क्या सच मे पलटेगी “आरा-हाउस” की किस्मत !

कला एवं संस्कृति सचिव ने किया आरा हाउस का भ्रमण आरा हाउस के काया पलट तैयारी आरा, 22 फरवरी. भारत के पहले स्वन्त्रता संग्राम 1857 का गवाह रहे आरा हाउस की किस्मत पलटने वाली है. वीर कुंवर सिंह के 160वे विजयोत्सव पर सरकार को इस धरोहर की याद आयी है. जिसको सुंदर और पुरातन रूप में सजाने के लिए बिहार सरकार के कला एवं संस्कृति सचिव और पुरातत्व विभाग के अधिकारी ने आरा हाउस पहुंच उसका जायजा लिया. इस मौके पर भोजपुर जिलाधिकारी संजीव कुमार और भवन निर्माण विभाग के जे ई भी मौजूद थे. उन्होंने आरा हाउस में मौजूदा रूप में स्थित भवन की स्थिति, और सुरंग का भ्रमण भी किया. ‘पटना नाउ‘ से बातचीत करते हुए विभाग के सचिव ने बताया कि आरा हाउस एक ऐतिहासिक धरोहर है और इसे पुरानी रौंनक में लाने की कोशिश की जा रही है. सुरंग की भी सही स्थिति देखी जाएगी और इसे बनाया जाएगा. इस दौरान पुरात्तत्व विभाग के अधिकारी ने उस जमाने के कुँए को भी खोजना चालु किया जो कामन रूम के सामने स्थित है और अब वहां से पानी की सप्लाई की जाती है.कुंए के ऊपर एक मोटर रूम बना दिया गया है. उन्होंने बताया सँस्कृति विभाग के सचिव ने जे ई को निर्देश दिया कि भवन निर्माण के दौरान मिलने वाले हर वस्तु को एकत्रित कर रखा जाए. उन्होंने गुफा की खुदाई की भी बात कही. पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से कुंवर सिंह के गुफा को लोगों के समक्ष प्रस्तुत करने की सरकार की योजना

Read more

आश्रिता नही आश्रयदात्री बनाती एप्लिक व कशीदा प्रशिक्षण

आश्रिता नही आश्रयदात्री बनाती एप्लिक व कशीदा प्रशिक्षण आरा,20 फरवरी. नारी सशक्तिकरण व स्वावलंबन की दिशा में वस्त्र मंत्रालय,भारत सरकार व उद्योग विभाग, बिहार सरकार के संयुक्त तत्वावधान में एक अच्छी पहल महिलाओं को प्रशिक्षित का किया जा रहा है. भारत सरकार की इस योजना को “उपेन्द्र महारथी शिल्प अनुसंधान संस्थान”,पटना, के बैनर तले संचालित किया जा रहा है जहाँ एप्लिक व कशीदा प्रशिक्षण, दिया जा रहा है. प्रशिक्षण का यह कार्यक्रम भोजपुर जिलान्तर्गत करमन टोला आरा में चलाया जा रहा है. यहां महिलाओं को तकनीकी ज्ञान से रूबरू मंजे प्रशिक्षक दे रहे हैं. यह एक ऐसी पहल है जो पहले कभी देखने को नहीं मिला. 20 प्रशिक्षुओं को ले शुरू किये गये इस प्रशिक्षण में सबसे खास बात यह हैं कि इन्हें 300 रु.प्रतिदिन के दर से एक रकम भी पशिक्षुओं को दिया जा रहा है. यह रकम वैसी महिलाओं के लिए काफी सहायक है जो कहीं प्रशिक्षण के लिए पैसे के आभाव में नही जा पातीं. ऐसे प्रशिक्षण महिलाओ को अपने घर का बोझ उठाते हुए भी प्रशिक्षण प्राप्त कर अपना और अपने परिवार के भविष्य को संवारने में मददगार हैं. प्रशिक्षण के बाद ये अपना स्वयं का उद्योग स्थापित कर अन्य को भी रोजगार मुहैया कराने में सक्षम होंगी. हस्त शिल्प में राज्य पुरस्कार प्राप्त मास्टर ट्रेनर रुमा वर्मा,जो विगत छः वर्षों से आरा की महिला सशक्तिकरण के प्रति समर्पित संस्था नेशनल साइंटिफिक रिसर्च एंड सोशल अनालीसिस ट्रस्ट के साथ मिलकर महिलाओं को स्वावलंबन हेतु सतत प्रयत्नशील हैं. वे कहती है कि आनेवाले दिनों में भोजपुर की

