्ञ डॉ एम रहमान ने बताया कि पीटी का रिजल्ट अगले महीने आ सकता है. वहीं रिजल्ट में देरी से सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर छात्रों में BPSC के प्रति जबरदस्त नाराजगी है. छात्र कई बार आयोग के चक्कर काट चुके हैं और  आयोग के पदाधिकारियों से जल्द रिजल्ट देने की मांग कर चुके हैं. patnanow की टीम ने भी आयोग के सचिव पी के सिन्हा से इस संबंध में पूछा तो वे कोई साफ जवाब नहीं दे पाए. उनका कहना था कि पीटी का रिजल्ट इस महीने भी आ सकता है और अगले महीने भी. वहीं मेन्स के रिजल्ट के बारे में अभी कुछ भी कहना मुश्किल है. जाहिर है, ऐसे में अभ्यर्थियों का सब्र जवाब दे रहा है क्योंकि एक परीक्षा के चक्कर में उनका बहुमूल्य समय

Read more

BPSC की मनमानी छात्रों पर पड़ रही भारी

BPSC यानि बिहार लोक सेवा आयोग हर साल नया रिकॉर्ड बना रहा है. और हर साल अपने रिकॉर्ड को तोड़ने की चुनौती भी खुद बीपीएससी के सामने ही होती है. ये रिकॉर्ड है परीक्षा के रिजल्ट में लेटलतीफी. पिछले साल जुलाई में ली गई BPSC मेन्स की परीक्षा का रिजल्ट अब तक नहीं आया. इस साल 12 फरवरी को ली गई 60-62वीं पीटी परीक्षा का रिजल्ट भी अब तक पेंडिंग है. अब सोचने की बात है कि आखिर छात्र कितना इंतजार करें. इस मामले में प्रधानमंत्री के आदेश की भी धज्जियां उड़ रही हैं. पीएम ने कहा था कि किसी भी बहाली प्रक्रिया को अधिकतम 6 माह में पूरा किया जाना चाहिए. लेकिन लगता है बिहार ने कसम खा रखी है. खासकर बीपीएससी इस मामले में पूरी तरह से छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने में लगा है. आयोग के रवैये से परेशान छात्रों के दल ने सोमवार को बिहार लोक सेवा आयोग के गेट पर प्रदर्शन किया. छात्रों का कहना था कि देश के किसी भी लोक सेवा आयोग में इतनी लेटलतीफी नहीं होती. बीपीएससी लगातार सभी परीक्षा के रिजल्ट में देरी कर रहा है जिससे छात्रों का बहुमूल्य समय जाया हो रहा है. PT और मेन्स परीक्षा के रिजल्ट की संभावित तिथि इसके बाद छात्रों ने बीपीएससी सचिव प्रभात कुमार सिन्हा से मिलकर ज्ञापन सौंपा और उनसे रिजल्ट के बारे में सवाल किया. परीक्षा की तैयारी कर रहे एक छात्र ने बताया कि बीपीएससी सचिव ने उनके सही तरीके से बात भी नहीं कि. सचिव ने कहा कि

Read more