छात्रों ने की खुली बहस तो 1 घण्टे में ही सुलझ गया मामला

छात्रों का पॉजीटिव आंदोलन आरा के महाराज कॉलेज में मंगलवार को छात्रों के सकारात्मक आंदोलन से एक बड़ा मामला आसानी से सुलझ गया. दरअसल महाराजा कॉलेज मनमाने रूप से नामांकन और डिजिटल आई कार्ड के नाम पर बगैर पूर्व सूचना के पैसे वसूल रहा था. इसके खिलाफ छात्रों ने महाराजा कॉलेज पर कार्यरत सारे काउंटर बन्द करा दिये. छात्रों के इस कार्य के दौरान पहले तो नारे लगे और जैसे ही महाराजा कॉलेज आरा में अपने कक्ष में जाने के लिए प्राचार्य नरेन्द्र कुमार आगे बढ़े तो उन्हें छात्रों के विरोध का सामना करना पड़ा और उन्हें छात्रों की बात को सुनने के लिए लगभग 30 मिनट तक धूप में खड़ा रहना पड़ा. यह विरोध किसी खास संगठन या पार्टी का नही था बल्कि छात्रों का था. इस दौरान इन छात्रों के साथ कॉलेज कैंपस में उपस्थित विभिन्न पार्टियों के छात्र नेताओं ने भी छात्रों की समस्याओं के लिए उनका साथ दिया. बताते चलें कि छात्रों का यह विरोध इंटरमीडिएट नामांकन में कई गई शुल्क वृद्धि, डिजिटल परिचय पत्र के नाम पर छात्रों से अतिरिक्त शुल्क वसूलने, कॉलेज के सुरक्षा प्रहरी के टेंडर खत्म होने के बाद भी कार्य करने तथा नामांकन कंप्यूटराइज रसीद बाहरी लोगों द्वारा काटने, कॉलेज में शैक्षणिक माहौल को सुदृढ़ करने, कॉलेज में वोकेशनल के छात्रों का प्लेसमेंट करने सहित तमाम माँगों को लेकर था. बिना नोटिस निकाले कॉलेज ने वसूला अधिक शुल्क छात्रों का आरोप है कि कॉलेज प्रशासन ने उक्त कार्यों के लिए ना तो कोई नोटिस निकाला है और ना ही अखबार या पत्र-पत्रिकाओं

Read more

दारोगा के 1700 पदों के लिए करें अप्लाई

लंबे समय से वैकेंसी की तका में बैठे अभ्यर्थियों का  इंतजार खत्म हो गया है. बिहार पुलिस में पुलिस अवर निरीक्षक( दारोगा) के पद पर भर्ती के लिए BPSSC यानि बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग ने विज्ञापन निकाला है. विज्ञापन संख्या 01/2017 के तहत 1717 (एक हजार सात सौ सत्रह) पदों पर नियुक्ति के लिए बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग ही उपयुक्त अभ्यर्थियों का चयन करेगा. इसके तहत दो चरणों की लिखित परीक्षा होगी औऱ उसके बाद सफल अभ्यर्थियों को शारीरिक दक्षता परीक्षा से गुजरना होगा. मुख्य बिंदु- विज्ञापन संख्या- 01/2017 कुल पद- 1717 बहाली- बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग द्वारा चयन पद्धति- प्रारंभिक और मुख्य लिखित परीक्षा और शारीरिक दक्षता परीक्षा उम्र सीमा- 01.01.2017 को कम से कम 20 साल और अधिकतम सामान्य के लिए 37, OBC/MBC- 40, महिला(GEN/OBC/MBC)- 40 और SC/ST पुरुष महिला के लिए 42 वर्ष शारीरिक दक्षता के लिए- ऊॅंचाई – (1) अनारक्षित (सामान्य) वर्ग, पिछड़ा वर्ग एवं अत्यन्त पिछड़ा वर्ग के पुरूषों के लिए – न्यूनतम 165 सेन्टीमीटर। (2) अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के पुरूषों के लिए – न्यूनतम 160 सेन्टीमीटर। (3) सभी वर्गां की महिलाओं के लिए – न्यूनतम उॅंचाई 160 सेन्टीमीटर एवं न्यूनतम वज़न 48 किलोग्राम। सीना (सिर्फ पुरूषों के लिए) – (1) अनारक्षित (सामान्य) वर्ग, पिछड़ा वर्ग एवं अत्यन्त पिछड़ा वर्ग के पुरूषों के लिए – बिना फुलाए – 81 सेन्टीमीटर (न्यूनतम) फुलाकर – 86 सेन्टीमीटर (न्यूनतम) (फुलाने के बाद सीना में कम से कम 5 सेन्टीमीटर का अन्तर होना अनिवार्य होगा)। (2) अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के पुरूषों के लिए – बिना फुलाए – 79 सेन्टीमीटर (न्यूनतम) फुलाकर-