Read more

लायन्स ने बाल विवाह की रोकथाम के लिए किया आयोजन

लायन्स ने बाल विवाह की रोकथाम के लिए किया आयोजन पटना,5 फरवरी. पटना के प्रेमचंद रंगशाला में लायंस क्लब ऑफ पाटलिपुत्र आदर्श के तत्वधान में बाल विवाह की रोकथाम के लिए लायंस आर ऑसम सीजन-2 का आयोजन किया गया. इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य बाल विवाह रोकना है. कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि लायंस जिला पाल लाइन बीना गुप्ता ने किया. उक्त अवसर पर अतिथियों का स्वागत क्लब के अध्यक्ष लाल श्वेता सिन्हा ने किया. कार्यक्रम को अतिथियों का परिचय एवं कार्यक्रम के उद्देश्य के बारे में कार्यक्रम संयोजक लाल मनीषा बनेडिया ने बताया इस कार्यक्रम में लगभग 3 दर्जन अधिक लोगों ने प्रस्तुति दी, जिसे उपस्थित सभी लोगों ने काफी सराहा. ज्ञात हो कि गत वर्ष भी भ्रूण हत्या के रोकथाम हेतु क्लब द्वारा कार्यक्रम आयोजित किया गया था. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि लॉन बीना गुप्ता ने कहा कि जब तक बाल विवाह समाप्त नहीं होगा तब तक अपराध पर अंकुश नहीं लगेगा. उन्होंने कहा कि इसके लिए व्यापक स्तर पर जागरुकता जरूरी है. उन्होंने राज सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान की सराहना की. साथ ही क्लब द्वारा किए जा रहे प्रयास के लिए साधुवाद दिया. उन्होंने यह भी कहा कि क्लब के सदस्य इस अभियान को जन-जन अभियान बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें और इस कुप्रथा की जड़ मूल से समाप्त करने की भूमिका निभाएं उप जिलापाल लायन डॉ एस के पांडेय एवं अमिताभ चौधरी के साथ-साथ कई वरिष्ठ पदाधिकारी गण ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर अपना अपना विचार व्यक्त किया. कार्यक्रम संध्या 4:00 बजे

Read more

क्या ‘सैटेलाइट बाबा’ का सम्पन्न हुआ ‘वेतनमेघ यज्ञ” ?

क्या ‘सैटेलाइट बाबा’ का सम्पन्न हुआ ‘वेतनमेघ यज्ञ” ? “वेतन महाराज” नाटक के जरिये सिस्टम पर जोरदार प्रहार आरा,5 फरवरी. आरा रंगमंच के कलाकारों ने शिक्षकों के अनियमित वेतन भुगतान की व्यथा को व्यंग्यात्मक नुक्कड़ नाटक ‘वेतन महाराज’ के जरिए सिस्टम पर प्रहार किया. कार्यक्रम की शुरूआत सामाजिक कार्यकर्ता अशोक तिवारी के संबोधन से हुई. हास्य-व्यंग्य से परिपूर्ण “वेतन महाराज” में 6 महीने से वेतन भूगतान न होने के कारण शिक्षकों को एक पंडितजी (सेटेलाइट बाबा) वेतन भूगतान के लिए ‘वेतनमेघ यज्ञ’ करने की सलाह देते है. लेकिन पैसों के अभाव के कारण यज्ञ नही हो पाता. इधर 6 महीने के बाद सरकार द्वारा सिर्फ 1 महीने का वेतन निर्गत करने से शिक्षक इस बात से परेशान हो जाता वह मकान मालिक, दूधवाला, किराना दुकान, और अखबार वाले अपने बकायादारों का कर्ज कैसे चुकता होगा. 6 महीने से अपने बकाए पैसे की बात में टकटकी लगाए बकायादारों को जैसे ही पता चलता हिया कि शिक्षक को एक महीने का वेतन मिल गया है तो वे सभी शिक्षक के घर पहुंचकर उसका पुरा का पुरा एक महीने का वेतन शिक्षक से लेते है व साथ ही शिक्षक को कोसते भी है. हंसाते हंसाते ‘वेतन महाराज’ अंत में दर्शकों को शिक्षको की पीड़ा का एहसास करा जाता है. नाटक के जरिये दर्शकों को शिक्षकों की परेशानियो को महसूस कराने में मुख्य भूमिका सुधीर शर्मा, डॉ पंकज भट्ट, लड्डू भोपाली, निशिकांत सोनी, साहेब अमन, डॉ अनिल सिंह, बम ओझा, मुकेश मुस्कान, संतोष सिंह, सलमान महबूब की रही. गीत-संगीत डॉ पंकज भट्ट व अंजनी

Read more

भोजपुरी पेंटिंग के लिए गांव में कार्यशाला

भोजपुरी पेंटिंग के लिए गांव में कार्यशाला आरा, 4 फरवरी. भोजपुरी पेंटिंग के संवर्धन और संरक्षण के लिए धोबहा के कडरा गांव में 3 दिवसीय पेंटिंग कार्यशाला का शुभारंभ किया गया. कार्यशाला का शुभारंभ दीप प्रज्वलित कर हुआ. मुख्य अतिथि के रुप में सिने अभिनेता आनंद ओझा, वरिष्ठ पत्रकार शमशाद प्रेम, वीरेंद्र बाबा,सत्य वृद्धाश्रम के संस्थापक संजय राय,गीतकार अनिल कुमार तिवारी उर्फ दीपू, जदयू सूचना मंच के अभय विश्वास भट्ट और रंगकर्मी पंकज भट्ट ने कार्यशाला में शामिल हुए. इस मौके पर अतिथियों के स्वागत में ज्योति,लालसा,प्रभा और किरण कुमारी ने बुके देकर अतिथियों का स्वागत किया. कार्यशाला में आयी छात्राओं ने सरस्वती वंदना भी प्रस्तुत किया. इस मौके पर आए अतिथियो ने कहा कि भोजपुरी पेंटिंग समाज मे फैली कुरीतियों को मिटाने में अहम भूमिका निभा सकती है.पेंटिंग एक सशक्त माध्य्म है जिसमे बातों को बिना कहे पेंटिग के माध्यम से कहा जा सकता है. भोजपुरी पेंटिंग हमारी एक पहचान है और इसे देश विदेश पहुचाने की जरूरत है. भोजपुरी पेंटिंग के जरिये कोहबर, और पीड़िया लेखन नौजवानों को बताने की जरूरत है. धन्यवाद ज्ञापन अनूप औलिक ने किया. इस अवसर पर चंदन मिश्रा,रितु सिंह, बबलू सिंह, अखिलेश व्यास, रौशन राय, कृष्णेन्दु, वीरू देवा, अरुण भोले,अमित सिंह,रुपेश कुमार,पूजा भारती,मजहबी बानो,नीरज सिंह, अनिता ओझा और रामबाबू यादव आदि सम्मिलित थे. पटना नाउ ब्यूरो की रिपोर्ट