Read more

भोजपुरी की पढ़ाई शुरू कराने के लिए छात्र जदयू की कवायद

भोजपुर में भोजपुरी की पढ़ाई बंद कर देने के बाद एक साल के बाद भी उसे शुरू नहीं करने के मुद्दे पर पूरा छात्र महकमा ही नही बल्कि बिहार के भोजपुरिया जनपद में रोष है. अगर इसे जल्द शुरू नहीं किया गया तो सरकार को बड़े आंदोलन का सामना करना पड़ेगा. इस संदर्भ में आज पहली झलक ही मिल गयी जब आरा में शिक्षा मंत्री के आते ही छात्रों ने उनसे मिलते ही सबसे पहले इसी मुददे पर बात की. बिहार सरकार के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा को छात्र जदयू वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय अध्यक्ष अविनाश राव के नेतृत्व में एक ज्ञापन सौंप कर वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय आरा के सभी सरकारी महाविद्यालयों में स्नातक एवम स्नातकोत्तर स्तर तक पढ़ाई शुरू करने की मांग की. ज्ञात हो कि वीर कुँवर सिंह विश्वविद्यालय आरा में विगत एक वर्ष से भोजपुरी की पढ़ाई पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी गयी है. जिसको लेकर छात्र जदयू ने कुलपति से भी मिलकर वार्ता की थी ताकि जल्द से जल्द भोजपुरी की पढ़ाई शुरू की जाए. विश्वविद्यालय में आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन करने के बाद भी विश्वविद्यालय प्रशासन के कान तक जूँ नही रेंगा. विश्वविद्यालय अध्यक्ष अविनाश राव ने कहा कि बिहार के शिक्षा मंत्री से काफी उम्मीद है, भोजपुरी की पढ़ाई जल्द शुरू कराये. मौके पर मौजूद छात्र जदयू बिहार के प्रदेश उपाध्यक्ष चिकू सिंह एवम प्रदेश सचिव रोहन कुशवाहा ने पटना नाउ से बात करते हुए कहा कि भोजपुरी की पढ़ाई भोजपुरी की गढ़ भोजपुर में बंद करा देना यह बात हजम नही होती.