Read more

DGP ने गाया जब बच्चों के साथ गान

DGP ने गाया जब बच्चों के साथ गान शिक्षा पद के लिए नही ज्ञान के लिए हो- VC वर्चुअल दुनिया से बाहर निकालता है सांस्कृतिक आयोजन आरा 4 फरवरी. आरा के मझौवाँ के शुभ नारायण नगर स्थित शांति स्मृति सम्भावना उच्च विद्यालय में आज वार्षिकोत्सव संपन्न संपन्न हुआ. वार्षिकोत्सव समारोह में विद्यालय के लगभग लगभग 200 छात्र छात्राएं गायन नृत्य वादन और नाटक के माध्यम से अपनी कला का प्रदर्शन किया. समारोह का उद्घाटन, मुख्य उद्घाटनकर्ता के रूप में बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे, मुख्य-अतिथि, VKSU के कुलपति डॉ सैय्यद मुमताजूद्दीन, विशिष्ट-अतिथि, 5 बिहार बटालियन NCC के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विनोद जोशी, मगध विश्वविद्यालय के पूर्व रसायन-शास्त्र के विभागाध्यक्ष प्रोफ़ेसर यू एस पांडेय, बिहार राज्य नागरिक परिषद के पूर्व महासचिव भाई ब्रह्मेश्वर के साथ विद्यालय के निदेशक और विद्यालय की प्राचार्या अर्चना सिंह ने सयुंक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया. वर्चुअल दुनिया से बाहर निकालता है सांस्कृतिक आयोजन विद्यालय की प्राचार्या ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि शिक्षा एक संस्कारजन्य कार्य है और शिक्षा के साथ-साथ बच्चों को संस्कार देना भी आवश्यक है. संस्कार को बनाने में खेलकूद और सांस्कृतिक गतिविधियों का खास योगदान होता है. विद्यालय इस कार्य के लिए हमेशा तत्पर है और इसी उद्देश्य से विद्यालय में समय-समय पर सांस्कृतिक, सामाजिक कार्यक्रम और खेल का आयोजन होता है. बच्चों को मोबाईल और इंटरनेट की दुनिया से बाहर निकालने के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम और खेल ही एकमात्र माध्यम हैं जो संस्कृति से पहचान करा बच्चों में संस्कार के पुष्प भरते हैं. ये संस्कार ही

Read more

सांस्कृतिक रंगों से सराबोर हुआ वार्षिकोत्सव- 2018

सांस्कृतिक रंगों से सराबोर हुआ वार्षिकोत्सव- 2018 नाटक “अंधेर नगरी” का हुआ मंचन पढ़ाई में अव्वल आने वाले 41 बच्चों सहित खेल-कूद और सांस्कृतिक गतिविधियों के लिए भी छात्र हुए पुरस्कृत आरा, 4 फरवरी. मझौवाँ के शुभ नारायण नगर स्थित  सम्भावना उच्च विद्यालय में आज वार्षिकोत्सव संपन्न संपन्न हुआ. कई रंगों से भरे इस आयोजन में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की वानगी के बाद विद्यालय में वर्ष 2017 में अव्वल आने वाले 41 बच्चों सहित कला और खेल में पिछले सत्र में राष्ट्रीय,राज्य और जिला स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वालों को भी पुरस्कृत किया गया. वार्षिकोत्सव-2018 कि तैयारियां लगभग 1 महीने पूर्व से की जा रही थी. संगीत शिक्षक सरोज सुमन के निर्देशन में वार्षिकोत्सव-2018, में गीत-संगीत, नाटक-प्रहसन, गायन, लोक गायन, लोक नृत्य, शास्त्रीय गायन, शास्त्रीय नृत्य, की दमदार प्रस्तुतियों को बच्चों ने प्रस्तुत किया.  कला के कई रंगों से उपस्थित दर्शकों को रंग बच्चों ने खूब तालियां और वाहवाही बटोरा. इस मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आगाज अतिथियों के स्वागत गान से हुआ, जिसमें अंकिता,प्रिया,शगुन,तान्या  और ईशा ने ” धन्य हुआ संभावना आंगन..” ने गाया और  शिखा,शिवानी, उन्नति, अंकिता और कृतिका ने भाव नृत्य पेश किया. उसके बाद सरस्वती वंदना पर खुशबू इंशा करीब करीम नंदिता अवंतिका जया भारती और साक्षी सिंह सिंह ने भाव नृत्य पेश किए.  DGP द्वारा रचित उनके गीत ‘उनको नमन हमारा..’ को रोहित,शिवम, अभिषेक, चंदन,तान्या,प्रिया,कोमल और इशा ने अपने सुरीले और सधे स्वर में इसे गाकर दर्शकों और रचनाकार को चकित कर दिया. अग्रणी प्रिया, स्वीटी,अनन्या,प्रीति मिश्रा, हंसिका, देवी और साक्षी ने ‘दीवानी-मस्तानी…’ पर समूह-नृत्य