Read more

ध्यान से नोट कर लें ये सारी जानकारी

पटना जिला प्रशासन की ओर से जो निर्देश जारी किए गए हैं, वे काफी महत्वपूर्ण हैं. ना सिर्फ निजी स्कूलों के लिए बल्कि बच्चों और उनके गार्जियन के लिए भी. आप इन्हें जरूर पढ़ें ताकि किसी भी जरुरत या फिर स्कूलों की मनमानी के समय आप उन्हें इनकी याद दिला सकें. यही नहीं, पटना के डीएम, एसएसपी. सिटी एसपी और  ट्रैफिक एसपी ने बिल्कुल साफ कह दिया कि अगर आपकी परेशानी स्कूल दूर नहीं कर रहे हों सीधे नजदीकी थाने में संपर्क करें या फिर डीएम, एसएसपी समेत किसी भी अधिकारी को फोन करें. लेकिन याद रहे, ना सिर्फ डीएम बल्कि पटना पुलिस ने साफ-साफ कह दिया है कि 18 साल से कम के लड़के या लड़कियां बिना ड्राइविंग लाइसेंस के स्कूल जाते या गाड़ी चलाते पकड़े गए तो अत्यंत सख्त कार्रवाई होगी. जाहिर तौर पर ये जिम्मेवारी बच्चे के गार्जियन की होगी. नोट करें- हर निजी स्कूल में पर्याप्त संख्या में CCTV कैमरे होने चाहिए जो पूरी तरह एक्टिव हों और कैमरों/ विजुअल की निगरानी के लिए एक व्यक्ति जरुर हो. इसकी नियमित मॉनिटरिंग होनी चाहिए. सभी स्कूलों में 15 दिनों के अंदर सुझाव पेटी(Suggestion Box) लगाने का आदेश. सुझाव पेटी की चाभी प्राचार्य के पास रहेगी तथा इसको खोलते वक्त इसकी वीडियोग्राफी भी करायी जायेगी. सभी स्कूलों में निबंधित सुरक्षा एजेन्सी के माध्यम से ही सुरक्षा गार्ड रखने का निदेश. सुरक्षा व्यवस्था की देख-भाल हेतु एक कर्मी को प्रभारी बनाने का निदेश. सभी सुरक्षा प्रभारियों को जिला स्तर पर दिया जायेगा प्रशिक्षण. सभी विद्यालयों में पास्को के तहत्

Read more

पटना के 2 स्कूलों पर गिरी गाज

स्कूलों की सुरक्षा व्यवस्था पर डीएम की 2 टूक निर्देश मानें नहीं तो बंद करें स्कूल डीएम ने पिछली मीटिंग में जारी किया था निर्देश सभी स्कूलों में CCTV लगाने का निर्देश निर्देश नहीं मानने वाले 2 स्कूलों को बंद करने का आदेश पटना के सभी निजी स्कूलों का अब नियमित सुरक्षा ऑडिट होगा. जिला प्रशासन की टीम हर दिन स्कूलों की सुरक्षा व्यवस्था की जांच करेंगी और गाइडलाइंस नहीं मानने वाले स्कूलों को बंद कर दिया जाएगा. डीएम ने कहा कि पटना के सभी स्कूलों की सुरक्षा मानकों की अधिकारी समीक्षा करेंगे. जो भी स्कूल सुरक्षा मानकों को पूरा नहीं करेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. इसकी शुरुआत भी आज हो गई जब पटना के इन्द्रपुरी स्थित डीेएवी पब्लिक स्कूल और फुलवारी शरीफ स्थित ज्ञानदीप स्कूल कोे बंद रखने का आदेश डीएम ने दिया. डीएम ने इसे सुरक्षा में लापरवाही मानते हुए कार्रवाई की है. क्या कहा डीएम ने सुनिये- पटना DM संजय अग्रवाल ने कहा कि प्रद्युम्न हत्याकांड के बाद जिला और पुलिस प्रशासन ने पटना के सभी स्कूलों की सुरक्षा की समीक्षा की. समीक्षा के बाद ये पाया गया है कि सीसीटीवी नॉर्म्स को ये 2 स्कूल फॉलो नहीं कर रहे हैं. इसलिए दोनों स्कूलों को सुरक्षा मानक पूरा करने और अगले आदेश तक बंद रखने का कहा गया है.

Read more

BPSC ANSWER KEY के लिए क्लिक करें

बीपीएससी ने जो आंसर की जारी किया है उसके बाद एक बार फिर इसपर विवाद खड़ा हो सकता है. इसमें कुछ प्रश्नों के उत्तर और साथ ही सही जवाब देने और कट ऑफ हासिल करने के बाद भी पीटी परीक्षा में सिलेक्शन नहीं होने की शिकायत की भी खबर है. आंसर की से अपने उत्तरों का मिलान करने के लिए यहां क्लिक करें- BPSC (60-22) PT ANSWER KEY  रिजल्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें- BPSC (60-22) PT RESULT पूरी खबर यहां पढ़ें- https://goo.gl/Ro4z8D