Read more

लेखक एवं आईआरएस अधिकारी मुरारीनंद तिवारी याद किए गए

पटना । भारतीय राजस्व सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी और लेखक मुरारीनंद तिवारी को मंगलवार पटना में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में उनके व्यक्तित्व और कृत्तित्व पर प्रकाश डालते हुए उन्हें याद किया गया। श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कम्युनिटी राइट्स एंड डेवलप्मेंट फाउंडेशन (सीआरडीएफ), पटना तत्वाधान में किया गया। मौके पर शिवाविद् और सीआरडीएफ के पदाधिकारी मौजूद थे। श्री तिवारी का 28 दिसंबर, 2017 को इलाज के दौरान नई दिल्ली में निधन हो गया था। वे 83 वर्ष के थे। बिहार के रोहतास जिले के दारानगर में वर्ष 1934 में उनका जन्म हुआ था। स्कूली शिक्षा उन्होंने बढ़हिया हाई स्कूल से पूरी की। उसके बाद बी.ए. और अंग्रेजी में एम.ए. की पढ़ाई पटना विश्विद्यालय से पूरी की। इसके बाद आरा जैन कॉलेज में कुछ साल पढ़ाने के बाद 1959 में वे भारतीय राजस्व सेवा के लिए चुने गए। सेवानिवृत्ति के बाद मुरारीनंद तिवारी ने ‘इसेंशियल हिन्दूइस्ज़म’ और ‘ट्रैवल्स ऑफ ए सिविल सर्वेंट’ पुस्तक लिखी। ‘इसेंशियल हिन्दूइस्ज़म’ पुस्तक पर देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पत्र लिखकर श्री तिवारी के कार्यों को सराहा था। अपनी सरकारी सेवा के दौरान उन्होंने आयकर विभाग में संयुक्त सचिव और अन्य पदों पर कार्य करते हुए महत्वपूर्ण योगदान दिया। 1993 में वे आयकर के मुख्य आयुक्त के पद से सेवानिवृत्त हुए और साथ ही 1995 तक सेटलमेंट कमीशन, कोलकाता के सदस्य के रूप में भी काम किया। श्री तिवारी का आजीवन भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्षरत रहें और संगठित कालेधन के खिलाफ अग्रणी रूप से कार्रवाई भी की। (पटना से राजेश पाण्डे)

Read more

मानव श्रृंखला में शामिल होने के लिए किया गया प्रेरित

नुक्कड़ नाटक के माध्यम से ग्रामीणों को मानव  श्रृंखला में शामिल होने के लिए किया गया प्रेरित गड़हनी(भोजपुर),18 जनवरी. सामाजिक कुरीतियों को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिये सरकार का प्रयास धरातल पर खूब देखने को मिल रहा है,बैनर होर्डिंग पोस्टर के माध्यम से प्रतिदिन देखने को मिलता ही है लेकिन कलाकारों के द्वारा गांव के लोगों के बीच नाटक के माध्यम से जो सीधा संवाद करके बाल विवाह एवम दहेज बंदी के समर्थन आगामी इक्कीस जनवरी को लगने वाले मानव सृंखला में भाग लेने के लिए प्रेरित करते नजर आ रहें है वो काफी प्रभावशाली नजर आ रहा है.आज यही देखने को मिला गड़हनी प्रखंड के गड़हनी गांव में कला जत्था भोजपुर,द्वारा बाल विवाह एवं दहेज प्रथा उन्मूलन अभियान को सफल बनाने के लिए गड़हनी गाँव के मध्य विद्यालय के समक्ष एक नुक्कड़ नाटक बिटिया बहादुर की प्रस्तुति मध्य विद्यालय गड़हनी के प्राचार्य बिजय केशरी,विश्वविद्यालय अध्यक्ष अविनाश राव,तकनीकी जिला अध्यक्ष जदयू शंभु कुमार सोनी एवम गाँव के सैकड़ो छात्र, छात्रा नवजवान,किसान मजदूर,महिला पुरुष की गरिमामयी उपस्थिति में की गई नाटक के माध्यम से बाल विवाह के नुकसान एवम दहेज लोभियों को जेल की हवा खाते दिखाया गया,वहीं बिना दहेज शादी करके समाज को आइना दिखाया गया. नाटक के निर्देशिका साधना श्रीवास्तव के नेतृत्व में हुआ,संगीत में चैतन्य ने अपने गायन से समा बांधा.स्थानीय छात्र जदयू के विश्वविद्यालय के अध्यक्ष अविनाश राव ने कला जत्था के टीम के कलाकारों को गड़हनी के तरफ से स्वागत करने के उपरांत ग्रामीण वासियों बाल विवाह एवम दहेज बंदी के समर्थन में मानव सृंखला

Read more

‘उम्र महज 10′ और चलाता है 10 लोगों का खर्च’

दस वर्ष का कलुआ,दस लोगों का चला रहा है खर्चा गड़हनी(भोजपुर), 17 जनवरी. दुनिया अजीबो-गरीब चीजों से भरी पड़ती है. कभी किसी की हुनर, तो कभी किसी की शैली और कभी किसी चीज की ख़ूबसुरती हमे हमेशा लुभाती रही है. ऐसे ही अनोखे, अद्भुत और सामान्य से अलग घटनाओं, स्थलों और व्यक्तित्व की निरतंर खोज में रहता है ‘पटना नाउ’. इस बार ऐसे ही एक अनोखे बच्चे पर केंद्रित है गड़हनी से हमारे संवाददाता  ‘मुरली मनोहर जोशी’ की खास रिपोर्ट – ‘होनहार वीरवान के होते है चिकने पात’ जी हाँ यह पंक्ति बिल्कुल सटीक बैठती है गड़हनी के कलुआ पर. भोजपुर जिले के गड़हनी प्रखंड के गड़हनी गाँव के उत्तरपटी श्रीनिवास पासवान के घर मे जन्मा कलुआ बिल्कुल शांत और शर्मिला स्वभाव का है. आज महज दस वर्ष की उम्र में अपने परिवार का खर्च निकालने की जद्दोजहद में लगा हुआ है. प्रत्येक वर्ष प्रतिमा बनाकर तकरीबन दस हजार रुपया की करता है कमाई पिछले तीन वर्ष से गड़हनी गाँव में माँ सरस्वती की प्रतिमा बनाकर उसे उचित कीमत पर बेच अपने परिवार को आर्थिक मजबूती देने का काम कर रहा है. आज कलुआ की उम्र  सिर्फ़  दस वर्ष है,हाथों में मूर्ति बनाने का जो इसमे हुनर है वो जीविका का साधन बना हुआ है.आर्थिक रूप से कमजोर होने के चलते कलुआ बहुत कम मूर्तियों का ही निर्माण कर पाता है. कलुआ के दादा मोहन पासवान बताते हैं कि कलुआ बचपन से ही मूर्ति बनाने के लिए मिट्टी के साथ खेला करता था. बिना कहीं सीखे इतनी अच्छी कलाकारी देख

Read more