Read more

BPSC PT का रिजल्ट जारी

60-62वीं पीटी का रिजल्ट आखिरकार करीब 7 महीने के बाद आज देर शाम जारी कर दिया गया. रिजल्ट से जुड़ी मुहत्वपूर्ण बातें- कुल रिजल्ट- 8282 कट ऑफ अनारक्षित श्रेणी – 97 अनारक्षित श्रेणी(महिला)- 86 SC – 83 SC(F)- 68 BC-93 BC(F)-81 EBC- 89 EBC(F)- 75 देखिए अपना रिजल्ट यहां-       बता दें कि पीटी की परीक्षा 12 फरवरी को हुई थी और काफी समय से छात्र इस रिजल्ट का इंतजार कर रहे थे. Click here for result http://bpsc.bih.nic.in/Default.htm

Read more

2 सालों से नहीं ली परीक्षा, भड़के छात्रों का हंगामा

पटना के बोरिंग रोड को छात्रों ने जाम कर दिया है. सिमेज इंस्टीट्यूट के छात्रों ने किया बोरिंग रोड जाम सिमेज प्रबंधन पर पैसा ठगने का आरोप 2 साल से परीक्षा नहीं लिए जाने से नाराज़ हैं छात्र

Read more

प्रभारी प्रिंसिपल को लेकर दिशानिर्देश जारी

बिहार सरकार ने सूबे के माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रिंसिपल का पद खाली रहने पर वहीं प्रभारी प्रिंसिपल कौन हो, इसके लिए दिशानिर्देश जारी किया है. शिक्षा विभाग के आदेश के मुताबिक ऐसी स्थिति में उस स्कूल का सीनियर मोस्ट टीचर ही प्रभारी प्रिंसिपल बनाया जाएगा. आदेश के मुताबिक, प्रमंडलीय संवर्ग के सहायक शिक्षकों में से सबसे वरीय ही वहां का प्रभारी प्रिंसिपल बनाया जाएगा. यदि कोई प्रमंडलीय शिक्षक नहीं है तो उस स्कूल से संबंधित DEO वरीयता के आधार पर नियोजित शिक्षक को प्रभारी प्रिंसिपल बनाएंगे. इस मामले में सीनियर मोस्ट ट्रेंड पीजी टीचर अपने योगदान की तिथि के आधार पर प्रभारी प्रधानाध्यापक होंगे. ट्रेंड पीजी टीचर नहीं रहने की स्थिति में अनट्रेंड पीजी टीचर प्रभारी प्रिंसिपल बनेंगे. शिक्षा विभाग के आदेश के मुताबिक जब इन दोनों में भी कोई ना हो तो पीजी ट्रेंड ग्रैजुएट टीचर को प्रभारी प्रिंसिपल बनाया जाएगा. लेकिन अगर इस कैटेगरी के टीचर भी उस स्कूल में नहीं होंगे तो फिर ट्रेंड ग्रैजुएट टीचर को प्रभारी प्रिंसिपल बनाया जाएगा. आदेश में ये भी साफ कहा गया है कि कोई भी शारीरिक शिक्षक प्रभारी प्रिंसिपल नहीं बनाया जाएगा.

Read more

चोरी से रोका तो सीनाजोरी पर उतरे छात्र

सबसे पहले patnanow पर आरा में वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के वीर कुंवर सिंह कॉलेज में छात्रों का हंगामा. परीक्षा में कड़ाई से गुस्साए छात्रों ने जमकर बवाल काटा और आधा दर्जन कमरों में परीक्षा दे रहे छात्रों की कॉपियां फाड़ी. बता दें कि कॉलेज में कदाचार का मामला सामने आया था जहां बच्चे सामूहिक रूप में भेड़ बकरियों की तरह जमीन पर बैठकर परीक्षा दे रहे थे. मामला प्रकाश में आने के बाद उप कॉलेज की तीन परीक्षाए रदद् कर दी गई थी. क्या कहना है छात्रों का- https://youtu.be/fBOrW2k4Oc8   आरा से ओपी पांडे

Read more